साम्प्रदायिकता मुर्दाबाद-प्यार मोहब्बत जिंदाबाद

 विभिन्न धर्मो के धर्मगुरुओं ने अमन मार्च निकाल लोगों को ये पैगाम दिया कि आपस में लड़ाकर जो लोग अपना स्वार्थ साध रहे हैं, ऐसे लोगों से होशियार रहें और देश को विकास के पथ पर ले जाने में सहयोग करें। साम्प्रदायिकता मुर्दाबाद, प्यार मोहब्बत जिंदाबाद के नारे लगाए गए। तिरंगा लहराते हुए सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा गीत गाया गया।साम्प्रदायिकता मुर्दाबाद-प्यार मोहब्बत जिंदाबादमुकेश अंबानी के एंटीलिया से भी ऊंचे JK हाउस में रहा करते थे, जानिए क्या है ‘सिंघानिया का इतिहास’

रविवार को शहर जमीअत उलमा शहर ने शिक्षक पार्क से गांधी प्रतिमा फूलबाग तक अमन मार्च निकाला गया। इस मार्च में तिरंगे के साथ जमीअत उलमा का झंडा भी लहरा रहा था। साम्प्रदायिकता मुर्दाबाद, नफरत मिटाओ-घृणा मिटाओ, धर्म के नाम पर गुंडागर्दी नहीं चलेगी, नहीं चलेगी, हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई, आपस में सब भाई भाई आदि नारे लगाए गए।

जमीअत उलमा के प्रदेश अध्यक्ष मौलाना ओसामा ने कहा कि हिन्दुस्तान की आन, बान शान को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी धर्म व वर्ग के शरारतीतत्वों को हम सफल नहीं होने देंगे। परमट के महंत रमेश पुरी ने कहा कि हम किसी भी तरीके की ¨हसा के खिलाफ हैं, हम देश में अमन चाहते हैं और हम सब देश को विकास के रास्ते पर ले जाएंगे। सिद्धनाथ घाट के महंत अरुण पुरी चैतन्य जी महाराज ने कहा कि सारे समाज को जोड़कर देश को विश्वशक्ति बनाना है। पनकी हनुमान मंदिर के श्रीकृष्ण दास ने कहा कि ¨हसा फैलाने वालों को सफल नहीं होने देंगे। मौलाना अनवार अहमद जामेई, सुधीर धीमान, डा. महमूद रहमानी, मलिक रिजवान, शाहिद वकील, असगर हक्कानी, डा. हलीमुल्ला खां, अब्दुल मोईद चौधरी आदि थे।

You May Also Like

English News