शादी नहीं करेंगे तो मर जाएंगे जल्दी, जानें क्या कहता है नया रिसर्च…

शादी करने से दिल सेहतमंद रहता है. ये बात एक नए शोध में सामने आई है. इस शोध के परिणामों को मेडिकल जर्नल हार्ट में प्रकाशित किया गया है.शादी करने से दिल सेहतमंद रहता है. ये बात एक नए शोध में सामने आई है. इस शोध के परिणामों को मेडिकल जर्नल हार्ट में प्रकाशित किया गया है.  शोध में 42 से 77 साल के करीबन 20 लाख लोगों को शामिल किया गया था. ये लोग यूरोप, उत्तरी अमेरिका, मध्य और पूर्व एशिया के रहने वाले थे.  arranged marriages 2  शोध में पता चला कि अलगाव, तलाक, विधवा-विधुर या शादी ना करने वाले लोगों में दिल की बीमारियां होने के 42 फीसदी अधिक खतरा होता है. यही नहीं इन लोगों में 16 फीसीद अधिक कोरोनेरी हर्ट डिसीज का खतरा होता है.  इसी तरह शादीशुदा लोगों की अपेक्षा इन लोगों में दिल की बीमारियों की वजह से मौत होने का खतरा 42 फीसदी तक अधिक बताया गया है.  indian marriages arranged  ये परिणाम पुरुष और महिलाओं, दोनों पर लागू हैं. शोध करने वाले रॉयल स्टोक हॉस्पिटल डिपार्टमेंट ऑफ कॉर्डियोलॉजी के रिसर्चर चुन वाई वॉन्ग ने बताया, ‘इन परिणामों से पता चला है कि दिल की बीमारियों का संबंध शादीशुदा होने या ना होने से है.’शादी करने से दिल सेहतमंद रहता है. ये बात एक नए शोध में सामने आई है. इस शोध के परिणामों को मेडिकल जर्नल हार्ट में प्रकाशित किया गया है.  शोध में 42 से 77 साल के करीबन 20 लाख लोगों को शामिल किया गया था. ये लोग यूरोप, उत्तरी अमेरिका, मध्य और पूर्व एशिया के रहने वाले थे.  arranged marriages 2  शोध में पता चला कि अलगाव, तलाक, विधवा-विधुर या शादी ना करने वाले लोगों में दिल की बीमारियां होने के 42 फीसदी अधिक खतरा होता है. यही नहीं इन लोगों में 16 फीसीद अधिक कोरोनेरी हर्ट डिसीज का खतरा होता है.  इसी तरह शादीशुदा लोगों की अपेक्षा इन लोगों में दिल की बीमारियों की वजह से मौत होने का खतरा 42 फीसदी तक अधिक बताया गया है.  indian marriages arranged  ये परिणाम पुरुष और महिलाओं, दोनों पर लागू हैं. शोध करने वाले रॉयल स्टोक हॉस्पिटल डिपार्टमेंट ऑफ कॉर्डियोलॉजी के रिसर्चर चुन वाई वॉन्ग ने बताया, ‘इन परिणामों से पता चला है कि दिल की बीमारियों का संबंध शादीशुदा होने या ना होने से है.’

शोध में 42 से 77 साल के करीबन 20 लाख लोगों को शामिल किया गया था. ये लोग यूरोप, उत्तरी अमेरिका, मध्य और पूर्व एशिया के रहने वाले थे.

शोध में पता चला कि अलगाव, तलाक, विधवा-विधुर या शादी ना करने वाले लोगों में दिल की बीमारियां होने के 42 फीसदी अधिक खतरा होता है. यही नहीं इन लोगों में 16 फीसीद अधिक कोरोनेरी हर्ट डिसीज का खतरा होता है.

इसी तरह शादीशुदा लोगों की अपेक्षा इन लोगों में दिल की बीमारियों की वजह से मौत होने का खतरा 42 फीसदी तक अधिक बताया गया है.

ये परिणाम पुरुष और महिलाओं, दोनों पर लागू हैं. शोध करने वाले रॉयल स्टोक हॉस्पिटल डिपार्टमेंट ऑफ कॉर्डियोलॉजी के रिसर्चर चुन वाई वॉन्ग ने बताया, ‘इन परिणामों से पता चला है कि दिल की बीमारियों का संबंध शादीशुदा होने या ना होने से है.’

You May Also Like

English News