संजू यो-यो टेस्ट में फेल, इंग्लैंड दौरे के लिए इंडिया-ए टीम से हुए बाहर

संजू सैमसन इंग्लैंड जाने वाली इंडिया-ए टीम से बाहर हो गए हैं. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने यो-यो टेस्ट में फेल हो जाने की वजह से 23 साल के इल बल्लेबाज को दौरे पर जाने से मना कर दिया. श्रेयस अय्यर की कप्तानी वाली टीम शनिवार को दिल्ली से लंदन के लिए रवाना हुई, लेकिन संजू नहीं जा पाए.संजू सैमसन इंग्लैंड जाने वाली इंडिया-ए टीम से बाहर हो गए हैं. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने यो-यो टेस्ट में फेल हो जाने की वजह से 23 साल के इल बल्लेबाज को दौरे पर जाने से मना कर दिया. श्रेयस अय्यर की कप्तानी वाली टीम शनिवार को दिल्ली से लंदन के लिए रवाना हुई, लेकिन संजू नहीं जा पाए.  मुंबई मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक संजू सैमसन यो-यो टेस्ट के तहत 16.1 का स्कोर करने में नाकाम रहे, जिसे भारतीय टीम ने टीम में शामिल होने के लिए मानक बना रखा है.  ये भी पढ़िए- संजू के क्रिकेट के लिए पिता ने छोड़ी थी दिल्ली पुलिस की नौकरी  संजू सैमसन ने आईपीएल 2018 में 31.50 की औसत से 441 रन बनाए. राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें इस साल 8 करोड़ रुपये में खरीदा था. विजय हजारे ट्रॉफी में भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा था. बेंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट एकेडमी के सूत्रों ने बताया कि कुछ ही दिन पहले खिलाड़ियों का यो-यो टेस्ट हुआ था.  इंग्लैंड दौरे में वनडे ट्राई सीरीज के लिए 16 सदस्यीय इंडिया-ए टीम टीम की घोषणा 8 मई को की गई थी. टीम के रवाना होने से पहले संजू सैमसन का रिप्लेसमेंट नहीं मिल सका है, उम्मीद है जल्द ही किसी को भेजा जाएगा.  इंडिया-ए टीम (इंग्लैंड में वनडे ट्राई सीरीज के लिए) -  श्रेयस अय्यर (कप्तान), पृथ्वी शॉ, मयंक अग्रवाल, शुभमान गिल, हनुमा विहारी, दीपक हुड्डा, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), विजय शंकर, के. गौतम, अक्षर पटेल, क्रुणाल पंड्या, प्रसिद्ध कृष्ण, दीपक चाहर, खलील अहमद, शार्दुल ठाकुर  आखिर क्या है यो-यो टेस्ट..?  अब जरा 'यो-यो' परीक्षण को भी समझ लें. कई 'कोन' की मदद से 20 मीटर की दूरी पर दो पंक्तियां बनाई जाती हैं. एक खिलाड़ी रेखा के पीछे अपना पांव रखकर शुरुआत करता है और निर्देश मिलते ही दौड़ना शुरू करता है. खिलाड़ी लगातार दो लाइनों के बीच दौड़ता है और जब बीप बजती है तो उसने मुड़ना होता है.  हर एक मिनट या इसी तरह से तेजी बढ़ती जाती है. अगर समय पर रेखा तक नहीं पहुंचे तो दो और 'बीप' के अंतर्गत तेजी पकड़नी पड़ती है. अगर खिलाड़ी दो छोरों पर तेजी हासिल नहीं कर पाता है तो परीक्षण रोक दिया जाता है. यह पूरी प्रक्रिया सॉफ्टवेयर पर आधारित है, जिसमें नतीजे रिकॉर्ड किए जाते हैं.

मुंबई मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक संजू सैमसन यो-यो टेस्ट के तहत 16.1 का स्कोर करने में नाकाम रहे, जिसे भारतीय टीम ने टीम में शामिल होने के लिए मानक बना रखा है.

संजू सैमसन ने आईपीएल 2018 में 31.50 की औसत से 441 रन बनाए. राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें इस साल 8 करोड़ रुपये में खरीदा था. विजय हजारे ट्रॉफी में भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा था. बेंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट एकेडमी के सूत्रों ने बताया कि कुछ ही दिन पहले खिलाड़ियों का यो-यो टेस्ट हुआ था.

इंग्लैंड दौरे में वनडे ट्राई सीरीज के लिए 16 सदस्यीय इंडिया-ए टीम टीम की घोषणा 8 मई को की गई थी. टीम के रवाना होने से पहले संजू सैमसन का रिप्लेसमेंट नहीं मिल सका है, उम्मीद है जल्द ही किसी को भेजा जाएगा.

श्रेयस अय्यर (कप्तान), पृथ्वी शॉ, मयंक अग्रवाल, शुभमान गिल, हनुमा विहारी, दीपक हुड्डा, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), विजय शंकर, के. गौतम, अक्षर पटेल, क्रुणाल पंड्या, प्रसिद्ध कृष्ण, दीपक चाहर, खलील अहमद, शार्दुल ठाकुर

आखिर क्या है यो-यो टेस्ट..?

अब जरा ‘यो-यो’ परीक्षण को भी समझ लें. कई ‘कोन’ की मदद से 20 मीटर की दूरी पर दो पंक्तियां बनाई जाती हैं. एक खिलाड़ी रेखा के पीछे अपना पांव रखकर शुरुआत करता है और निर्देश मिलते ही दौड़ना शुरू करता है. खिलाड़ी लगातार दो लाइनों के बीच दौड़ता है और जब बीप बजती है तो उसने मुड़ना होता है.

हर एक मिनट या इसी तरह से तेजी बढ़ती जाती है. अगर समय पर रेखा तक नहीं पहुंचे तो दो और ‘बीप’ के अंतर्गत तेजी पकड़नी पड़ती है. अगर खिलाड़ी दो छोरों पर तेजी हासिल नहीं कर पाता है तो परीक्षण रोक दिया जाता है. यह पूरी प्रक्रिया सॉफ्टवेयर पर आधारित है, जिसमें नतीजे रिकॉर्ड किए जाते हैं.

You May Also Like

English News