श्रीलंका ने पकड़े 4 भारतीय मछुवारे, नए कानूनों से लगेगा फाइन?

श्रीलंका की नौसेना ने रविवार को चार भारतीय मछुवारों को गिरफ्तार कर लिया. श्रीलंकाई नौसेना ने इन मछुवारों को तब गिरफ्तार किया जब उनकी नौका भारत और श्रीलंका के बीच अंतरराष्ट्रीय मैरीटाइम बॉर्डर में प्रवेश कर गई.श्रीलंका की नौसेना ने रविवार को चार भारतीय मछुवारों को गिरफ्तार कर लिया. श्रीलंकाई नौसेना ने इन मछुवारों को तब गिरफ्तार किया जब उनकी नौका भारत और श्रीलंका के बीच अंतरराष्ट्रीय मैरीटाइम बॉर्डर में प्रवेश कर गई.  इन मछुवारों को कांकेसंतुरई बंदरगाह पर रखा गया है. सभी मछुवारे तमिलनाडु के रामेश्वरम के रहने वाले हैं. गौरतलब है कि श्रीलंकाई नौसेना ने इस हफ्ते 16 मछुवारों समेत तीन भारतीय नौकाओं को जब्त किया है.  यह गिरफ्तारी उस वक्त हुई जब केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने भारत में समुद्री मत्सय उद्योग संबंधी  सलाहकार समिति द्वारा आयोजित एक सत्र में ये बयान दिया था कि अब कोई भी भारतीय मछुवारा श्रीलंका की गिरफ्त में नहीं है. वहीं राधामोहन सिंह ने रामेश्वरम के मछुवारों की सुरक्षा और सहयोग को लेकर आश्वासन भी दिया था. ये मछुवारे अक्सर श्रीलंका नौसेना द्वारा मछली पकड़ने के दौरान गिरफ्तार हो जाते हैं.  सूत्रों के अनुसार इस मछुवारों के खिलाफ श्रीलंका सरकार द्वारा हाल ही में संशोधित फॉरेन फिशरीज़ बोट्स रेगुलेशन एक्ट के तहत कार्रवाई हो सकती है. नए संशोधन के मुताबिक वे नौकाएं जो अवैध तरीके से श्रीलंका के क्षेत्र में प्रवेश करेंगी उनपर उनके आकार के आधार पर जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है.  मसलन 15 मीटर से कम लंबाई की नौकाओं पर 50 लाख व 15-24 मीटर की नौकाओं पर 2 करोड़ जुर्माना लगाने का प्रवाधान के साथ-साथ जो नौकाएं पकड़ी जाएंगी वह हमेशा के लिए श्रीलंका के कब्जे में रहेंगी.

इन मछुवारों को कांकेसंतुरई बंदरगाह पर रखा गया है. सभी मछुवारे तमिलनाडु के रामेश्वरम के रहने वाले हैं. गौरतलब है कि श्रीलंकाई नौसेना ने इस हफ्ते 16 मछुवारों समेत तीन भारतीय नौकाओं को जब्त किया है.

यह गिरफ्तारी उस वक्त हुई जब केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने भारत में समुद्री मत्सय उद्योग संबंधी  सलाहकार समिति द्वारा आयोजित एक सत्र में ये बयान दिया था कि अब कोई भी भारतीय मछुवारा श्रीलंका की गिरफ्त में नहीं है. वहीं राधामोहन सिंह ने रामेश्वरम के मछुवारों की सुरक्षा और सहयोग को लेकर आश्वासन भी दिया था. ये मछुवारे अक्सर श्रीलंका नौसेना द्वारा मछली पकड़ने के दौरान गिरफ्तार हो जाते हैं.

सूत्रों के अनुसार इस मछुवारों के खिलाफ श्रीलंका सरकार द्वारा हाल ही में संशोधित फॉरेन फिशरीज़ बोट्स रेगुलेशन एक्ट के तहत कार्रवाई हो सकती है. नए संशोधन के मुताबिक वे नौकाएं जो अवैध तरीके से श्रीलंका के क्षेत्र में प्रवेश करेंगी उनपर उनके आकार के आधार पर जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है.

मसलन 15 मीटर से कम लंबाई की नौकाओं पर 50 लाख व 15-24 मीटर की नौकाओं पर 2 करोड़ जुर्माना लगाने का प्रवाधान के साथ-साथ जो नौकाएं पकड़ी जाएंगी वह हमेशा के लिए श्रीलंका के कब्जे में रहेंगी.

You May Also Like

English News