शहीद की पत्नी से सरकार ने पूछा सवाल- ये कैसा सवाल सब हुए हैरान…

कुरुक्षेत्र के गांव अंथेड़ी के कॉन्स्टेबल मनदीप सिंह 28 अक्टूबर 2016 को जम्मू-कश्मीर के जिला कुपवाड़ा में मछैल सेक्टर में आंतकियों द्वारा की गई गोलीबारी में शहीद हो गए थे। आतंकियों ने शहीद का सिर धड़ से अलग कर दिया गया था और शव के साथ बर्बरता की थी।शहीद की पत्नी से सरकार ने पूछा सवाल- ये कैसा सवाल सब हुए हैरान... अभी-अभी: संजय दत्त की फिल्म भूमि के सेट पर लगी आग, बाल-बाल बचीं ये बड़ी एक्ट्रेस…

इसके बाद शहीद की पत्नी प्रेरणा को सब इंस्पेक्टर की नौकरी मिली। डबल एमए प्रेरणा से वादा किया गया था कि उन्हें इंस्पेक्टर के पद पर प्रमोशन दिया जाएगा और उनके देवर को भी नौकरी दी जाएगी। ऐसा हुआ नहीं और जिला सैनिक बोर्ड के अधिकारियों उन्हें देवर से शादी न करने का ऐफिडेविड देने की मांग की।

अभी-अभी: प्लेन क्रैश हादसे में बॉलीवुड के किंग शाहरुख खान की मौत, शोक में डूबा पूरा बॉलीवुड…

मनदीप सिंह के शहीद होने के बाद सरकार ने उनकी पत्नी से पूछा- क्या आपने मनदीप सिंह के भाई से शादी कर ली है या फिर भविष्य में करने का इरादा है? दरअसल, हरियाणा सरकार पर ये आरोप लगाए हैं जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में शहीद हुए कुरुक्षेत्र जिले के मंदीप सिंह की पत्नी ने। मंदीप सिंह के परिवार ने हरियाणा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

अमिताभ बच्चन ने किया सीएम की पत्नी के साथ ऐसा डांस, अकेले में ही देखे ये विडियो…

हरियाणा पुलिस में बतौर कॉन्स्टेबल तैनात शहीद मनदीप की पत्नी प्रेरणा का आरोप है कि हरियाणा सरकार ने उनके पति की शहादत को पूरी तरह से भुलाकर अपमानित किए जाने वाले सवाल पूछे हैं। प्रेरणा के परिवार का कहना है कि पिछले दिनों जिला सैनिक बोर्ड से एक लेटर भेज कर पूछा गया था कि क्या प्रेरणा ने शहीद मनदीप सिंह के भाई संजीव कुमार से शादी कर ली है या फिर भविष्य में करने का इरादा है?

इस सवाल से आहत परिवार का कहना है कि एक तो वे पहले ही परेशान हैं, उस पर इस तरह के तिरस्कृत करने वाले सवाल पूछना प्रताड़ित करना है। प्रेरणा का कहना है कि वह अपनी ड्यूटी ईमानदारी से निभाती हैं और अब उन पर ही शक किया जा रहा है।

सरकार उनसे शपथपत्र तक मांग रही है कि कहीं उन्होंने देवर से शादी तो नहीं कर ली या क्या भविष्य में करने की योजना है? प्रेरणा का कहना है कि यह किस किस्म का सवाल है। एक महिला होने के नाते मेरे लिए यह अपमानजनक स्थिति है और एक शहीद की शहादत का अपमान है।
बता दें कि गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में हरियाणा सरकार ने शहीद के भाई संजीव कुमार को नौकरी देने का ऐलान किया है। ऐलान के 24 घंटे बाद ही शहीद की पत्नी ने हरियाणा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है।

You May Also Like

English News