हुआ बड़ा खुलासा: शास्त्री नहीं चाहते थे जहीर बनें बॉलिंग कोच, हुई थी गांगुली से जमकर बहस

क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (सीएसी) के सदस्य और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली की रवि शास्त्री से बनती नहीं है ये हर भारतीय क्रिकेट फैन जानता है. पिछले साल कोच के चयन के दौरान इन दोनों के बीच खासा गर्मागर्मी हो गई थी. अब खबर ये है कि एक बार फिर सौरव गांगुली और रवि शास्त्री के बीच तकरार हुई है.

हुआ बड़ा खुलासा: शास्त्री नहीं चाहते थे जहीर बनें बॉलिंग कोच, हुई थी गांगुली से जमकर बहस

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो टीम इंडिया के गेंदबाजी कोच को लेकर सौरव गांगुली और रवि शास्त्री के बीच एक राय नहीं थी. सौरव गांगुली और क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी ने जहीर खान को टीम इंडिया का गेंदबाजी कोच चुना, जबकि रवि शास्त्री भरत अरुण को गेंदबाजी कोच चाहते थे.

डीएनए में छपी खबरों की मानें तो गेंदबाजी कोच के मुद्दे पर सौरव गांगुली और रवि शास्त्री के बीच काफी बहस हुई. गेंदबाजी कोच पर शास्त्री और गांगुली दोनों की राय काफी अलग थी. रवि शास्त्री भरत अरुण को गेंदबाजी कोच को बनाने की वकालत कर रहे थे, जबकि गांगुली ने उन्हें साफ मना करते हुए जहीर खान को गेंदबाजी कोच बनाने की बात की.

इसके साथ-साथ ये भी माना जा रहा है कि विराट कोहली की पसंद की वजह से रवि शास्त्री टीम इंडिया के कोच तो बन गए. लेकिन विराट जहीर खान को गेंदबाजी कोच बनाने के पक्ष में थे. मतलब साफ है जहीर खान को गेंदबाजी कोच बनाने के पीछे विराट ने भी कहीं ना कहीं रोल अदा किया.

 

आपको बता दें रवि शास्त्री और सौरव गांगुली के बीच ये तल्खी साल 2016 में शुरू हुई थी, जब रवि शास्त्री ने क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य सौरव गांगुली के कोच के इंटरव्यू के समय अनुपस्थित रहने पर सवाल उठाया था. इसके बाद गांगुली ने शास्त्री पर पलटवार करते हुए पूछा था कि आखिर इतने अहम इंटरव्यू के समय रवि शास्त्री खुद उपस्थित क्यों नहीं थे? वो बैंकॉक में छुट्टियां मनाने क्यों गए थे?

You May Also Like

English News