हिन्दू लड़कियों के धर्मांतरण के लिए बदनाम दरगाह

धर्मांतरण को लेकर पाकिस्तान के घोटकी जिले के भरचंडी इलाके में स्थित दरगाह पहले भी सुर्खियों में रह चुकी है एक खबर के अनुसार कुछ साल पहले एक पड़ताल में दरगाह के मियां मिट्ठू और उसके भाई पीर मियां शमां से मुलाकात में दोनों ने हिंदू लड़कियों को जबरन मुसलमान बनाने की बात को नकारते हुए यह दावा किया था कि वे अब तक 200 हिंदू लड़कियों को उनकी कथित मर्जी से मुसलमान बनाकर उनका निकाह करा चुके हैं.हिन्दू लड़कियों के धर्मांतरण के लिए बदनाम दरगाह

सिंध की भरचंडी शरीफ दरगाह को लेकर एक अख़बार में कमाल सिद्दिकी ने व्हाट ए शेम शीर्षक से लिखा था, “बीते तीन साल में भरचंडी शरीफ दरगाह में 150 से ज्यादा असहाय हिंदू लड़कियों को जबरन मुसलमान बनाया गया है, एक बार लड़की अगवा हो जाए तो फिर सब कुछ ड्रामा होता है, लड़की के मां-बाप इधर-उधर दौड़ते हैं, गुहार लगाते हैं, जब तक थाने में रपट लिखी जाती है तब तक दरगाह का पीर लड़की के मुसलमान बन जाने और निकाह कर लेने का सर्टिफिकेट जारी कर देता है.“कमाल सिद्दिकी के मुताबिक सिंध में हिंदू लड़कियों को अगवा करने का धंधा इतना तेज हो गया है कि अधिकांश मां-बाप उन्हें स्कूल ही नहीं भेज रहे हैं. इसके बाद खुद पाकिस्तान मानवाधिकार आय़ोग ने यह कुबूल किया था कि पाकिस्तान में इस कथित कृत्य के लिए हर महीने करीब 20 हिंदू लड़कियो का अपहरण किया जाता रहा है.

बावजूद इसके मियां मिट्ठू को पाक क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान से पार्टी में जगह दी है और तो और अब वो इमरान खान की पार्टी से चुनाव लड़ कर पाक सियासत में कदम रखने वाला है. गौरतलब है कि इससे पहले भी इमरान मिया को अपनी पार्टी में शामिल करने कि कोशिश कर चुके है मगर हिन्दुओं के घोर विरोध के बाद इमरान ने उसे टाल दिया था मगर अब एक बार फिर इमरान ने अपनी पार्टी-तहरीके इंसाफ में शामिल करने का फैसला किया है. मियां मिट्ठू का भाई पीर मियां शमां खुलेआम यह कह चुका है कि उसका मकसद कम से कम दो हजार हिंदू लड़कियों को मुसलमान बनाना है. 

You May Also Like

English News