घर में घुसकर सेना के जवानों की हत्या

BAGHPAT : UP के BAGHPAT में सोमवार को बदमाशों ने दिनदहाड़े 5 लोगों की हत्या कर दी। घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है।

घर में घुसकर सेना के जवानों की हत्या
मरने वालों में 2 पीएसी के जवान, दो महिलाएं और एक अन्‍य व्‍यक्‍ति शामिल हैं। मृतक जवान इसी परिवार के सुरक्षा के लिए तैनात थे। इसी दौरान आधा दर्जन की संख्‍या में बदमाश आए और घर में घुसकर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। मौके पर आईजी जोन मेरठ और एसटीएफ सहित पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। 
आगे पढ़िए क्या है पूरा मामला
घटना बागपत में दोघट थानाक्षेत्र के गांगनौली गांव की है। यहां एक परिवार पर आधा दर्जन से अधिक आधुनिक हथियारों से लैस बदमाशों ने दिनदहाड़े हमला बोल दिया। सविता पत्नी रामफल (46) घर आए अपने वाजिदपुर निवासी पिता मांगेराम पुत्र दिलीप सिंह (70) के लिए मकान के नीचे के हिस्से में चाय बना रही थी। उसकी बेटी प्रीति (20) नीचे अपने नाना के पास थीं।
घर में परिवार की सुरक्षा में लगे दो पुलिसकर्मी भी मौजूद थे।  तभी वहां बदमाश घुसे और सबसे पहले पुलिसकर्मियों को गन म्‍वॉइंट पर ले लिया।  इसी बीच सविता के भाई का लड़का मकान पर पहुंचा, उसने जब बदमाशों को देखा तो शोर मचा दिया।इसके बाद बदमाशों ने विरोध कर रहे पुलि कर्मियों को गोली मार दी। गोली एचसीपी राकेश शर्मा और सिपाही विजय कुमार को मारी गई। बताया जाता है कि बदमाशों का विरोध कर रहे एचसीपी के गले पर किसी धारदार हथियार से भी हमला किया गया था। 
शोर शराबा सुनकर प्रीति दौड़ी तो बदमाशों ने उसे भी गोली मार दी। गोली चलने पर चाय बना रही सविता उठकर दौड़ी तो बदमाशों ने उसे भी गोलियों से छलनी कर दिया।  गोलियों की आवाज सुनकर नीचे से तीसरा सिपाही प्रताप सिंह ऊपर छत पर पहुंचा तो उसे निशाना बनाकर बदमाशों ने गोली चलाई।
इसके बाद बदमाश नीचे आए और वहां खड़े मांगेराम को गोली मारकर फरार हो गए।
पैदल ही फरार हुए बदमाश
ग्रामीणों के अनुसार, घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश पैदल ही गांव की गलियों से होते हुए फरार हो गए। सविता की मौत रास्ते में उस वक्त हुई जब उसे गंभीर हालत में इलाज के लिए अस्पताल लेकर जा रहे थे।
 
कई थानों की पुलिस पहुंची मौके पर
गांव में घटना की सूचना पर दोघट पुलिस के अलावा रमाला, छपरौली, बिनौली आदि थानों की पुलिस व पीएसी पहुंच गई।
सीओ बड़ौत ओर सीओ रमाला के अलावा एसपी और डीएम भी मौके पर पहुंच गए।भारी संख्या में पुलिस के गांव में पहुंचते ही गांव छावनी के रूप में तब्दील हो गया।
पति और बेटा नहीं थे घर पर
जिस समय बदमाशों ने घर में घुसकर हमला किया, उस वक्त महिला का बेटा पंकज पड़ोस में गया हुआ था। जबकि उसका पति रामफल अपने काम पर गए थे। रामफल एक भट्ठे पर मुनीम बताया जाता है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया।घटना की सूचना पर आईजी और डीआईजी भी मेरठ से घटनास्थल पर पहुंच गए। 
 

You May Also Like

English News