हर हिंदुस्‍तानी हो जाए तैयार क्‍याेंकि 2 मार्च को PM मोदी करने जा रहा ये सबसे बड़ा ऐलान

हर हिंदुस्‍तानी हो जाए तैयार क्‍याेंकि 2 मार्च को PM मोदी करने जा रहा ये सबसे बड़ा ऐलान, इस वक्त जनता महंगाई से त्रस्त हैं, हर चीज के दाम बढ़ते जा रहे हैं। बढ़ती महंगाई ने लोगों की कमर तोड़ रखी हैं। वहीं बताया जा रहा हैं कि आने वाले 2 मार्च से दूध और दूध से बने उत्पाद महंगा होने वाला हैं। देश के मिल्क और मिल्क प्रोडक्ट्स के सबसे बड़े हिस्से पर काबिज को-ऑपरेटिव संस्था गुजरात को-आपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन अमूल मार्च तक दूध दो रुपए प्रति लीटर महंगा कर सकती है।
हर हिंदुस्‍तानी हो जाए तैयार क्‍याेंकि 2 मार्च को PM मोदी करने जा रहा ये सबसे बड़ा ऐलान

ये महिला पुलिस ऑफिसर रात को अंडरगारमेंट्स पहन कर करती है

अमूल के मैनेजिंग डायरेक्टर ने यह जानकारी दी। इसके पीछे उन्होंने दूध की खरीद लागत में हो रही बढ़ोतरी को वजह बताया। उन्होंने कहा कि इससे डेयरी इंडस्ट्री में मार्जिन पर दबाव बढ़ेगा। इसके साथ ही अमूल वैल्यू ऐडेड प्रोडक्ट्स में अपनी पकड़ बढ़ाना चाहता है। इसके लिए उसने चीज मैन्युफैक्चरिंग की कैपिसिटी में भारी बढ़ोत्तरी की है।

हालांकि, इसके लिए सरकार लगातार कोशिश कर रही हैं। किसानों के हताश होने की एक वजह ये भी हैं कि साल 2014 से 2015 के मध्य तक किसानों को गाय के दूध के लिए 25 से 27 रूपये प्रति लीटर के लिए मिलते थे। लेकिन, बाद में इसमें अचानक गिरावट आ गई और दाम गिरकर 17 रूपये प्रति लीटर पर आ गए।

बड़ी खबर: पाकिस्तान से निपटने के लिए हाइड्रोजन बम बना रही थी राजीव गांधी सरकार

तीन महीने पहले तक दाम यही था लेकिन एक बार फिर ये रेट बढ़कर 25 रूपये लीटर पर आ गया हैं। लेकिन, फिर भी बताया जा रहा हैं कि किसान इस ओर अब ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहते हैं। अमूल का मानना हैं कि 2 मार्च से लोगों को दूध 2 रूपये लीटर मिल सकता हैं। इस वक्त देश में सबसे बड़ी समस्या हैं कि किसान अपनी जड़ों को छोड़ता जा रहा हैं। इसे बाहर से न मिलने वाला प्रोत्साहन कहें या फिर कुछ और।

एक बात तय हैं कि इससे देश में महंगाई चरम पर पहुंच सकती हैं। कंपनियां कीमतों में होने वाले इजाफे का फायदा किसानों को देना चाहती हैं ताकि उन्हें सप्लाइ बढ़ाने के लिए उत्साहित किया जा सके। इससे कंपनियों को गर्मियों के लिए स्टॉक तैयार करने में भी मदद मिलेगी। गर्मियों के दौरान ताजे दूध का उत्पादन कम हो जाता है। किसानों को इस वक्त अर्थव्यवस्था को कंट्रोल करने वाला मीटर कहा जाये तो यह गलत नहीं होगा। खैर अब देखना ये हैं कि सरकार दूध के इन बढ़ते दामो को किस तरह से कंट्रोल करती हैं।

You May Also Like

English News