स्वच्छ परिवहन सर्वे में भोपाल को देशभर में मिला पहला स्थान

भोपाल देश के 14 शहरों में वाहनों से कम कार्बन का उत्सर्जन कर स्वच्छ परिवहन वाले शहरों में पहले स्थान पर रहा है। यह स्थान शुक्रवार सेंटर फॉर साइंस एंड एनवॉयरमेंट (सीएसई) द्वारा जारी रिपोर्ट में मिला है। इसकी सबसे बड़ी वजह भोपाल में रोजाना डेढ़ लाख लोगों द्वारा निजी वाहनों का उपयोग न कर लोक परिवहन से सफर करना सामने आया है।भोपाल देश के 14 शहरों में वाहनों से कम कार्बन का उत्सर्जन कर स्वच्छ परिवहन वाले शहरों में पहले स्थान पर रहा है। यह स्थान शुक्रवार सेंटर फॉर साइंस एंड एनवॉयरमेंट (सीएसई) द्वारा जारी रिपोर्ट में मिला है। इसकी सबसे बड़ी वजह भोपाल में रोजाना डेढ़ लाख लोगों द्वारा निजी वाहनों का उपयोग न कर लोक परिवहन से सफर करना सामने आया है।  पर्यावरण के लिए काम करने वाली इस संस्था सीएसई ने 14 ब़उे शहरों में वाहनों की संख्या के मुकाबले कार्बन उत्सर्जन के आंकड़े जुटाएं हैं। इसमें पता चला है कि भोपाल में लोक परिवहन ज्यादा आसान होता जा रहा है। इसके चलते अब लोग निजी वाहनों का उपयोग कम करने लगे हैं। जानकारी के मुताबिक भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (बीसीएलएल) की 16 रूटों पर चल रही 210 लो फ्लोर व मिडी बसों से रोजाना 1 लाख 50 हजार से अधिक लोगों द्वारा सफर करते है जो कम कार्बन उत्सर्जन की एक मुख्य वजह है।   VIDEO : यहां लगे हैं रिश्तों के बंधन के खास 'बॉक्स', हर कलाई पर सजेगा बहन का प्यार यह भी पढ़ें  क्योंकि यह सुविधा न होती तो ये लोग निजी वाहनों का उपयोग करते। इससे शहर की सड़कों पर वाहनों की संख्या बढ़ती, जिससे कार्बन का स्तर बढ़ता। रिपोर्ट के मुताबिक स्वच्छ परिवहन वाले शहरों की रैंकिंग से साबित होता है कि साफ परिवहन और कार्बन उत्सर्जन कम करने में भोपाल ने काम किया है। दूसरे शहरों को भी लोक परिवहन की नीति को कड़ाई से अपनाना चाहिए। पर्यावरण साफ रखने के लिए लोक परिवहन के साथ साइकिल और पैदल चलने को बढ़ाना देना जरूरी है क्योंकि निजी वाहनों से निकल रहीं प्रदूषण फैल रहा है।  रिपोर्ट के तथ्य   वृद्धा को लगा करंट, बचाने आया पति भी झुलसा, दोनों की मौत यह भी पढ़ें  - साल 1952 से लेकर 2008 तक देश में वाहनों की संख्या साढ़े दस करोड़ हुई। रिपोर्ट के मुताबिक अनुमान है कि महज अगले छह साल में इतने ही वाहन देश में और बढ़ जाएंगे। ऐसा हुआ तो पर्यावरण को नुकसान होगा। स्वास्थ्य पर भी विपरीत असर पड़ेगा।  - साल 2000-2001 में देश में कुल परिवहन में 75.5 फीसदी हिस्सा लोक परिवहन का था जो अनुमान के मुताबिक 2030-31 तक घटकर 44.7 फीसदी रह जाएगा। यानी रिपोर्ट के मुताबिक अनुमान है कि लोक परिवहन देश में तेजी से घटेगा। लोग निजी परिहवन को बढ़ावा देंगे, ऐसा हुआ तो नुकसान होगा।   सर्वे में हुआ खुलासा, सालभर में बच्चे के बस्ते का औसतन भार एक ट्रक के बराबर यह भी पढ़ें  यह है भोपाल में लोक परिवहन की स्थिति  - 16 मार्गों पर रोजाना 210 लो फ्लोर व मिडी बसें चलती हैं।   जान जोखिम में डालकर उफनती लहरों पर कर रहे हैं सफर यह भी पढ़ें  - इनमें 1 लाख 50 हजार से अधिक लोग रोजाना सफर करते हैं।  - लोक परिवहन को बढ़ाना देने 1 लाख से अधिक छात्र व आम नागरिकों को महापौर स्मार्ट कार्ड दिए हैं।   सर्विस चार्ज बताकर बैक ने ग्राहक के खाते से काटे 63 हजार 770 रुपए यह भी पढ़ें  - शहर में 80 स्थानों पर 280 से अधिक साइकिले पब्लिक बाइक शेयरिंग को बढ़ावा देने रखीं हैं।  - लोक परिवहन को बढ़ावा देने शहर में 24 किमी लंबा बीआरटीएस कॉरिडोर हैं।  परिवहन के दौरान कम कार्बन उत्सर्जन करने वाले शहर  शहर	रैंकिंग  भोपाल	1  विजयवाड़ा	2  चंडीगढ 3  लखनऊ	4  कोधाी	5  जयपुर 6  कोलकाता	7  अहमदाबाद	8  पुणे	9  मुंबई 10  हैदराबाद 11  बेंगलुरू	12  चेन्नई 13  दिल्ली 14  लोक परिवहन को बढ़ावा दे रहे हैं  बसों की लोकेशन देखने के लिए चलो मोबाइल एप लांच करना , बसों के मार्ग बढ़ाना, शहर में जगह-जगह आटोमेटिक फेयर कनेक्शन मशीनें लगाना और महापौर स्मार्ट कार्ड की सुविधा देना, ये सभी लोक परिवहन को बढ़ावा देना है।

पर्यावरण के लिए काम करने वाली इस संस्था सीएसई ने 14 ब़उे शहरों में वाहनों की संख्या के मुकाबले कार्बन उत्सर्जन के आंकड़े जुटाएं हैं। इसमें पता चला है कि भोपाल में लोक परिवहन ज्यादा आसान होता जा रहा है। इसके चलते अब लोग निजी वाहनों का उपयोग कम करने लगे हैं। जानकारी के मुताबिक भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड (बीसीएलएल) की 16 रूटों पर चल रही 210 लो फ्लोर व मिडी बसों से रोजाना 1 लाख 50 हजार से अधिक लोगों द्वारा सफर करते है जो कम कार्बन उत्सर्जन की एक मुख्य वजह है।

क्योंकि यह सुविधा न होती तो ये लोग निजी वाहनों का उपयोग करते। इससे शहर की सड़कों पर वाहनों की संख्या बढ़ती, जिससे कार्बन का स्तर बढ़ता। रिपोर्ट के मुताबिक स्वच्छ परिवहन वाले शहरों की रैंकिंग से साबित होता है कि साफ परिवहन और कार्बन उत्सर्जन कम करने में भोपाल ने काम किया है। दूसरे शहरों को भी लोक परिवहन की नीति को कड़ाई से अपनाना चाहिए। पर्यावरण साफ रखने के लिए लोक परिवहन के साथ साइकिल और पैदल चलने को बढ़ाना देना जरूरी है क्योंकि निजी वाहनों से निकल रहीं प्रदूषण फैल रहा है।

रिपोर्ट के तथ्य

– साल 1952 से लेकर 2008 तक देश में वाहनों की संख्या साढ़े दस करोड़ हुई। रिपोर्ट के मुताबिक अनुमान है कि महज अगले छह साल में इतने ही वाहन देश में और बढ़ जाएंगे। ऐसा हुआ तो पर्यावरण को नुकसान होगा। स्वास्थ्य पर भी विपरीत असर पड़ेगा।

– साल 2000-2001 में देश में कुल परिवहन में 75.5 फीसदी हिस्सा लोक परिवहन का था जो अनुमान के मुताबिक 2030-31 तक घटकर 44.7 फीसदी रह जाएगा। यानी रिपोर्ट के मुताबिक अनुमान है कि लोक परिवहन देश में तेजी से घटेगा। लोग निजी परिहवन को बढ़ावा देंगे, ऐसा हुआ तो नुकसान होगा।

यह है भोपाल में लोक परिवहन की स्थिति

– 16 मार्गों पर रोजाना 210 लो फ्लोर व मिडी बसें चलती हैं।

– इनमें 1 लाख 50 हजार से अधिक लोग रोजाना सफर करते हैं।

– लोक परिवहन को बढ़ाना देने 1 लाख से अधिक छात्र व आम नागरिकों को महापौर स्मार्ट कार्ड दिए हैं।

– शहर में 80 स्थानों पर 280 से अधिक साइकिले पब्लिक बाइक शेयरिंग को बढ़ावा देने रखीं हैं।

– लोक परिवहन को बढ़ावा देने शहर में 24 किमी लंबा बीआरटीएस कॉरिडोर हैं।

परिवहन के दौरान कम कार्बन उत्सर्जन करने वाले शहर

शहर रैंकिंग

भोपाल 1

विजयवाड़ा 2

चंडीगढ 3

लखनऊ 4

कोधाी 5

जयपुर 6

कोलकाता 7

अहमदाबाद 8

पुणे 9

मुंबई 10

हैदराबाद 11

बेंगलुरू 12

चेन्नई 13

दिल्ली 14

लोक परिवहन को बढ़ावा दे रहे हैं

बसों की लोकेशन देखने के लिए चलो मोबाइल एप लांच करना , बसों के मार्ग बढ़ाना, शहर में जगह-जगह आटोमेटिक फेयर कनेक्शन मशीनें लगाना और महापौर स्मार्ट कार्ड की सुविधा देना, ये सभी लोक परिवहन को बढ़ावा देना है।

You May Also Like

English News