शेयर बाजार में साप्‍ताहिक समीक्षा से बाजारों में मामूली गिरावट हुई

बीते सप्ताह शेयर बाजारों के कारोबार में मामूली गिरावट देखी गई। प्रमुख सूचकांक गिरावट के साथ बंद हुए, क्योंकि हाल में बाजार में आई रिकॉर्ड ऊंचाई के बाद निवेशक मुनाफा वसूली में जुट गए। सेंसेक्स इस हफ्ते 30,000 के स्तर को पार कर गया था, लेकिन शुक्रवार को यह इस अंक से नीचे गिरकर बंद हुआ। इस सप्ताह पांच में से तीन कारोबारी दिनों में सेंसेक्स में गिरावट देखी गई। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 96.15 अंकों या 0.32 फीसदी की गिरावट के साथ 29,365.30 पर और निफ्टी 31.40 अंकों या 0.34 फीसदी की गिरावट के साथ 9,119.40 पर बंद हुआ। वहीं, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के मिडकैप सूचकांक में 0.95 फीसदी और स्मॉलकैप सूचकांक में 1.91 फीसदी की तेजी देखी गई। वहीं, 4 मई को निफ्टी रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंचकर बंद हुआ। ये भी पढ़े: बड़ी खबर: एक बार फिर दिखा नोटबंदी का असर, खाली मिले सारे एटीएम

बीते सप्ताह के चार कारोबारी दिनों में दो दिन सेंसेक्स में तेजी आई। सोमवार पहली मई को महाराष्ट्र दिवस पर शेयर बाजार बंद रहे। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 59.60 अंकों या 0.19 फीसदी की गिरावट के साथ 29,858.80 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी 18.75 अंकों या 0.2 फीसदी की गिरावट के साथ 9,285.30 पर बंद हुआ। बीएसई के मिडकैप सूचकांक में 0.54 फीसदी और स्मॉलकैप सूचकांक में 0.1 फीसदी की गिरावट आई।

सप्ताह के पहले कारोबारी दिन मंगलवार को सेंसेक्स 2.78 अंकों या 0.01 फीसदी की तेजी के साथ 29,921.18 पर बंद हुआ। बुधवार को सेंसेक्स 26.38 अंकों या 0.09 फीसदी की गिरावट के साथ 29,894.80 पर बंद हुआ। गुरुवार को सेसेंक्स में तेजी देखी गई और यह 231.41 अंकों या 0.77 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 30,126.21 पर बंद हुआ। शुक्रवार को सेंसेक्स में तेज गिरावट देखी गई और यह 267.41 अंकों या 0.89 फीसदी की गिरावट के साथ 29,858.80 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के जिन शेयरों में तेजी रही उनमें एचडीएफसी (0.61 फीसदी), इंफोसिस (1.32 फीसदी), टीसीएस (2.11 फीसदी), विप्रो (0.88 फीसदी), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (2.25 फीसदी), आईसीआईसीआई बैंक (7.2 फीसदी), बजाज ऑटो (0.96 फीसदी), हीरो मोटोकॉर्प (1.38 फीसदी), मारुति सुजुकी (1.88 फीसदी), अडाणी पोर्ट्स (5.51 फीसदी), एशियन पेंट्स (2.38 फीसदी), हिन्दुस्तान यूनीलीवर (1.96 फीसदी), कोल इंडिया (0.76 फीसदी)

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – रिलायंस इंडस्ट्रीज (4.75 फीसदी), टाटा स्टील (3.53 फीसदी), ओएनजीसी (1.56 फीसदी), एक्सिस बैंक (0.92 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (0.65 फीसदी), महिंद्रा एंड महिंद्रा (1.46 फीसदी), टाटा मोटर्स (8.31 फीसदी), ल्यूपिन (6.53 फीसदी), भारती एयरटेल (3.16 फीसदी), एनटीपीसी (2.65 फीसदी)।

वैश्विक रेटिंग एजेंसी फिच ने मंगलवार को भारत की स्थानीय मुद्रा रेटिंग बीबीबी पर बरकरार रखा, लेकिन कहा कि देश का परि²श्य स्थिर है। रेटिंग के बीबीबी स्तर का मतलब सबसे कम निवेश ग्रेड होता है। रेटिंग एजेंसी ने कहा कि उसे उम्मीद है कि साल 2017-18 के दौरान भारत की वास्तविक विकास दर 7.7 फीसदी रह सकती है।

वैश्विक मोर्चे पर, अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में बदलाव नहीं किया है। फेडरल रिजर्व आर्थिक आंकड़ों के पूर्ण आकलन के बाद ही कुछ कड़े कदम उठाना चाहता है।

 

You May Also Like

English News