सेना से मुठभेड़ के दौरान बशीर ने गांव वालों से की थी खुद को बचाने की अपील…

मुठभेड़ शुरू होते ही दो ऑडियो रिकॉर्डिंग सामने आई है। इनमें लोगों से मुठभेड़ स्थल पर पहुंचने की अपील की जा रही है। पुलिस सूत्रों की माने तो इसमें एक ऑडियो बशीर लश्करी ने खुद रिकॉर्ड किया था, जिसमें वह ब्रेट, दयालगाम, बटपोरा, खुशपोरा, दमहाल, शीरपोरा और अच्छाबल के गांव वालों को मुठभेड़ स्थल की ओर आकर उन्हें वहां से निकालने में मदद की अपील कर रहा है।सेना से मुठभेड़ के दौरान बशीर ने गांव वालों से की थी खुद को बचाने की अपील...बड़ी खबर: अखिलेश राज के एक और कारनामे का हुआ बड़ा खुलासा, 86 प्रतिशत अनुदान अकेले अपर्णा यादव..

दूसरा ऑडियो आतंकियों के ओवर ग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) का माना जा रहा है, जिसमें वह कह रहा है कि मुठभेड़ स्थल पर पहुंचे। यहां बशीर लश्करी फंसा हुआ है। बशीर लश्करी अच्छाबल में 16 जून को एसएचओ समेत छह पुलिसकर्मियों की हत्या सहित छह मुख्य आतंकी गतिविधियों का मास्टरमाइंड था। आतंक की राह थामने से पहले वह बाजवान बनाने का काम करता था।

GST से महंगी हुई दुनिया की सबसे बड़ी रसोई, लाखों लोग रोज यहाँ फ्री में खाते हैं खाना, अब क्या होगा…

90 के दशक में जब घाटी में आतंकवाद का दौर शुरू हुआ तो वह हिजबुल में शामिल हो गया। 1994 में सुरक्षा बलों ने उसे गिरफ्तार किया। तीन साल बाद वह जेल से छूटा। 2008 में अमरनाथ भूमि आंदोलन के दौरान वह लश्कर के ओजीडब्ल्यू के रूप में काम करने लगा। इसके बाद 2015 से पूरी तरह लश्कर के लिए सक्रिय हो गया। 

You May Also Like

English News