सिंगापुर में ट्रंप, किम जोंग उन की मुलाकात में शामिल हो सकते हैं मून

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन अगले महीने डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के साथ तीन दिवसीय बैठक में शिरकत करने के लिए सिंगापुर जा सकते हैं. दक्षिण कोरिया के एक शीर्ष अधिकारी ने सोमवार को बताया कि अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच मौजूदा चर्चा के नतीजों के आधार पर ही यह तय होगा कि वह सिंगापुर जाएंगे या नहीं.दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन अगले महीने डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के साथ तीन दिवसीय बैठक में शिरकत करने के लिए सिंगापुर जा सकते हैं. दक्षिण कोरिया के एक शीर्ष अधिकारी ने सोमवार को बताया कि अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच मौजूदा चर्चा के नतीजों के आधार पर ही यह तय होगा कि वह सिंगापुर जाएंगे या नहीं.  सियोल के राष्ट्रपति कार्यालय ने योनहाप को बताया कि यदि मून की यह यात्रा होती है तो 12 जून के आसपास ही होगी जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन द्विपक्षीय वार्ता करेंगे. अधिकारी ने कहा, 'यह चर्चा अभी शुरू हुई है इसलिए हम यह देखेंगे कि ये कैसी रहती है लेकिन इसके नतीजों के अनुसार तय किया जाएगा कि राष्ट्रपति (मून) ट्रंप और किम जोंग के साथ सिंगापुर में होंगे या नहीं'.  इस त्रिपक्षीय सम्मेलन का प्रस्ताव 27 अप्रैल को सीमावर्ती कोरियाई गांव पनमुनजोम में मून और किम जोंग ने ही दिया था. मून ने रविवार को एक बार फिर इस बैठक के होने की उम्मीद जताई. इससे पहले रविवार को मून और किम जोंग ने अपनी दूसरी और औचक मुलाकात की थी.  इससे पहले दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई ने रविवार को कहा था कि उत्तर कोरिया  के नेता किम जोंग उन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ औचक बैठक के लिए और कोरियाई प्रायद्वीप को पूरी तरह से परमाणु हथियारों से मुक्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. मून ने कहा था कि वह और उत्तर कोरिया के नेता इस बात पर सहमत हुए हैं कि अगर 'जरूरत पड़ी' तो वह व्यक्तिगत रूप से मिलेंगे, या बात करेंगे.  बता दें कि इससे पहले ट्रंप ने किम के साथ अपनी बैठक रद्द करने की घोषणा करके दुनिया  भर को चौंका दिया था. लेकिन इस बातचीत में नया मोड़ तब आया जब सोमवार को ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है कि 'हमारा अमेरिकी दल किम जोंग उन और मेरे बीच होने वाली वार्ता का प्रबंध करने के लिए नॉर्थ कोरिया पहुंच गया है'. फिलहाल अब पूरी दुनिया की नजर इस बात पर है कि 12 जून को सिंगापुर में यह मुलाकात हो भी पाती है या नहीं.

सियोल के राष्ट्रपति कार्यालय ने योनहाप को बताया कि यदि मून की यह यात्रा होती है तो 12 जून के आसपास ही होगी जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन द्विपक्षीय वार्ता करेंगे. अधिकारी ने कहा, ‘यह चर्चा अभी शुरू हुई है इसलिए हम यह देखेंगे कि ये कैसी रहती है लेकिन इसके नतीजों के अनुसार तय किया जाएगा कि राष्ट्रपति (मून) ट्रंप और किम जोंग के साथ सिंगापुर में होंगे या नहीं’.

इस त्रिपक्षीय सम्मेलन का प्रस्ताव 27 अप्रैल को सीमावर्ती कोरियाई गांव पनमुनजोम में मून और किम जोंग ने ही दिया था. मून ने रविवार को एक बार फिर इस बैठक के होने की उम्मीद जताई. इससे पहले रविवार को मून और किम जोंग ने अपनी दूसरी और औचक मुलाकात की थी.

इससे पहले दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई ने रविवार को कहा था कि उत्तर कोरिया  के नेता किम जोंग उन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ औचक बैठक के लिए और कोरियाई प्रायद्वीप को पूरी तरह से परमाणु हथियारों से मुक्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. मून ने कहा था कि वह और उत्तर कोरिया के नेता इस बात पर सहमत हुए हैं कि अगर ‘जरूरत पड़ी’ तो वह व्यक्तिगत रूप से मिलेंगे, या बात करेंगे.

बता दें कि इससे पहले ट्रंप ने किम के साथ अपनी बैठक रद्द करने की घोषणा करके दुनिया  भर को चौंका दिया था. लेकिन इस बातचीत में नया मोड़ तब आया जब सोमवार को ट्रंप ने ट्वीट कर कहा है कि ‘हमारा अमेरिकी दल किम जोंग उन और मेरे बीच होने वाली वार्ता का प्रबंध करने के लिए नॉर्थ कोरिया पहुंच गया है’. फिलहाल अब पूरी दुनिया की नजर इस बात पर है कि 12 जून को सिंगापुर में यह मुलाकात हो भी पाती है या नहीं.  

You May Also Like

English News