सुहागरात में जांचते हैं दुल्हन की वर्जिनिटी, व्हाट्सएप पर शुरू हुआ विरोध

भारत की कुछ कम्युनिटी में आज भी सुहागरात में दुल्हन का वर्जिनिटी टेस्ट किया जाता है. ऐसा ही एक समुदाय है महाराष्ट्र कंजारभट. यहां सुहागरात के वक्त कमरे के बाहर पंचायत के लोग मौजूद होते हैं जो बेडशीट को देखकर ये तय करते हैं कि दुल्हन वर्जिन है या नहीं. लेकिन नई बात ये है कि समुदाय के ही कुछ युवाओं ने इसका विरोध अभियान शुरू कर दिया है. वो इस प्रथा को बंद करने के लिए कैंपेन चला रहे हैं. आइए जानते हैं वर्जिनिटी टेस्ट की परंपरा के बारे में और कुछ बातें…

अब लोग सुहागरात में जांचते हैं दुल्हन की वर्जिनिटी, व्हाट्सएप ग्रुप से शुरू हुआ विरोधइसी साल 25 नवंबर को यरवदा के रहने वाले 21 साल सिद्धांत इंद्रकर ने जाति पंचायत की शिकायत पुलिस से भी की है. सिद्धांत का कहना है कि उन्होंने तिंगरे नगर में पंचायत के कारनामे को कैमरे में रिकॉर्ड किया है जब वे एक कपल से शादी एप्रूव करने के लिए 10 हजार रुपये ले रहे थे.

बाद में पुलिस ने सिद्धांत की शिकायत को सबूत नहीं होने की बात कहते हुए खारिज कर दिया. लेकिन 13 दिसंबर को सिद्धांत ने 33 सदस्यों के हस्ताक्षर के साथ डीसीपी दीपक साकोर से इस प्रथा को रोकने के लिए फिर अनुरोध किया. इसी कम्युनिटी के कुछ युवाओं ने एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया ताकि इस प्रथा को रोकने के लिए कैंपेन चलाया जा सके.

यूथ्स का कहना है कि ये प्रथा गलत है, क्योंकि कई बार शादियों को एप्रूव करने के लिए घूस भी देना पड़ता है. युवाओं के मुताबिक, ये कपल की प्राइवेसी को भी तोड़ना है, जहां कोई तीसरा उनके रिलेशनशिप को तय करता है.

युवाओं ने ‘Stop the V-Ritual’ नाम से ग्रुप बनाया है. इसके साथ-साथ पुणे में कुछ इवेंट भी आयोजित करने की तैयारी कर रहे हैं. इसी कम्युनिटी के विवेक तमाईचेकर कहते हैं कि वे अगले साल शादी करने जा रहे हैं और उस प्रथा के खिलाफ हैं.

इसी कम्युनिटी की एक महिला प्रियंका ने कहा कि अगर बेडशीट पर खून के धब्बे नहीं पाए जाते हैं तो ये मान लिया जाता है कि दुल्हन के पहले से रिलेशन रहे हैं. कई बार महिलाओं के साथ मारपीट भी की जाती है.

 
loading...

You May Also Like

English News