हाईवे पर लूटी गयी माल से भरी डीसीएम

लखनऊ ,14 दिसम्बर राजधानी में एक बार फिर हाईवे पर बदमाशों ने माल से भरी डीसीएम लूट ली। डीसीएम लूट की वारदात इस बार आशियाना स्थित शहीद पथ के पास हुई। वारदात को बाइक सवार दो बदमाशों ने अंजाम दिया। अब तक राजधानी में दो माह के अंदर हाईवे पर इस तरह लूट की घटना है। फिलहाल डीसीएम लूट के मामले में पुलिस ने लूट की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। बताया जाता है कि डीसीएम में लाखों का माल लदा हुआ था। कानपुर निवासी रियाज अहमद का सरोजनीनगर के टीपी नगर इलाके में पवन फ्राइट के नाम से ट्रांसपोर्ट है। बताया जाता है कि मंगलवार की रात करीब 8 बजे ट्रांसपोर्टर से एक डीसीएम माल लेकर गोरखपुर के लिए निकली थी। डीसीएम को बस्ती निवासी अतीकुर्रहमान नाम का चालक चला रहा था। चालक ने बताया कि जब वह शहीद पर्थ के पास पहुंचा उसको एक बाइक सवार दो लोगों ने रोकने की कोशिश की। बाइक सवार युवक चलती डीसीएम का गेट खोलने की कोशिश कर रहे थे।
हाईवे पर लूटी गयी माल से भरी डीसीएम
इस पर चालक ने डीसीएम को ओर रफ्तर दे दी। वहीं कुछ ही मिनट के बाद गुड़ौरा इलाके में बाइक सवार दोनों युवकों ने डीसीएम को ओवरटेक किया और बाइक को डीसीएम के सामने लगा दिया। सामने बाइक देख चालक ने ब्रेक लगायी और फौरन शीशा चढ़ा दिया। डीसीएम का शीशा चढ़ाने पर बाइक सवार युवकों ने उस पर डंडा मारा और शीशा तोड़ दिया। बाइक सवार युवकों की यह हरकत देख चालक अतीकुर्रहमान किसी तरह डीसीएम से नीचे उतारा और वहां से भाग निकला। मौके से भाग कर चालक सीधे ट्रांसपोर्ट पहुंचा और ट्रांसपोर्ट मालिक को घटना के बारे में बताया। इसके बाद ट्रांसपोर्ट मालिक चालक को अपने साथ लेकर घटनास्थल पर पहुंचा तो देखा कि डीसीएम व बाइक गायब थी। ट्रांसपोर्ट मालिक ने फौरन ही घटना की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी।
डीसीएम लूट की सूचना मिलते ही मौके पर आशियाना पुलिस भी पहुंच गयी। पुलिस ने पहले तो बाइक सवार लुटेरों को इधर-उधर काफी तलाशा पर कोई पता नहीं चल सका। इसकेबाद पुलिस ने इस मामले में ट्रांसपोर्ट मालिक रियाज की तहरीर पर बाइक सवार दो लुटेरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। चालक से हुलिया जाने में जुटी है पुलिस डीसीएम चालक अतीकुर्रहमान से आशियाना पुलिस बदमाशों का हुलिया जानने में लगी है। फिलहाल चालक अभी तक पुलिस को बदमाशों का हुलिया सही से नहीं बता सका है। उसका कहना है कि अंधरा होने की वजह से वह बाइक सवार बदमाशों को ठीक से नहीं देखा सका था। चालक का कहना है कि दोनों बदमाशों के चेहरे खुले हुए थे। उन लोगों के पास किसी कम्पनी की बाइक थी चालक इस बारे में नहीं पता। उसने बस बाइक पर पड़ा आधा नम्बर यूपी 32….. ही देखा था। अक्टूबर से लेकर अब लूट की यह चौथी घटना राजधानी में ट्रक लूट की यह कोई पहली घटना नहीं है। 25 अक्टूबर को मलिहाबाद इलाके में बदमाशों ने सेब से लदा एक ट्रक लूटा था। इस घटना का खुलासा एसटीएफ ने किया था और लूटे गये ट्रक व सेब के साथ कुछ बदमाशों को गिरफ्तार किया था।
 24 अक्टूबर को पीजीआई इलाके में भी बदमाश एक खाली ट्रक को लूट ले गये थे। बदमाशों ने ट्रक के चालक को प्रतापगढ़ जनपद में फेंक दिया था। इस वारदात का खुलासा करते हुए क्राइम ब्रांच ने  कुछ बदमाशों को गिरफ्तार किया था और लूटा गया ट्रक भी बरामद किया था। 27 नवम्बर- बंथरा के जुनाबगंज इलाके में ट्रासंपोर्ट के सामने खड़े ट्रक को असलहाधारी बदमाश लूट ले गये थे। बदमाशों ने ट्रक के चालक को कानपुर जनपद में सड़क के किनारे फेंक दिया था। इस मामले में अब तक बंथरा पुलिस कुछ नहीं कर सकी है। शहर में रात के वक्त हाईवे पर हो रही लूट की यह घटनाएं साफ दर्शाती हैं कि हाईवे पर पुलिसिंग का क्या हाल है। बदमाश बड़ी आराम से वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं और पुलिस को भनक तक नहीं लगती है। कुछ माह पहले बुलंदशहर जनपद में हाईवे पर लूट व गैंगरेप की घटना के बाद आईजी लेविल के अधिकारियों को हाईवे की सुरक्षा की जिम्मेदारी दी गयी थी। जिम्मेदारी मिलने के बाद अधिकारियों ने कुछ दिन तक तो हाईवे पर सघन चेकिंग अभियान चलाया पर समय गुजरने के साथ ही हाईवे पर पुलिस पेट्रोलिंग की व्यवस्था पुराने ढर्रे पर पहुंच गयी।

 
 
 
 

You May Also Like

English News