सहवाग 14 साल पहले बने थे मुल्तान के सुल्तान, किया ये कारनामा

नजफगढ़ के नवाब वीरेंद्र सहवाग आज ही के दिन 14 साल पहले मुल्तान के सुल्तान बने थे. पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में 28 मार्च 2004 को वीरू ने ऐसा करनामा कर दिखाया जो भारतीय क्रिकेट में कोई नहीं कर सका था. सहवाग तिहरा शतक जड़ने वाले पहले भारतीय बने थे.सहवाग 14 साल पहले बने थे मुल्तान के सुल्तान, किया ये कारनामा

टेस्ट मैच में भी सहवाग की धमाकेदार पारी देखने को मिली और उन्होंने सिर्फ 375 बॉल में 309 रन बना डाले. सहवाग की इस शतकीय पारी में 6 छक्के और 39 चौके शामिल थे और स्ट्राइक रेट 82 से ज्यादा का था. उन्होंने क्रीज पर 531 मिनट बल्लेबाजी की.

भारत को मिली पारी से जीत

मुल्तान में 3 मैचों की सीरीज का यह पहला टेस्ट था. टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पहली पारी में 5 विकेट गंवाकर पाकिस्तान के खिलाफ 675 रन पर पारी घोषित की. इसके जवाब में पाकिस्तान की पहली पारी 407 और फॉलोऑन के बाद दूसरी पारी 216 रन पर ही सिमट गई. इस मैच पर भारत ने एक पारी और 52 रनों से जीता था.

मुश्ताक की जमकर धुनाई 

वीरेंद्र सहवाह ने अपनी मैराथन पारी में पाकिस्तानी गेंदबाजी पर तीखा प्रहार किया था. लेकिन सबसे ज्यादा पिटाई सकलैन मुश्ताक की हुई थी. भारतीय बल्लेबाजों ने मुश्ताक के 43 ओवरों में 204 रन बंटोरे थे, इसके अलावा शब्बीर अहमद के 31 ओवरों में 122 रन बने थे. मैच में तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को 2 विकेट,  सकलैन और इमरान फरहत को 1-1 विकेट मिला था. मैच में वीवीएस लक्ष्मण रन आउट हुए थे.

द्रविड़ के फैसले पर विवाद

इस मैच में टीम की कप्तानी राहुल द्रविड़ कर रहे थे. सचिन तेंदुलकर ने यहां शानदार पारी खेलते हुए नाबाद 194 रन बनाए लेकिन द्रविड़ ने सचिन को 6 रन और बनाकर दोहरा शतक पूरा करने का मौका नहीं दिया. बोर्ड पर 675 रन लगते ही द्रविड़ ने पारी घोषित कर दी जबकि सचिन मैदान पर खेल रहे थे. इस फैसले की उन दिनों काफी आलोचना हुई थी और माना गया द्रविड़ नहीं चाहते थे कि सचिन दोहरा शतक पूरा करें.

You May Also Like

English News