सावधान: शरीर के इन बदलावों को न करें नजरअंदाज, हो सकता है अस्थमा

अस्थमा सांस से जुड़ी गंभीर बीमारी है। अस्थमा होने पर इंसान का सांस लेना मुश्किल हो जाता है। अस्थमा (Asthma Symptoms) को दूसरे शब्दों में दमा भी कहते हैं। श्वसन नली में सूजन आने पर अस्थमा की बीमारी होती है। अस्थमा की स्थिति में छोटी-छोटी सांस लेनी पड़ती है।अस्थमा होने का सिर्फ एक ही कारण नहीं है। अस्थमा धूल, मिट्टी से एलर्जी के अलावा तनाव, ज्यादा जंक फूड का सेवन, ज्यादा नमक का सेवन आदि कारणों से भी होता है। अस्थमा होने पर छाती में कसाव महसूस होता है। साथ ही सांस फूलने और बार-बार खांसी की समस्या होती है। इसके अलावा अस्थमा होने से पहले हमारा शरीर कई संकेत देता है। इन संकेतों को पहचानें और समय पर इलाज करने से यह गंभीर बीमारी नहीं होगी।सावधान: शरीर के इन बदलावों को न करें नजरअंदाज, हो सकता है अस्थमा

क्या आप जानते हैं अंगूर का जूस दूर कर सकता है कफ की समस्या

सांस

दमा होने से पहले अक्सर सांस लेने में दिक्कत होती है। सर्दी, खांसी, छींक जैसे एलर्जी से यह धीरे-धीरे अस्थमा का रूप ले लेता है। इसी के साथ ही सीने में जकड़न की समस्या होती है।
आवाज
अस्थमा होने से पहले आवाज में भी बदलाव आता है। साथ ही सांस लेते समय में आवाज में परिवर्तन हो जाता है। इतना ही नहीं अगर आपको सांस लेते हुए तेज पसीना आए तो यह भी अस्थमा होने के चांसेस को बताता है।
बेचैनी
अस्थमा होने पर शरीर में हमेशा बेचैनी बनी रहती है। साथ ही सिर भी भारी-भारी लगता है। सांस लेने में भी थकान महसूस होती है। 

You May Also Like

English News