#सावधान: बदली हुई स्क्रीन में चिप लगा कर आपके स्मार्टफोन को हैक कर रहे है हैकर्स…

किसी भी स्मार्टफोन की स्क्रीन उस डिवाइस का सबसे नाजुक हिस्सा होता है. थोड़ी सी खरोंज लगे या फिर फर्श पर गिरे तो टूट जाती है. आप इसे रिपेयर कराने सर्विस सेंटर या किसी भी मोबाइल शॉप में ले जाते हैं. शॉप में स्क्रीन बदल दी जाती है और आप इसे यूज कर रहे होते हैं पहले जैसा. ऐसा आपको लगता है और असलियत कुछ और हो सकती है.#सावधान: बदली हुई स्क्रीन में चिप लगा कर आपके स्मार्टफोन को हैक कर रहे है हैकर्स...अब FB पर कलरफुल होगा आपका स्टेटस, इस नये अपडेट ने Facebook को बनाया Whatsapp से भी…!

ऐसा मुमकिन है कि अब आपके द्वारा स्मार्टफोन में की गई गतिविधियां कोई और भी देख रहा हो. सुनने में आपको अजीब जरूर लगेगा, लेकिन ऐसा संभव है. 

इजराइल की Ben-Gurion यूनिवर्सिटी में एक रिसर्च हुई है. पब्लिश किए गए दस्तावेज के मुताबिक बदली गई टच स्क्रीन में खतरनाक चिप लगा कर स्मार्टफोन को हैक किया जा सकता है. इस शोध में दो स्मार्टफोन्स- Huawei Nexus 6P और LG G Pad 7.0 शामिल किए गए हैं. रिसर्चर्स ने एक चिप को थर्ड पार्टी टच स्क्रीन में लगा कर अपने अधिकार यानी हैक करने में कामयाब रहे.

गौरतलब है कि खतरनाक चिप वाले टच स्क्रीन वाले स्मार्टफोन आपके स्मार्टफोन की गतिविधि ट्रैक करते हैं. मसलन आपकी तस्वीरें और ऐप डेटा को रिकॉर्ड करते हैं. इसके अलावा इस चिप के जरिए हजारों किलोमीटर दूर बैठे हैकर्स आपके कीबोर्ड कमांड और आपके पर्सनल वीडियोज पर भी कंट्रोल कर सकते हैं.  इतना ही नहीं फिशिंग के जरिए स्मार्टफोन का पूरा कंट्रोल भी हैकर्स हासिल कर सकते हैं.

इस तरह की हैकिंग का सबसे बड़ा नुकसान ये है कि इसे एंटी वायरस डिटेक्ट नहीं कर सकते हैं. क्योंकि इन सॉफ्टवेयर्स हार्डवेयर बेस्ड नहीं होते हैं. दूसरा नुकसान ये है कि जब आपने अपने स्मार्टफोन का स्क्रीन रिप्लेस करा लिया है और इसे यूज करने में आपको एहसास नहीं होता कि इसमें कोई खतरनाक चिप लगाया गया है. 

शोधकर्ताओं ने स्मार्टफोन की स्क्रीन में इस चिप लगाने के लिए टच कंट्रोलर कनेक्शन पर हॉट एयर ब्लोअर का इस्तेमाल किया है. उन्होंने पब्लिश किए गए पेपर में लिखा है, ‘हमने हॉट एयर ब्लोअर के जरिए कंट्रोलर पर अटैक किया और इसमें चिप लगा दी, लेकिन फोन के दूसरे हार्डवेयर सॉफ्टवेयर ऑथेन्टिक रहे उनमें कोई भी बदलाव नहीं किया गया’ 

फिलहाल रिसर्चर्स ने इसे सिर्फ एंड्रॉयड स्मार्टफोन पर ही टेस्ट किया है, लेकिन उनहोंने अगाह किया है कि इससे iPhone को भी टार्गेट किया जा सकता है.  

शोधकर्ताओं ने एक वीडियो डेमोंस्ट्रेशन जारी किया है. इसमें दिखाया गया है कि कैसे स्क्रीन में चिपसेट लगा कर उन्होंने एंड्रॉयड स्मार्टफोन को रिमोटली ऐक्सेस किया है.

You May Also Like

English News