सबसे लंबे छक्के का रिकॉर्ड जो पिछले 79 सालों में भी कोई नहीं तोड़ सका

अल्बर्ट ट्रॉट 1938 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया दोनों टीमों के लिए खेले.अल्बर्ट ने 1938 में वेस्टइंडीज के खिलाफ एक ऐसा छक्का मारा था जो लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राऊंड के पवेलियन को ही पार कर गया था.उनके इस छक्के की लंबाई 164 मीटर थी.यह विश्व क्रिकेट के इतिहास का सबसे लंबा छक्का था.79 साल बीत जाने के बाद भी इतने लंबे छक्का का रिकॉर्ड अभी तक टूट नहीं पाया है.

डेयरडेविल्‍स का सूरमा श्रेयस चिकनपॅक्‍स के कारण आईपीएल से हुए बाहर

 क्रिकेट में छक्के तो अमूमन हर मैच में जड़े जाते हैं लेकिन उन छक्कों को लेकर चर्चा लंबे समय तक होती है जो लंबे और ऊंचे हों. एक ऐसा ही छक्का ऑस्ट्रेलिया में खेले जा रहे बीबीएल टूर्नामेंट में देखने को मिला. बल्लेबाजी कर रहे थे ब्रिस्बेन हीट के क्रिस लिन और गेंदबाजी आक्रमण पर थे होबार्ट हरीकेन्स के तूफानी गेंदबाज शॉन टैट. टैट की 147 किमी./घंटा की रफ्तार वाली गेंद पर लिन ने परफेक्ट टाइमिंग के साथ मिड विकेट के ऊपर से गेंद को इतनी लंबी दूरी पर मारा कि गेंद स्टेडियम की छत पर पहुंच गई. इस छक्के की लंबाई 121 मीटर रही और यह बीबीएल के इतिहास का सबसे लंबा छक्का था.

वनडे क्रिकेट में दूसरा सबसे तेज शतक लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम पर रखने वाले कोरी एंडरसन ने साल 2014 में भारत के ईशांत शर्मा की गेंद पर 120 मीटर का लंबा छक्का जड़ा था. ये छक्का इतना लंबा था कि गेंद स्टेडियम के बाहर चली गई थी.

 साल 2007 में टी20 विश्व कप में भारत के युवराज सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई 70 रनों की पारी के दौरान ब्रेट ली की गेंद पर 119 मीटर लंबा छक्का जड़ा था. ये छक्का इसलिए भी गजब था क्योंकि इसके लिए उन्होंने सिर्फ अपनी कलाईयों का इस्तेमाल किया था.

डेनियल क्रिस्टियान ने साल 2015 में 117 मीटर लंबा छक्का जड़ा था. इस मैच में हरीकेन्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 173 रनों का स्कोर बनाया था. होबार्ट की ओर से कोई बल्लेबाज बड़ा स्कोर नहीं बना सका था और क्रिस्टियान 33 रन बनाकर सर्वोच्च स्कोर बनाने वाले खिलाड़ी रहे थे.

यह छक्का धोनी ने साल 2011-12 में सीबी सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक मैच में जड़ा था. यह छक्का लॉन्ग ऑफ की दिशा में मारा गया था जो उस स्टेडियम की काफी बड़ी बाऊंड्री थी. लेकिन धोनी के इस छक्के आसानी से उस बाउंड्री को पार करते हुए पूरे 112 मीटर की दूरी तय की थी.

 एजाज अहमद पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर हैं जो गज़ब की प्रतिभा के धनी थे, लेकिन दुर्भाग्य के कारण उन्हें क्रिकेट में वह मिल नहीं पाया जिसके वह हकदार थे. यह बात तब की है जब पाकिस्तान इंग्लैंड के खिलाफ साल 1999 में खेल रहा था। स्कोर को चेज करते वक्त एजाज ने एक ऐसा छक्का जड़ा कि गेंद स्टेडियम के पार चली गई जिसके कारण स्टेडियम में नई गेंद लानी पड़ी. इस मैच में पाकिस्तान की ओर से दो छक्के लगाए गए और दोनों ही एजाज ने जड़े थे.

छक्के मारने के मामले में क्रिस गेल दुनिया के अन्य बल्लेबाजों से बहुत आगे हैं. साल 2010 विश्व कप टी20 मैच जो बारबोडास में भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेला जा रहा था उसमें गेल ने युसुफ पठान की गेंद पर इतना बड़ा छक्का मारा था कि गेंद स्टेडियम के बाहर चली गई थी.

 साल 2005 में ऑस्ट्रेलिया के दौरे के दौरान पाकिस्तान के शाहिद अफरीदी ने ने पर्थ में एक बड़ा छक्का लगाया था. अफरीदी के इस छक्के की गेंद स्टेडियम में लगे सबसे बड़े गुम्बद से टकराई थी. यह क्रिकेट इतिहास के सबसे बड़े छक्कों में से एक था.

धोनी ने एक बार पहले भी एक लंबा छक्का लगाया था. यह बात साल 2009 की है. न्यूजीलैंड के खिलाफ धोनी ने अपने हेलीकॉप्टर शॉट के सहारे डीप मिडविकेट का एक झन्नाटेदार छक्का लगाया था जो दूर जाकर स्टैंड्स में गिरा था.

 ऑस्ट्रेलिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक रहे मार्क वॉ ने साल 1997 में न्यूजीलैंड के स्पिनर डेनियल वेट्टोरी की गेंद पर स्ट्रेट का लंबा छक्का लगाया था कि गेंद ही खो गई थी. बाद में अंपायरों ने नई गेंद मंगाकर खेल शुरू किया था.

 
 
 
 
 
 

You May Also Like

English News