स्किन कैंसर के ये हैं छोटे-छोटे लक्षण जो आप अक्सर कर देते हैं इग्नोर

स्किन कैंसर की प्रॉब्लम आसानी से नहीं दिखती है, शुरुआत में इसके लक्षण काफी मामूली लगते हैं लेकिन धीरे-धीरे ये भयानक रुप ले लेती है। आज हम आपको बताएंगे स्किन कैंसर के ऐसे लक्षण जिसे आप जानकर एक पल के लिए हैरान हो जाएंगे। स्किन कैंसर की समस्या आजकल बढ़ती ही जा रही है। ये एक खतरनाक बीमारी है। ज्यादा देर तक धूप में रहने से यह समस्या किसी को भी हो सकती है। शरीर के जिन हिस्सों पर पर सूर्य की किरणे सीधी पड़ती है जैसे हथेली, उंगलियां, नाखून की त्वचा, पैर के अंगूठे की त्वचा पर कैंसर होने का खतरा ज्यादा होता है। स्किन कैंसर होने के ओर भी कई कारण है जिससे शरीर में कई बदलाव आते है अगर समय रहते उन बदलावों को पहचान कर उनका इलाज न करवा जाए तो ये जानलेवा हो सकता है। आज हम आपको स्किन कैंसर होने पर शरीर में आने वाले बदलावो और उसके घरेलू उपचार के बारे में बताएंगे जिनका उपयोग करके काफी हद तक स्किन कैंसर जैसी खतनाक बीमारी से बचा जा सकता है।

स्किन कैंसर के प्रकार

बेसल सेल कार्सिनोमा 

इस तरह का कैंसर स्किन की निचली पर्त को प्रभावित करता है। बेसल कैंसर शरीर के उस हिस्से पर होता है, जिस हिस्से पर धूप ज्यादा पड़ती है। 

स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा
यह स्किन की ऊपरी हिस्से की कोशिकाओं में होता है लेकिन यह शरीर के अन्य हिस्सों पर नहीं होता। समय रहते इसका इलाज करवाना बहुत जरूरी है, नहीं तो यह जानलेबा भी हो सकता है।

मेलानोमा 
ये स्किन कैंसर का सबसे ज्यादा खतरनाक है। इस से स्किन की वो कोशिकाएं प्रभावित होती हैं जो स्किन को रंग देती हैं। सबसे ज्यादा तेजी से यही स्किन कैंसर फैलता है। इसके होने पर त्वचा बहुत ज्यादा गंदी नजर आने लगती है इसलिए इसका तुरंत इलाज जरुरी है।

स्किन कैंसर के लक्षणः-
धूप में रहने से खुजली या जलन होना
गर्दन, माथे, गाल और आंखों के आसपास की स्किन लाल होना और जलन होना
बर्थ मार्क की स्किन में बदलाव हो जाना
स्किन पर कई हफ्तों तक धब्बे पड़े रहना
बार-बार एक्जिमा होना 

स्किन कैंसर होने के कारण
गोरी त्वचा
पहले कभी स्किन बर्न होना
धूप में ज्यादा देर रहना
कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली
परिवार में पहले किसी को स्किन कैंसर रहना
 
स्किन कैंसर से बचने के घरेलू उपाय
काली रसभरी  के बीजों का तेल 
रसभरी के बीजों में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते है जो स्किन कैंसर नहीं होने देता। रोजाना इसका सेवन करने से स्किन कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचा जा सकता है। काली रस्पबेरी के बीज इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं।

हल्दी
हल्दी में मौजूद करक्यूमिन तत्व कैंसर को खत्म करने में प्रभावी होने के साथ ही कैंसर को होने से भी रोकता है। खासकर ब्रेस्ट कैंसर, पेट का कैंसर और त्वचा कैंसर में हल्दी अधिक प्रभावी है। अपने खाने में हल्दी का इस्तेमाल जरूर करें। 

विटामिन डी 
सर्दियों के मौसम में 11 बजे के बाद आधे घंटे से ज्यादा धूप पर न रहें। सुबह- सुबह धूप में बैठना फायदेमंद होता है लेकिन ज्यादा देर तक बैठने से स्किन कैंसर हो सकता है।

बैंगन
बैंगन कैंसर होने से रोकता है। हफ्ते में दो बार बैंगन खाएं। बैंगन के अलावा टमाटर, आलू, शिमला मिर्च, आदि भी कैंसर से बचाव में उतनी ही प्रभावी हैं।
 
स्किन कैंसर से बचने के लिए करें ये काम
घर से बाहर निकलते समय खुद को ढक कर बाहर निकलें। 

स्किन पर दाग- धब्बे होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 

ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं। इससे बॉडी हाइड्रेट रहेगी और स्किन कैंसर होने का खतरा नहीं होगा।

तली-भुनी , मसालेदार चीजों का सेवन न करें। 

फैटी एसिड जैसे कि मीट, फास्ट फूड, कॉर्न सीरप जैसी चीजों को न खाएं।

स्किन पर मॉश्चराइजर और सनसक्रीन लोशन का इस्तेमाल करें।

You May Also Like

English News