सदर अस्पताल में 24 लाख के दवा घोटाले में जांच तेज

 सदर अस्पताल में 24 लाख रुपये के दवा खरीद घोटाला मामले में पुलिस ने आरोपितों पर शिकंजा कसने के लिए जांच तेज कर दी है। लंबित मामलों के निष्पादन के क्रम में नगर डीएसपी मुकुल कुमार रंजन ने इस केस की समीक्षा की। उन्होंने आइओ दारोगा सुभाष चंद्र सिंह को 10 बिंदुओं पर जांच कर आगे की कार्रवाई का निर्देश दिया है।

बता दें कि जनवरी में अधिवक्ता पंकज कुमार ने घोटाले को लेकर कोर्ट में परिवाद दायर कराया था। इस पर नगर थाने में सिविल सर्जन डॉ. ललिता सिंह, जिला लेखा प्रबंधक, जिला स्वास्थ समिति मो. हैदर और एक दवा कंपनी के प्रोपराइटर एसके भगत को आरोपित किया गया था। इसमें सरकारी राशि के गबन का आरोप लगाया गया था। मामला पांच माह से लंबित था। आइओ भी बदले, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई और जांच भी आगे नहीं बढ़ी।

कागजात उपलब्ध कराने को लिखा पत्र : आइओ की मानें तो वरीय अधिकारी से जांच का निर्देश मिलने के बाद वे सदर अस्पताल गए थे। लेकिन, सिविल सर्जन से मुलाकात नहीं हुई। जांच में दिए गए बिंदुओं में कुछ दवा खरीद-बिक्री संबंधित कागजात देखने का निर्देश मिला है। अस्पताल प्रबंधन को उन्होंने पत्र लिखकर अविलंब सभी कागजात उपलब्ध कराने को कहा

यह है मामला : पटना की एक दवा कंपनी से जिला स्वास्थ समिति ने 24 लाख रुपये की दवाइयां खरीदने का आदेश निर्गत किया था। राशि का अग्रिम भुगतान कर सरकारी राशि का गबन करने का आरोप अधिवक्ता ने लगाया। साथ ही आरोपितों द्वारा विभिन्न माध्यम से केस उठाने के लिए दबाव देने की बात का भी जिक्र किया।

You May Also Like

English News