नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 11 जवानों को उतारा मौत के घाट, पहाडिय़ों से छुपकर किया हमला !

छत्तीसगढ़ : छत्तीसगढ़ के बस्तर में नक्सलियों ने खून की होली खेली है। जहां सीआरपीए की एक पार्टी पर घात लगाकर हमला किया गया इस हमले में 11 जवान शहीद हो गए हैं। नक्सलियों ने शहीद जवानों के हथियार और मोबाइल फोन भी लूट लिए इस घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है।


सीआरपीएफ की 219वीं बटालियन के जवान रोड ओपनिंग के लिए तड़के चार बजे भेज्जी के जंगलो में निकले थे उन्हें इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि भेज्जी इलाके में तीन सौ से ज्यादा नक्सलियों जमावड़ा था। सीआरपीएफ का गश्ती दल इस बात से पूरी तरह से बेखबर था दल एक निर्माण स्थल की तरफ जा रहा था।

इससे पहले कि सीआरपीएफ के जवान उस जगह तक पहुंच पाते नक्सलियों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। जवाब में जवानों ने भी फायर किया। करीब डेढ़ घंटे तक चली आमने सामने की फायरिंग में नक्सली सीआरपीएफ के जवानों पर भारी पड़े। नक्सली संख्या बल में कहीं ज्यादा थे और वे पहाड़ी के ऊपरी हिस्से से फायरिंग कर रहे थे।

जिसके चलते उन्होंने सीआरपीएफ के जवानों को गोलियों से छलनी कर दिया इस घटना में 11 जवान शहीद हो गए जबकि पांच जवान बुरी तरह से जख्मी हुए हैं। साथ ही 4 जवानों को मामूली चोटें भी आई हैं । मुख्यमंत्री रमन सिंह ने इस घटना को नक्सलियों की कायराना हरकत करार दिया है।

दरअसल बस्तर में नक्सलियों ने सड़को के निर्माण पर पाबंदी लगा रखी है वो न तो निर्माण एजेंसियों को काम करने देते हैं और ना ही मजदूरों को लिहाजा सुकमा,, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कांकेर के जंगलो के भीतर बसे कई गांवों में सड़को के निर्माण का काम पुलिस और केंद्रीय सुरक्षाबलों ने अपने हाथों में ले रखा है।

You May Also Like

English News