संसद का मॉनसून सत्र आज से, सरकार को घेरने के लिए विपक्ष ने कसी कमर

संसद का मानसून सत्र सोमवार से शुरू हो गया है. सत्र शुरू होते ही अमरनाथ यात्रा के दौरान हुए आतंकी हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई. वहीं पूर्व लोकसभा सांसद विनोद खन्ना, अनिल माधव दवे को भी श्रद्धांजलि दी गई, जिसके बाद कार्यवाही को स्थगित कर दिया गया. 

संसद का मॉनसून सत्र आज से, सरकार को घेरने के लिए विपक्ष ने कसी कमर

इससे पहले संसद सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज मानसून सत्र का प्रारंभ हो रहा है. गर्मी के बाद, पहली वर्षा एक नई सुगंध मिट्टी में भर देती है, वैसे यह मानसून सत्र जीएसटी की सफल वर्षा के कारण, पूरा सत्र नई सुगंध और नई उमंग से भरा हुआ होगा.

जब देश के सभी राजनीतिक दल, सभी सरकारें सिर्फ और सिर्फ राष्‍ट्रहित के तराजू पर तोल करके निर्णय करती हैं, तो कितना महत्‍वपूर्ण राष्‍ट्रहित का काम होता है, वो जीएसटी में सफल और सिद्ध हो चुका है. ‘Growing Stronger Together’ यह जीएसटी की स्पिरिट का दूसरा नाम है. यह सत्र भी उस जीएसटी स्पिरिट के साथ आगे बढ़े.

चीनी मीडिया ने दी बड़ी धमकी, कहा- समझौते का सवाल नहीं, भारत को पीछे हटना ही पड़ेगा…

यह सत्र अनेक रूप से महत्‍वपूर्ण है. 15 अगस्‍त को आजादी के सात दशक यात्रा पूर्ण कर रहे हैं. 09 अगस्‍त को सत्र के दरम्‍यान ही अगस्‍त क्रांति के 75 साल हो रहे हैं. ‘Quit India’ Movement के 75 साल का यह अवसर है. यही सत्र है जब देश को नए राष्‍ट्रपति और नए उपराष्‍ट्रपति चुनने का अवसर मिला है. एक प्रकार से राष्‍ट्र जीवन के अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण घटनाओं से भरा हुआ यह कालखंड है और इसलिए स्‍वाभाविक है कि देशवासियों का ध्‍यान हमेशा की तरह इस मानसून सत्र पर विशेष रहेगा.

जब हम मानसून सत्र का प्रारंभ कर रहे हैं तो उस प्रांरभ में, हम देश के उन किसानों को नमन करते हैं जो इस ऋतु में कठोर परिश्रम करके देशवासियों के खाद्य सुरक्षा का इंतजाम करते हैं और उन्‍हीं को नमन करते हुए यह सत्र का प्रारंभ होता है. इस मानसून सत्र में मुझे विश्‍वास है कि सभी राजनीतिक दल, सभी मान्‍य सांसद गण राष्‍ट्रहित के महत्‍वपूर्ण फैसले ले करके, उत्‍तम स्‍तर की चर्चा करके, हर विचार में value-addition करने का प्रयास, हर व्‍यवस्‍था में value-addition का प्रयास हम सब मिल करके करेंगे, ऐसा मेरा पूरा विश्‍वास है.

सर्वदलीय बैठक में मोदी का गोरक्षकों को संदेश

मानसून सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी को लेकर कड़ा रुख अपनाया है. सभी पार्टियों के नेताओं के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर असामाजिक लोग हिंसा कर रहे हैं. इन सभी के खिलाफ राज्य सरकारें कड़ी कार्रवाई करें. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में गोमाता की रक्षा होनी चाहिए और उसके लिए कानून है, लेकिन जो तत्व इसका नाजायज फायदा उठा रहे हैं. उस पर सभी राज्य कार्रवाई करें.

चीनी मीडिया ने दी बड़ी धमकी, कहा- समझौते का सवाल नहीं, भारत को पीछे हटना ही पड़ेगा…

राष्ट्रपति चुनाव पर बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने सभी दलों का धन्यवाद किया. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर आम सहमति रहती, तो अच्छा रहता. अब तक आपस में कटुता का कोई भाव नहीं आया, इसके लिए सभी लोग बधाई के पात्र हैं.

बता दें कि मॉनसून सत्र के पहले दिन सदन में कोई विधायी काम नहीं होगा. इन दिन दिवंगत हुए दो सदस्यों लोकसभा सदस्य व अभिनेता विनोद खन्ना और राज्यसभा सदस्य व पू्र्व केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे को श्रद्धांजलि देकर कार्यवाही स्थगित हो जाएगी. इन दोनों नेताओं का पिछले दिनों निधन हो गया था.

You May Also Like

English News