हाईकोर्ट ने पूछा, आरोप से मुक्त होने के बाद भी साध्वी प्रज्ञा जेल में क्यों?

मुंबई। वर्ष 2008 मालेगांव विस्फोट मामले में गिरफ्तार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए बंबई हाईकोर्ट ने पूछा कि जब अभियोजन एजेंसी कह चुकी है कि उनके खिलाफ केाई मामला नहीं है तो उन्हें जेल में कैसे रखा जा सकता है। साध्वी प्रज्ञा ने हाईकोर्ट से अनुरोध किया है क्योंकि विशेष मकोका अदालत ने 28 जून को उन्हें जमानत देने से इंकार किया था।sadhvi

न्यायमूर्ति एनएच पाटिल और न्यायमूर्ति पीडी नाइक की खंडपीठ ने एनआईए से इस मामले से जुड़े सभी पिछले आदेशों तथा फैसलों को एकसाथ सौंपने को कहा। बता दें, साध्वी प्रज्ञा को एनआईए ने इस साल क्लीन चिट दी थी लेकिन निचली अदालत ने उन्हें जमानत देने से इंकार किया था। उनकी याचिका में कहा गया कि निचली अदालत परिस्थितियों में बदलाव पर विचार करने में नाकाम रही।

You May Also Like

English News