श्रीदेवी के जाने के साथ ही अधूरी रह गई लखनऊ की हसरत

2013 में लखनऊ के सहारा शहर में आयोजित दुर्गा पूजा अन्य सालों की अपेक्षा कुछ खास थी। और इसे खास बनाया था बॉलीवुड की पहली सुपरस्टार श्रीदेवी की उपस्थिति ने। श्रीदेवी के जाने के साथ ही अधूरी रह गई लखनऊ की हसरत

 दक्षिण भारत में जन्मी और मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री में राज करने वाली श्रीदेवी के लिए यह पहला मौका था, जब वह किसी दुर्गा पूजा का हिस्सा बनीं थी। बंगाली साड़ी और सिंदूर के रंग में रंगी श्रीदेवी इस पूरे आयोजन में आकर्षण का केंद्र थीं।

इस कार्यक्रम में उनकी भूमिका सिर्फ एक सेलेब्रिटी तक सीमित नहीं थी। वह इस आयोजन का हिस्सा थीं। पूजा की सभी रस्मों को उन्होंने पूरे विधि-विधान के साथ पूरा किया था। ‘सिंदूर खेला’ की रश्म के दौरान उन्होंने पति बोनी कपूर का नाम अपनी पीठ पर सिंदूर से लिखा था। 

शनिवार देर रात दुबई में उनकी अकस्मात मौत से नवाबों के इस शहर की श्रीदेवी के साथ दोबारा दुर्गा पूजा मनाने की ख्वाहिश अधूरी रह गई। लखनऊ से विदा होते वक्त उन्होंने इस आयोजन को अपने जीवन का पहला अनुभव बताया था और दोबारा शामिल होने की इच्छा जताई थी।

गौरतलब है कि दुबई में एक शादी समारोह में हिस्सा लेने गई मशहूर अभिनेत्री श्रीदेवी की शनिवार देर रात कार्डिएक अरेस्ट से मौत हो गई। 2013 में पद्मश्री सम्मान से नवाजी गई श्रीदेवी अपने पीछे जाह्वी, खुशी और पति बोनी कपूर को छोड़ गईं।

 

You May Also Like

English News