सलमान खुर्शीद को फारूक अब्दुल्ला का जवाब

 कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद के कांग्रेस के दामन पर मुसलमानों के खून के धब्बे होने संबंधी बयान देकर खुद को और पार्टी को विवादों में शामिल कर लिया है. अब जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने तंज कस्ते हुए इस बयान का स्वागत करते हुए कहा है कि देश के विभिन्न समुदायों के बीच आपसी मेल-मिलाप शुरू करने के लिए आत्मनिरीक्षण महत्वपूर्ण है. मंत्री सलमान खुर्शीद यह बयान देकर एक विवाद खड़ा कर दिया कि उनकी पार्टी के दामन पर मुसलमानों के खून के धब्बे हैं.श्रीनगर: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद के कांग्रेस के दामन पर मुसलमानों के खून के धब्बे होने संबंधी बयान देकर खुद को और पार्टी को विवादों में शामिल कर लिया है. अब जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने तंज कस्ते हुए इस बयान का स्वागत करते हुए कहा है कि देश के विभिन्न समुदायों के बीच आपसी मेल-मिलाप शुरू करने के लिए आत्मनिरीक्षण महत्वपूर्ण है. मंत्री सलमान खुर्शीद यह बयान देकर एक विवाद खड़ा कर दिया कि उनकी पार्टी के दामन पर मुसलमानों के खून के धब्बे हैं.  नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने यहां कहा,‘खुर्शीद का बयान आत्ममंथन वाला है और स्वागतयोग्य है. राष्ट्रीय स्तर पर अन्य राजनीतिक दलों को अतीत में हुए अन्याय को स्वीकार करना चाहिए ताकि ऐसी गलतियां भविष्य में नहीं हो.’ उन्होंने राष्ट्रीय राजनीतिक नेतृत्व से अपील की कि पार्टी लाइन से ऊपर उठ कर जम्मू-कश्मीर के साथ हुए अन्याय के बारे में भी आत्ममंथन करें और अतीत में हुए गलतियों को स्वीकार करें ताकि उसे ठीक किया जा सके, उन्होंने कहा कि पार्टी एवं राजनीति से ऊपर उठ कर जम्मू कश्मीर के साथ न्याय करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आम सहमति बनाने की जरूरत पर बल दिया.  गौरतलब है कि खुर्शीद ने अलीगढ़ में छात्रों के सवालों का जवाब देते हुए यह कह दिया था कि कांग्रेस के दामन पर मुस्लिमों के खून के दाग है और एक कांग्रेसी होने के नाते ये दाग मेरे दामन पर भी है. बयान के बाद ही सलमान और पार्टी को अन्य दलों के साथ सरकार ने घेरना शुरू कर दिया है.

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने यहां कहा,‘खुर्शीद का बयान आत्ममंथन वाला है और स्वागतयोग्य है. राष्ट्रीय स्तर पर अन्य राजनीतिक दलों को अतीत में हुए अन्याय को स्वीकार करना चाहिए ताकि ऐसी गलतियां भविष्य में नहीं हो.’ उन्होंने राष्ट्रीय राजनीतिक नेतृत्व से अपील की कि पार्टी लाइन से ऊपर उठ कर जम्मू-कश्मीर के साथ हुए अन्याय के बारे में भी आत्ममंथन करें और अतीत में हुए गलतियों को स्वीकार करें ताकि उसे ठीक किया जा सके, उन्होंने कहा कि पार्टी एवं राजनीति से ऊपर उठ कर जम्मू कश्मीर के साथ न्याय करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आम सहमति बनाने की जरूरत पर बल दिया.

गौरतलब है कि खुर्शीद ने अलीगढ़ में छात्रों के सवालों का जवाब देते हुए यह कह दिया था कि कांग्रेस के दामन पर मुस्लिमों के खून के दाग है और एक कांग्रेसी होने के नाते ये दाग मेरे दामन पर भी है. बयान के बाद ही सलमान और पार्टी को अन्य दलों के साथ सरकार ने घेरना शुरू कर दिया है. 

You May Also Like

English News