शैलजा मर्डरः खूबसूरत लड़कियां थीं निखिल की कमजोरी, यह महिला थी ‘खास’

किसी खूबसूरत महिला के प्रति आकर्षण होना एक अलग चीज है, लेकिन उस आकर्षण के चलते अपनी शादीशुदा जिंदगी को ताक पर रख देना बिल्कुल गलत है। यह आकर्षण कभी-कभार दूसरों के लिए जानलेवा तक साबित हो जाता है। शायद शैलजा द्विवेदी के मामले में ऐसा ही हुआ। पुलिस जांच में सामने आया है कि मेजर की पत्नी शैलजा द्विवेदी की हत्या में आरोपित मेजर निखिल हांडा महिला मित्रों की तलाश में डेटिंग साइट की खाक छानता रहता था। पुलिस के मुताबिक, शैलजा की हत्या के बाद मेजर निखिल ने जिस महिला को फोन कर वारदात की जानकारी दी थी, उससे क्वेकक्वेक डॉटइन नामक डेटिंग साइट के माध्यम से उसकी दोस्ती हुई थी। पटेल नगर में रहने वाली इस महिला से भी पुलिस पूछताछ कर रही है।किसी खूबसूरत महिला के प्रति आकर्षण होना एक अलग चीज है, लेकिन उस आकर्षण के चलते अपनी शादीशुदा जिंदगी को ताक पर रख देना बिल्कुल गलत है। यह आकर्षण कभी-कभार दूसरों के लिए जानलेवा तक साबित हो जाता है। शायद शैलजा द्विवेदी के मामले में ऐसा ही हुआ। पुलिस जांच में सामने आया है कि मेजर की पत्नी शैलजा द्विवेदी की हत्या में आरोपित मेजर निखिल हांडा महिला मित्रों की तलाश में डेटिंग साइट की खाक छानता रहता था। पुलिस के मुताबिक, शैलजा की हत्या के बाद मेजर निखिल ने जिस महिला को फोन कर वारदात की जानकारी दी थी, उससे क्वेकक्वेक डॉटइन नामक डेटिंग साइट के माध्यम से उसकी दोस्ती हुई थी। पटेल नगर में रहने वाली इस महिला से भी पुलिस पूछताछ कर रही है।  पश्चिमी जिले के पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने बताया कि इस महिला से आरोपित की दोस्ती कुछ वर्षों पूर्व हुई थी। इस महिला का शादीशुदा जीवन सही नहीं चल रहा था। यह जानने के बाद आरोपित ने इससे भी नजदीकियां बढ़ानी शुरू कर दी। महिला को इस बात का पता था कि आरोपित शादीशुदा है। इस महिला से आरोपित की मुलाकात नहीं हुई थी।   EXCLUSIVE: प्यार तूने क्या किया: दोस्ती में ‘दग़ाबाज़ी’ की ख़ूनी कहानी का क्या है पूरा सच यह भी पढ़ें अब पुलिस यह पता करने का प्रयास कर रही है कि आखिर आरोपित ने उसे ही क्यों घटना की जानकारी दी। महिला ने पूछताछ में बताया कि जब मेजर हांडा ने घटना की जानकारी दी तो उसे यकीन नहीं हुआ।  दिल्ली पुलिस ने मेरठ में गुपचुप किया सीन ऑफ क्राइम बहुचर्चित शैलजा हत्याकांड के आरोपित मेजर निखिल हांडा को साथ लेकर मेरठ में दिल्ली पुलिस ने मंगलवार शाम को सीन ऑफ क्राइम किया। दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में स्थानीय पुलिस को भी जानकारी नहीं दी। हालांकि दिल्ली पुलिस के अफसरों ने एसएसपी मेरठ से फोन पर बात की। सीन ऑफ क्राइम के दौरान दिल्ली के नारायणा थाने की पुलिस ने मेरठ कैंट मेस के कई कर्मचारियों से पूछताछ की। बता दें कि मेजर हत्या करने के बाद एक ऑफिसर्स मेस में रुका था।   सुनंदा पुष्‍कर मौत के मामले में आरोपी शशि थरूर ने दी सफाई, बोले- आरोप आधारहीन यह भी पढ़ें   दिल्ली के नारायणा थाने के इंस्पेक्टर मनोज कुमार मेजर निखिल हांडा को लेकर अपनी टीम के साथ सीधे मेस पहुंचे। कैंट के जिस पार्क में मेजर ने गाड़ी खड़ी की थी, उस पार्क में भी टीम पहुंची। मेजर ने दिल्ली पुलिस के एक सवाल के जवाब में बताया कि वह हत्या करके कार से सीधे मेरठ कैंट पहुंचा था। मेजर ने मेस में अपने आर्मी कार्ड का प्रयोग किया था। उसने सभी औपचारिकताएं भी पूरी कीं।   शैलजा मर्डर केस: वीडियो कॉल के खुलासे के बाद सामने आई पति-पत्‍नी और वो की कहानी यह भी पढ़ें बता दें कि दिल्ली में बराड़ स्क्वायर मेट्रो के पिलर नंबर 11 के पास दिल्ली कैंट निवासी मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी 32 वर्षीय शैलजा द्विवेदी की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। यहीं नहीं, उसकी लाश के ऊपर गाड़ी तक चढ़ाई गई। दिल्ली पुलिस को शैलजा की लाश लावारिस मिली थी। बाद में उसकी पहचान हुई। इस हत्या में मेजर निखिल हांडा को गिरफ्तार किया गया है।     विदेश में जन्मा यह शख्स बना था दिल्ली का पहला CM, नेहरू जी का था लाडला यह भी पढ़ें दिल्ली में हत्या कर मेरठ में जलाई टी-शर्ट और तौलिया शैलजा हत्याकांड के आरोपित मेजर निखिल राय हांडा ने दिल्ली में हत्या करने के बाद मेरठ में पहुंचकर खून से सनी टी-शर्ट और तौलिया जलाया था। सूत्र बताते हैं कि मेजर ने दिल्ली-दून हाईवे के पास किसी स्थान पर उन्हें जलाया था, जहां पर साक्ष्यों का खात्मा किया गया, वहां का स्थानीय जायजा लेने के लिए दिल्ली पुलिस बहुत जल्द मेरठ आ सकती है। फोरेंसिक टीम से भी इस बाबत संपर्क साधा गया है। इसके अलावा उसने अपनी कार को भी धुलवा दिया था। उसके चक्के तक बदलवा दिए, ताकि साक्ष्य कहीं भी पुलिस के हाथ न लगे। सूत्रों की मानें तो आरोपित मेजर के पास से दीमापुर की फ्लाइट के दो ई-टिकट भी मिले हैं, जिनमें से एक शैलजा द्विवेदी के नाम का है।  ऑटो चालक ने दी थी सड़क पर शव होने की जानकारी मेजर की पत्नी शैलजा द्विवेदी का खून से लथपथ पड़ा शव देखने के बाद वारदात की पुलिस को जानकारी देने वाला पहला शख्स एक ऑटो चालक था। दिल्ली कैंट मेट्रो स्टेशन के पास एक बस्ती में रहने वाले दीपक ने शव देखने के बाद फौरन मामले से पुलिस को अवगत कराया। दीपक के 100 नंबर डायल करने के 10 मिनट बाद ही मौके पर पुलिस पहुंच गई।  दीपक ने बताया कि शव होने की जानकारी उन्हें एक टैंकर चालक ने दी। शनिवार को तबीयत खराब होने के कारण वे घर में ही थे। दोपहर बाद जब तबीयत कुछ ठीक हुई तो वे बाइक से जा रहे थे। उनके साथ तीन अन्य दोस्त थे। वे लोग रास्ते से गुजर ही रहे थे कि एक टैंकर चालक ने जब सड़क पर महिला का शव देखा तो उसे ऐसा लगा कि मानो वह उनकी ही बस्ती की रहने वाली है। उसने जैसे ही सड़क पर महिला के शव होने की बात बताई तो वे घटनास्थल के पास पहुंचे।    वहां शव नजर आते ही उन्होंने तत्काल 100 नंबर डायल कर मामले से पुलिस को अवगत कराया। कॉल करने के बाद ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। इसके बाद तो दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का घटनास्थल पर पहुंचने का सिलसिला ही शुरू हो गया। दीपक ने बताया कि बाद में टीवी देखने पर पता चला कि महिला मेजर की पत्नी थी।

पश्चिमी जिले के पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने बताया कि इस महिला से आरोपित की दोस्ती कुछ वर्षों पूर्व हुई थी। इस महिला का शादीशुदा जीवन सही नहीं चल रहा था। यह जानने के बाद आरोपित ने इससे भी नजदीकियां बढ़ानी शुरू कर दी। महिला को इस बात का पता था कि आरोपित शादीशुदा है। इस महिला से आरोपित की मुलाकात नहीं हुई थी।

अब पुलिस यह पता करने का प्रयास कर रही है कि आखिर आरोपित ने उसे ही क्यों घटना की जानकारी दी। महिला ने पूछताछ में बताया कि जब मेजर हांडा ने घटना की जानकारी दी तो उसे यकीन नहीं हुआ।

दिल्ली पुलिस ने मेरठ में गुपचुप किया सीन ऑफ क्राइम
बहुचर्चित शैलजा हत्याकांड के आरोपित मेजर निखिल हांडा को साथ लेकर मेरठ में दिल्ली पुलिस ने मंगलवार शाम को सीन ऑफ क्राइम किया। दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में स्थानीय पुलिस को भी जानकारी नहीं दी। हालांकि दिल्ली पुलिस के अफसरों ने एसएसपी मेरठ से फोन पर बात की। सीन ऑफ क्राइम के दौरान दिल्ली के नारायणा थाने की पुलिस ने मेरठ कैंट मेस के कई कर्मचारियों से पूछताछ की। बता दें कि मेजर हत्या करने के बाद एक ऑफिसर्स मेस में रुका था।

दिल्ली के नारायणा थाने के इंस्पेक्टर मनोज कुमार मेजर निखिल हांडा को लेकर अपनी टीम के साथ सीधे मेस पहुंचे। कैंट के जिस पार्क में मेजर ने गाड़ी खड़ी की थी, उस पार्क में भी टीम पहुंची। मेजर ने दिल्ली पुलिस के एक सवाल के जवाब में बताया कि वह हत्या करके कार से सीधे मेरठ कैंट पहुंचा था। मेजर ने मेस में अपने आर्मी कार्ड का प्रयोग किया था। उसने सभी औपचारिकताएं भी पूरी कीं।

बता दें कि दिल्ली में बराड़ स्क्वायर मेट्रो के पिलर नंबर 11 के पास दिल्ली कैंट निवासी मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी 32 वर्षीय शैलजा द्विवेदी की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। यहीं नहीं, उसकी लाश के ऊपर गाड़ी तक चढ़ाई गई। दिल्ली पुलिस को शैलजा की लाश लावारिस मिली थी। बाद में उसकी पहचान हुई। इस हत्या में मेजर निखिल हांडा को गिरफ्तार किया गया है।
दिल्ली में हत्या कर मेरठ में जलाई टी-शर्ट और तौलिया
शैलजा हत्याकांड के आरोपित मेजर निखिल राय हांडा ने दिल्ली में हत्या करने के बाद मेरठ में पहुंचकर खून से सनी टी-शर्ट और तौलिया जलाया था। सूत्र बताते हैं कि मेजर ने दिल्ली-दून हाईवे के पास किसी स्थान पर उन्हें जलाया था, जहां पर साक्ष्यों का खात्मा किया गया, वहां का स्थानीय जायजा लेने के लिए दिल्ली पुलिस बहुत जल्द मेरठ आ सकती है। फोरेंसिक टीम से भी इस बाबत संपर्क साधा गया है। इसके अलावा उसने अपनी कार को भी धुलवा दिया था। उसके चक्के तक बदलवा दिए, ताकि साक्ष्य कहीं भी पुलिस के हाथ न लगे। सूत्रों की मानें तो आरोपित मेजर के पास से दीमापुर की फ्लाइट के दो ई-टिकट भी मिले हैं, जिनमें से एक शैलजा द्विवेदी के नाम का है।

ऑटो चालक ने दी थी सड़क पर शव होने की जानकारी
मेजर की पत्नी शैलजा द्विवेदी का खून से लथपथ पड़ा शव देखने के बाद वारदात की पुलिस को जानकारी देने वाला पहला शख्स एक ऑटो चालक था। दिल्ली कैंट मेट्रो स्टेशन के पास एक बस्ती में रहने वाले दीपक ने शव देखने के बाद फौरन मामले से पुलिस को अवगत कराया। दीपक के 100 नंबर डायल करने के 10 मिनट बाद ही मौके पर पुलिस पहुंच गई।

दीपक ने बताया कि शव होने की जानकारी उन्हें एक टैंकर चालक ने दी। शनिवार को तबीयत खराब होने के कारण वे घर में ही थे। दोपहर बाद जब तबीयत कुछ ठीक हुई तो वे बाइक से जा रहे थे। उनके साथ तीन अन्य दोस्त थे। वे लोग रास्ते से गुजर ही रहे थे कि एक टैंकर चालक ने जब सड़क पर महिला का शव देखा तो उसे ऐसा लगा कि मानो वह उनकी ही बस्ती की रहने वाली है। उसने जैसे ही सड़क पर महिला के शव होने की बात बताई तो वे घटनास्थल के पास पहुंचे।

वहां शव नजर आते ही उन्होंने तत्काल 100 नंबर डायल कर मामले से पुलिस को अवगत कराया। कॉल करने के बाद ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। इसके बाद तो दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का घटनास्थल पर पहुंचने का सिलसिला ही शुरू हो गया। दीपक ने बताया कि बाद में टीवी देखने पर पता चला कि महिला मेजर की पत्नी थी।

You May Also Like

English News