Fake Picture: कुछ ही घंटे के बाद प्रणव मुखर्जी की फेक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल, जानिए इसका सच !

नागपुर: आरएसएस के कार्यक्रम में जाने को लेकर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठïा को जिस बात का डर था आखिर वहीं हुआ। नगपुर में भाषण के कुछ ही घंटे बाद सोशल मीडिया पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की संघ नेताओं की तरह सैल्यूट करती तस्वीर जारी हो गई।


प्रणब की बेटी शर्मिष्ठा ने इसे भाजपा की करतूत बताया है। शर्मिष्ठा ने कहा कि देखिए मुझे जिसका डर था और जिसके लिए मैंने अपने पिता को चेताया था वही हो रहा है। अभी कुछ घंटे भी नहीं बीते हैं और भाजपा -संघ के डर्टी ट्रिक्स विभाग ने जोरशोर से काम शुरू कर दिया है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरे में प्रवण मुखर्जी संघ के कार्यक्रम में सैल्यूट कर रहे हैं, जबकि कल हुए कार्यक्रम में प्रवण मुखर्जी ने संघ के नेताओं की सैल्यूट नहीं किया गया था। बता दें कि नागपुर स्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मुख्यालय में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के संबोधन से एक दिन पहले उनकी बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पिता के कार्यक्रम में शामिल होने के फैसले को अनुचित ठहराया था।

शर्मिष्ठा ने कहा कि संघ मुख्यालय में उनका संबोधन भुला दिया जाएगा लेकिन इससे जुड़ीं तस्वीरें बनी रहेंगी। उन्होंने कहा था कि संघ का न्योता स्वीकार कर पूर्व राष्ट्रपति ने भाजपा और संघ को झूठी कहानियां गढऩे का मौका दे दिया है। शर्मिष्ठा ने ट्वीट कर कहा था कि पूर्व राष्ट्रपति जल्द ही समझ जाएंगे कि भाजपा की गंदी चालबाजी कैसे काम करती है।

संघ कभी नहीं मानेगा कि अपने ;प्रणब केद्ध भाषण में आप इसके विचारों की सराहना कर रहे हैं। शर्मिष्ठा का यह बयान उन खबरों के बाद आयाए जिनमें कहा गया है कि प्रणब मुखर्जी चाहते हैं कि शर्मिष्ठा मालदा ;पश्चिम बंगालद्ध से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े।

हालांकि भाजपा में शामिल होने की अफवाहों को खारिज करते हुए शर्मिष्ठा ने कहा कि वह कांग्रेस छोडऩे के बजाय राजनीति से संन्यास लेना पसंद करेंगी। आपके संबोधन को भुला दिया जाएगा और झूठे बयानों के साथ आपकी तस्वीरों को प्रचारित किया जाएगा।

कांग्रेस छोडऩे की अफवाह को बकवास बताते हुए शर्मिष्ठा ने ट्वीट किया किया कि पहाड़ों में खूबसूरत सूर्यास्त का आनंद लेने के बीच भाजपा में मेरे शामिल होने की अटकलें मेरे लिए टारपिडो की तरह हैं। इस दुनिया में कहीं भी सुकून और शांति नहीं मिल सकती है क्या? सभार-अमर उजाला

You May Also Like

English News