स्वामी ने याद दिलवाया रामलला की पूजा का हक़

रामजन्म भूमि पर पूजा अर्चना को लेकर दायर की गई अपनी याचिका पर बीजेपी के दिग्गज नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर कोर्ट को जल्द सुनवाई की याद दिलवाई है. रामजन्‍म भूमि पर पूजा-अर्चना के अधिकार को लेकर  सुप्रीम कोर्ट से उनकी याचिका पर शीघ्र सुनवाई की मांग इससे पहले भी स्वामी कर चुके है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में जल्‍द सुनवाई से फिर इन्‍कार कर दिया है.रामजन्म भूमि पर पूजा अर्चना को लेकर दायर की गई अपनी याचिका पर बीजेपी के दिग्गज नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर कोर्ट को जल्द सुनवाई की याद दिलवाई है. रामजन्‍म भूमि पर पूजा-अर्चना के अधिकार को लेकर  सुप्रीम कोर्ट से उनकी याचिका पर शीघ्र सुनवाई की मांग इससे पहले भी स्वामी कर चुके है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में जल्‍द सुनवाई से फिर इन्‍कार कर दिया है. स्‍वामी को इस मामले में चीफ जस्टिस सीजेआई दीपक मिश्रा ने तत्काल सुनवाई की तारीख़ नहीं देते हुए सीजेआई से कहलवाया है कि स्वामी मामले पर कुछ और समय इंतजार करे. स्वामी की याचिका की सुनवाई रामजन्म भूमि के मुख्य मामले से अलग से की जानी है. स्वामी के अनुसार पूजा अर्चना के मौलिक अधिकार को केस के हल होने से नहीं जोड़ा जा सकता और रामलला की पूजा अर्चना उनका हक है.  स्वामी ने अपनी याचिका में कहा था कि सम्पत्ति के अधिकार को लेकर मुकदमा नहीं है, लेकिन पूजा करने का अधिकार मुझे है. प्रत्येक हिन्दू को है और पूजा का अधिकार सम्पत्ति के अधिकार से ऊपर है. मामला फ़िलहाल SC  में अटका हुआ है.

स्‍वामी को इस मामले में चीफ जस्टिस सीजेआई दीपक मिश्रा ने तत्काल सुनवाई की तारीख़ नहीं देते हुए सीजेआई से कहलवाया है कि स्वामी मामले पर कुछ और समय इंतजार करे. स्वामी की याचिका की सुनवाई रामजन्म भूमि के मुख्य मामले से अलग से की जानी है. स्वामी के अनुसार पूजा अर्चना के मौलिक अधिकार को केस के हल होने से नहीं जोड़ा जा सकता और रामलला की पूजा अर्चना उनका हक है.

स्वामी ने अपनी याचिका में कहा था कि सम्पत्ति के अधिकार को लेकर मुकदमा नहीं है, लेकिन पूजा करने का अधिकार मुझे है. प्रत्येक हिन्दू को है और पूजा का अधिकार सम्पत्ति के अधिकार से ऊपर है. मामला फ़िलहाल SC  में अटका हुआ है. 

You May Also Like

English News