प्रधान डाकघर में खजांची ने ही करीब 87 लाख का गबन कर दिया। अपने पुत्र के नाम फर्जी चेक काटकर निजी बैंक से रकम कैश करा ली। शिकायत मिलने पर अफसरों ने विभागीय जांच कराई तो घपले की पुष्टि हुई। विभाग की ओर से आरोपित डिप्टी पोस्ट मास्टर को निलंबित कर मुकदमा दर्ज कराया गया है। तहरीर के अनुसार, करीब 12.50 लाख रुपये के घपले की पुष्टि हो चुकी है

बरेली और इलाहाबाद के डाकघरों में एक करोड़ का गबन, डिप्टी पोस्ट मास्टर निलंबित

बुधवार को राहुल सक्सेना नाम के व्यक्ति ने डाकघर के खजाने के डिप्टी पोस्ट मास्टर वाइके शर्मा पर गंभीर आरोप लगाते हुए शिकायत की। फर्जी तरीके से डाक विभाग से दो चेक अपने पुत्र के नाम काटने की बात कही। एक चेक करीब चार लाख तथा दूसरा करीब साढ़े आठ लाख रुपये का बताया। एक्सिस बैंक की शाखा से भुगतान होने की बात भी कही। शिकायत मिलने पर अधिकारी हरकत में आए और रिकार्ड खंगालने में जुट गए। विभागीय जांच पड़ताल में आरोपों की पुष्टि हुई। जिस पर आरोपित डिप्टी पोस्ट मास्टर से जवाब तलब किया गया। सूत्रों की मानें तो पहले आरोपित ने बचने का प्रयास किया।

चेक भूलवश बेटे के नाम काटने की बात कही। माफी मांगी और करीब 12.50 लाख की धनराशि भी जमा कर दी। गोलमाल की आशंका पर सीनियर पोस्टर मास्टर सुरेंद्र कुमार ने आरोपित को निलंबित कर दिया है। विभाग की ओर से दी गई तहरीर में 87 लाख 51 हजार 747 रुपये की हेराफेरी का आरोप है। जबकि विभागीय जांच में दो चेक आठ लाख 45 हजार 619 रुपये और चार लाख सात हजार 305 रुपये के कैश कराने की पुष्टि हो चुकी है। देर रात मामले में मुकदमा दर्ज हो गया है।

खजाने के डिप्टी पोस्ट मास्टर वाइके शर्मा के खिलाफ करीब साढ़े 12 लाख के फर्जी चेक अपने पुत्र के नाम काटने की शिकायत मिली थी। जांच में आरोप सही पाए गए। उन्हें निलंबित करके कोतवाली में तहरीर दी गई है।-रामेश्वर दयाल, प्रवर अघीक्षक डाकघर।

मुझे राजनीति के तहत फंसाया जा रहा है। गलती से बेटे के नाम करीब साढ़े बारह लाख के चेक कट गए थे। जिसका पता चलते ही करीब साढ़े बारह लाख की धनराशि विभाग में जमा करा दी गई।- वाईके शर्मा, डिप्टी पोस्टमास्टर (खजाना)  

डाक विभाग में 10 लाख 64 हजार का घोटाला
इलाहाबाद : खुल्दाबाद थाना क्षेत्र स्थित अहमदगंज उप डाकघर में 10 लाख 64 हजार रुपये का घोटाला सामने आया है। विभागीय जांच के बाद सहायक अधीक्षक केंद्रीय उपमंडल बीपी सिंह ने खुल्दाबाद थाने में तहरीर दी। उसके आधार पर पुलिस ने डाक सहायक अश्वनी कुमार सिंह, सत्यभान सिंह, उप डाक पाल विजय कुमार पांडेय और गौस नगर करेली निवासी अली अनवर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। 
पुलिस के मुताबिक, नया पुरवा जीटीबी नगर करेली निवासी मो. असलम अजहर की पत्नी दुर्रे शहवार ने अहमदगंज उप डाक घर में दो साल पहले बचत खाता खुलवाया था। इसके बाद उसमें वह रुपये जमा करती रहीं। एक दिन उन्होंने अपने परिचित अली अनवर को पासबुक दिया कि उसमें इंट्री करवा लाना। इंट्री हो जाने के बाद पासबुक देखने पर दुर्रे हैरान हो गईं। अलग-अलग तिथियों में उनके खाते से 10 लाख 64 हजार रुपये की निकासी हुई थी। इस पर उन्होंने मामले की शिकायत डाक विभाग के अधिकारियों से की। विभागीय जांच शुरू हुई तो घोटाला सामने आया गया। साथ ही कर्मचारी अश्वनी, सत्यभान और विजय कुमार पांडेय की संलिप्तता पाई गई। कहा जा रहा है प्रथम दृष्टया दोषी पाए जाने पर कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया था। फिलहाल प्रभारी खुल्दाबाद थानाध्यक्ष प्रदीप कुमार राय ने बताया कि डाक अधिकारी की लिखित शिकायत पर तीन कर्मचारियों समेत चार के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। विवेचना में तथ्य के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

 

You May Also Like

English News