सपा-कांग्रेस में नहीं बनी बात, अब अमेठी-रायबरेली में शुरू होगी दोस्ताना जंग

नई दिल्ली। उप्र में गठबंधन के बाद भी कांग्रेस के गढ़ रायबरेली व अमेठी जिलों की 10 सीटों के बंटवारे पर सपा के साथ सहमति नहीं बन सकी है। अब इन सीटों पर दोनों के बीच चुनावी जंग को “दोस्ताना जंग” का नाम दिया जा रहा है। जिन तीन सीटों ऊंचाहार, अमेठी और गौरीगंज पर टकराव के हालात बने थे वहां कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार तय कर गठबंधन को उलझा दिया है।

सपा-कांग्रेस में नहीं बनी बात, अब अमेठी-रायबरेली में शुरू होगी दोस्ताना जंग

‘मुलायम ने पुत्रमोह में किया शिवपाल का अपमान, उठाएंगे भारी नुकसान’

हालांकि कांग्रेस का दावा है कि फ्रेंडली फाइट का फैसला आपसी सहमति से किया गया। सोमवार को कांग्रेस हाईकमान के फैसले की जानकारी देते हुए अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रतिनिधि केएल शर्मा ने बताया कि पूर्व विधायक अजयपाल सिंह को ऊंचाहार से चुनाव लड़ाया जाएगा। इस सीट पर कैबिनेट मंत्री मनोज पांडेय भी नामांकन पत्र दाखिल कर चुके है।

मुलायम के निकटस्थ माने जाने वाले मनोज पांडेय के लिए यह सीट अपने पास रखने के लिए सपा लगातार दबाव बनाए हुए थी। लेकिन, सोमवार को निर्णय किया गया कि यहां कांग्रेस भी उम्मीदवार उतारेगी। कांग्रेस का कहना है कि इस फैसले से गठबंधन को कोई नुकसान नहीं होगा। लेकिन इससे मंत्री मनोज पांडेय की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं।

अमेठी में गायत्री वर्सेस अमिता

अमेठी में उप्र के परिवहन मंत्री गायत्री प्रजापति की मुश्किलें भी बढ़ी हैं। कांग्रेस ने यहां से अमिता सिंह को मैदान में उतार दिया है। अमेठी के अलावा गौरीगंज सीट से भी कांग्रेस उम्मीदवार उतार रही है। मोहम्मद नईम के नाम को हाईकमान से हरी झंडी मिल चुकी है।

दसों सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी

अब रायबरेली-अमेठी की सभी 10 सीटों से कांग्रेस के उम्मीदवार मैदान में होंगे। बता दे कि तीन दिन पहले सपा व कांग्रेस नेतृत्व के बीच तीन व सात सीट बंटवारे पर सहमति बनी लेकिन, कांग्रेस के भीतर पनपे असंतोष को दबाने के लिए बीच का रास्ता निकाला गया। प्रदेश चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष व सांसद संजय सिंह शुरू से ही इन सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी उतारने की बात कहते रहे हैं।

नेताजी ने अखिलेश को बताया CM प्रत्याशी, कांग्रेस के लिए भी मांगेगे वोट

फिर पलटे मुलायम, आज से प्रचार करने का ऐलान

नई दिल्ली। सपा मागर्दशक मुलायम सिंह यादव फिर पलट गए हैं। उन्होंने कहा है कि वे मंगलवार से सपा-कांग्रेस गठबंधन का प्रचार करेंगे। मुलायम ने 29 जनवरी को सपा-कांग्रेस गठबंधन को लेकर नाराजगी जताई थी और कहा था कि वह इसके लिए चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। मुलायम ने यह भी कहा कि शिवपाल यादव नई पार्टी नहीं बनाएंगे। उन्होंने गुस्से में अलग पार्टी बनाने की बात कह दी होगी। सपा की सरकार बनना तय है और अखिलेश यादव ही मुख्यमंत्री बनेंगे। संसद परिसर में पत्रकारों से बातचीत में मुलायम ने यह यह बातें कहीं।

भाजपा के 380 प्रत्याशी तय

लखनऊ। भाजपा ने सोमवार को अपने उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी की है। इसमें नौ लोगों के टिकट घोषित किए गए हैं। इसके पहले तीन चरणों में भाजपा ने 371 उम्मीदवार घोषित किए थे। यानि अब तक 380 उम्मीदवार घोषित किए जा चुके हैं। बाकी सीटें अपना दल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और बीएसफोर के लिए भाजपा ने छोड़ी हैं।

You May Also Like

English News