नीतीश पर सिकंजा कसते हुए तेजस्वी ने कहा- ‘तेजस्वी एक बहाना था इनको बीजेपी के साथ जाना था’

पटना: बुधवार की रात बिहार की सियासत सड़क पर थी। महागठबंधन टूट चुका था और अब अपनी नई सरकार बनाने की लड़ाई थी। नीतीश कुमार ने एनडीए के साथ मिलकर नई सरकार बनाने की दावेदारी की घोषणा की तो तेजस्वी यादव ने भी नई सरकार बनाने के दावे का ऐलान किया। हालांकि, तब तक गुरुवार शाम 5 बजे नीतीश के शपथ ग्रहण समारोह की घोषणा हो चुकी थी।नीतीश पर सिकंजा कसते हुए तेजस्वी ने कहा- 'तेजस्वी एक बहाना था इनको बीजेपी के साथ जाना था'
जब तक तेजस्वी ने गणित लगाकर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया तब तक नीतीश उस रास्ते पर निकल चुके थे। नीतीश राज्यपाल से मिले और मीडिया को खबर मिली कि सुबह 10 बजे नीतीश की ताजपोशी होगी और सुशील मोदी डेप्युटी सीएम पद की शपथ लेंगे।

इस बात की खबर लगते ही तेजस्वी भी पूरे हुजूम के साथ राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी से मिलने राजभवन जा पहुंचे। तेजस्वी ने इस मौके पर नीतीश को खूब निशाने पर लिया। वह बार-बार कहते रहे, ‘तेजस्वी एक बहाना था, इनको बीजेपी के साथ जाना था।’ उन्होंने कहा,’किस मुंह से ये शपथ लेने का काम करेंगे? इन (नीतीश) पर मर्डर का केस चल रहा है।’ तेजस्वी ने कहा, मुझे मोहरा बनाकर नीतीश जी अपनी छवि चमकाने का काम कर रहे थे। उन्होंने गांधी के हत्यारों के साथ हाथ मिलाया।’

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकर अजीत डोभाल गुरुवार को पहुंच रहे हैं बीजिंग, होगी डोकलाम विवाद पर बात

तेजस्वी ने इस बीच नीतीश को फिर से चुनाव लड़ने की चुनौती भी दे दी। तेजस्वी पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की वजह से नीतीश ने इस्तीफा दिया। इस पर तेजस्वी ने कहा,’किस आधार पर वह हम पर सवाल उठा रहे हैं, वह खुद दागी हैं, उन पर धारा 302 लगी है। जनता हमारे साथ है, हम चाहते हैं कि नीतीश पब्लिक के सामने उनके ऊपर लगा मर्डर केस एक्सप्लेन करें।’

शपथग्रहण का समय शाम 5 बजे से सुबह 10 बजे कर देने के राज्यपाल के फैसले से आहत होकर तेजस्वी ने कहा, मुझे बदनाम किया जाता रहा है। बिहार के लोग देख रहे हैं। सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते हमें बुलाया जाना चाहिए था। मैं नीतीश कुमार को बताना चाहूंगा कि मुझे मोहरा बनाकर जो वह अपना चेहरा चमकाने का काम कर रहे हैं, बिहार की जनता सब देख रही है।’

टीम इंडिया: गॉल का इतिहास बदलने और सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाने के इरादे से भारत…

तेजस्वी और 5 आरजेडी नेता आधी रात को राज्यपाल से मिले। राज्यपाल ने कहा, ‘अब तो मैं उन्हें लेटर दे चुका हूं और इसे वापस नहीं किया जा सकता।’

 

You May Also Like

English News