शराब ठेके के कैण्टीन संचालक को बदमाशों ने उतारा मौत के घाट

लखनऊ , 30 दिसम्बर निगोहां इलाके में गुरुवार की देर रात बदमाशों ने एक देशी शराब के ठेके पर धावा बोला। बदमाशों ने ठेके की कैण्टीन के संचालक को पीट-पीट कर अधमरा कर दिया। इसके बाद ठेके का ताला तोड़कर वहां से 35 हजार रुपये नकद, देशी शराब लूट ले गये। घायल कैण्टीन संचालक रात भर खून से लथपथ वहीं पड़ा रहा। सुबह जब ठेके का सेल्समैन वहां पहुंचा तो उसने घायल कैण्टीन संचालक को
इलाज के लिए सीएचसी में भर्ती कराया, जहां उसकी मौत हो गयी।

मोहनलालगंज के सिसेण्डी निवासी राजेश कुमार की पत्नी के नाम पर निगोहां के मदाखेड़ा गांव में एक देशी शराब का ठेका है। ठेके पर संदीप त्यागी नाम का एक सेल्समैन काम करता है। वहीं देशी शराब के ठेके मेें राजेश का चचेरा साला उन्नाव निवासी मनीष कैण्टीन चलता है। मनीश कैण्टीन बंद होने के बाद शराब ठेके के बाहर बने बरामदे में ही सो जाता था। बताया जाता है कि रोज की तरह गुरुवार की रात को सेल्समैन ठेका बंद करके अपने घर चला गया। वहीं मनीष भी अपनी कैण्टीन बंद करके बरामदे में चारपाई पर सो गये।

देर रात बदमाशों ने ठेके पर धावा बोला। बदमाशों ने सबसे पहले मनीष को पीट-पीट कर लहूलुहान कर दिया। मारपीट में घायल मनीष अधमरा होकर बिस्तर पर ही गिर पड़ा। इसके बाद बदमाशों ने ठेके का ताला तोड़ा डाला। बदमाशों ने ठेके में रखे 30 हजार रुपये व देशी शराब की बोतले लूटी और वहां से फरार हो गये। घायल मनीष खून से लथपथ रात भर बिस्तर पर बेहोशी की हालत में पड़ा रहा। शुक्रवार की सुबह करीब 8 बजे जब ठेके का सेल्समैन संदीप जब सुबह वहां पहुंचा तो मनीष को खून से लथपथ देख सन्न रह गया।

उसने इस बारे में सूचना सबसे पहले राजेश कुमार और फिर पुलिस को दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने अधमरी अवस्था में मनीष को इलाज के लिए सीएचसी मोहनलालगंज में भर्ती कराया, जहां डाक्टरों ने उसको देखते ही मृत घोषित कर दिया। लूट व हत्या की सूचना मिलते ही मौके पर क्राइम ब्रांच व फारेंसिक की टीम भी पहुंच गयी। वहीं निगोहां पुलिस ने छानबीन के बाद मनीष के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

You May Also Like

English News