बड़ी खबर: सेवा आश्रम में सन्यासी शिक्षकों को लूट और मारपीट के बाद जो किया, सुन कर दहल उठेगा किसी का भी दिल…

खलारीध्रांची। चान्हो के आनन्द मार्ग सेवा आश्रम में रात्रि 8.30 बजे कुछ हथियारबंद आरोपी दाखिल हुए। इन लोगों ने यहाॅं पर मौजूद सन्यासियों की पिटाई कर दी। लूट के इरादे से आश्रम में दाखिल हुए आरोपियों ने सन्यासी शिक्षकों की पिटाई करने के साथ ही आश्रम में लूट की वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान करीब 2 शिक्षक गंभीररूप से घायल हो गए। आरोपियों ने सन्यासियों को धमाया और उनके परिधान उतरवा दिए। सन्यासियों को धमकी दी गई कि वे धार्मिक परिधान न पहनें।सेवा आश्रम में सन्यासी शिक्षकों को लूट और मारपीट के बाद जो किया, सुन कर दहल उठेगा किसी का भी दिल...

आरोपियों ने आश्रम के होस्टल के ही साथ शिक्षकों के आवास में तोड़फोड़ कर दी। आरोपी आश्रम से बाईक,लैपटाॅप, 4 मोबाईल, आश्रम से लगभग 50 हजार रूपए नकदी समेत बड़े पैमाने पर सामान लूट ले गए। आरोपियों ने सन्यासियों के परिधान पर उनसे पेशाब करवाया और फिर उन परिधानों को समीप के ही एक कुएॅं में फिंकवा दिया। आरोपी अलमारी की चाबी लेकर अलमारी खोलने लगे और इसमें से करीब 18 हजार रुपए व थैले में रखे सिक्के भी ले लिए बताया जा रहा है कि अलमारी में करीब 50 हजार रूपए थे।

बड़ी खबर: चीनी वरिष्‍ठ कर्नल ने भारत को दी धमकी, बोले- ‘अगर चाहते हो सुरछित रहे भारत तो डोकलाम से हटो’

इस मामले में जब पुलिस को जानकारी मिली तो पुलिस ने घटनास्थल की जाॅंच की। घटनास्थल पर होस्टल में कुछ सामान भी टूटा हुआ था। पुलिस ने इस मामले में आरोपियों पर प्रकरण दर्ज कर लिया। आश्रम के तीन सन्यासी शिक्षकों को एक कमरे में बंद कर भाग निकले। उन्होंने चाबी बाहर ही छोड़ दी। विद्यार्थी अमित ने ताला खोलकर सन्यासी शिक्षकों को बाहर निकाल दिया।

इस मामले में पुलिस ने आश्रम में मौजूद लोगों से पूछताछ की। उन्होंने कहा कि स्कूल के प्राचार्य राशेश्वरानंद व शिक्षक सन्यासी प्रभाश्वरानंद ने कहा कि रक्षाबंधन के कारण होस्टेल के बच्चे अपने घर पहुॅंच गए थे। रात्रि लगभग 8.30 बजे प्राचार्य राशेश्वरानंद, शिक्षक सन्यासी प्रभाश्वरानंद आश्रम में थे। जब प्राचार्य राशेश्वरानंद व शिक्षक प्रभाश्वरानंद व एक अन्य स्थानीय व्यक्ति निर्मल मुंडा भोजन कर रहे थे उसी दौरान कुछ आरोपी आश्रम में दाखिल हुए।

#मानसून सत्र: राहुल गांधी की कार पर पथराव और चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले को लेकर होगा जमकर बवाल

उन्होंने सन्यासी शिक्षकों को धमकाया ये लोग स्थानीय भाषा में बात कर रहे थे। आरोपियों ने सन्यासी शिक्षकों को कोरे कागज़ पर मोटरसाइकिल बेचने संबंधी संदेश लिखने पर दबाव बनाया लेकिन सन्यासी शिक्षकों ने कहा कि हमें हिंदी नहीं आती है हम अंग्रेजी में यह लिख देते हैं तो आरोपियों ने यह बात लिखने से उन्हें रोक दिया। सन्यासी शिक्षकों के साथ अभद्रता की गई और आरोपियों ने वाहन के कागजात मांगे। जब सन्यासियों ने कागजात देने में आनाकानी की तो उन्हें पीट दिया गया। पहले जब सन्यासियों ने कागजात देने से इन्कार कर दिया तो उन्हें पीट दिया गया।

You May Also Like

English News