26 साल बाद इडुक्की बाँध खतरे के निशान पर

केरला में हो रही भारी बारिश से मशहूर पर्यटन स्थल इडुक्की बाँध पूरी तरह भर गया है. बाँध के गेट खोले जाने की आशंका के चलते, इसके आस-पास के इलाकों में पर्यटन पर रोक लगा दी है. केरल की डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने बांध के पानी से होने वाले खतरों को देखते हुए चेतावनी जारी कर दी है. केरला में हो रही भारी बारिश से मशहूर पर्यटन स्थल इडुक्की बाँध पूरी तरह भर गया है. बाँध के गेट खोले जाने की आशंका के चलते, इसके आस-पास के इलाकों में पर्यटन पर रोक लगा दी है. केरल की डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने बांध के पानी से होने वाले खतरों को देखते हुए चेतावनी जारी कर दी है.   बिहार: भारी बारिश के चलते सोमवार को बंद रहेंगे स्कूल    रविवार को हुई बारिश के कारण केरल की पेरियार नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुँच गया है.  फिलहाल इसका जलस्तर 2395 फीट के आसपास है और 2400 फीट पार करते ही डैम के दरवाजे खोल दिए जाएंगे. इसलिए प्रशासन ने आस-पास के इलाकों में चेतावनी जारी कर दी है. बताया जा रहा है कि 26 साल बाद आज डैम के दरवाजे खोलकर पानी छोड़ा जा सकता है, जिससे कई घर तबाह होने की आशंका भी है. हालांकि, प्रभावित होने लायक इलाकों को खाली करा लिया गया है.  बारिश में भी आग लगा रहा आम्रपाली और निरहुआ का रोमांस    आपको बता दें कि  इडुक्की में शुक्रवार तक कुल 192.3 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई है जो पिछले साल की तुलना में 49 फीसदी ज्यादा है, केरल की एनडीआरएफ यूनिट के मुताबिक, पेरियार नदी के 100 मीटर के दायरे में कुल 4500 मकान हैं. कलेक्टर के मुताबिक, एक सर्वे के अनुसार पता चला है कि बांध के पानी से 50 मीटर के दायरे में आने वाले मकान प्रभावित हो सकते हैं, इसलिए, यहां से ऐहतियात के तौर पर लोगों को हटाया जाएगा.

रविवार को हुई बारिश के कारण केरल की पेरियार नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुँच गया है.  फिलहाल इसका जलस्तर 2395 फीट के आसपास है और 2400 फीट पार करते ही डैम के दरवाजे खोल दिए जाएंगे. इसलिए प्रशासन ने आस-पास के इलाकों में चेतावनी जारी कर दी है. बताया जा रहा है कि 26 साल बाद आज डैम के दरवाजे खोलकर पानी छोड़ा जा सकता है, जिससे कई घर तबाह होने की आशंका भी है. हालांकि, प्रभावित होने लायक इलाकों को खाली करा लिया गया है.

आपको बता दें कि  इडुक्की में शुक्रवार तक कुल 192.3 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई है जो पिछले साल की तुलना में 49 फीसदी ज्यादा है, केरल की एनडीआरएफ यूनिट के मुताबिक, पेरियार नदी के 100 मीटर के दायरे में कुल 4500 मकान हैं. कलेक्टर के मुताबिक, एक सर्वे के अनुसार पता चला है कि बांध के पानी से 50 मीटर के दायरे में आने वाले मकान प्रभावित हो सकते हैं, इसलिए, यहां से ऐहतियात के तौर पर लोगों को हटाया जाएगा. 

You May Also Like

English News