4 साल की मासूम थी घर से गायब, 6 दिन बाद पड़ोस के घर बच्ची का हाल देख कर पिता के उड़ गए होश

मऊ: भारत में आये दिन बच्चे लापता हो रहे हैं. ऐसे में इन किडनैपिंगस के पीछे ज़्यादातर अपनों का ही हाथ होता है. आज कल के लोग पैसे के लालच में इतने पागल हो चुके हैं कि उनको अच्छे और बुरे की समझ ही नहीं रही. पैसे के लिए वह इतने पागल हो चुके हैं कि बच्चों को अपना शिकार बना लेते हैं और उनके माँ बाप से मुंह मांगी कीमत वसूलते हैं. कुल मिला कर ये मान लीजिये कि उन्हें मासूम बच्चों में भगवान भी नहीं नजर आता. वह अपनी इंसानियत खो कर हैवान बन चुके हैं,शायद इसलिए उन्हें किसी के सुख दुःख से कोई फर्क ही नहीं पढ़ता. आज हम आपके लिए एक ऐसी ही ख़बर लायें हैं, जिसे पढ़ कर आपको इंसानियत पर से भरोसा ही उठ जायेगा. दरअसल, उत्तरप्रदेश के मऊ जिले के मोहम्मदाबाद कोतवाली के एक क्षेत्र में उस सी बवाल मच गया, जब वहां किसी लाश के जलने की दुर्गन्ध आने लग गयी. जब लोगो ने दुर्गन्ध वाली जगह का पता लगाया तो वहां एक मासूम का शव जलता देख उनके पांव तले से ज़मीन ही खिसक गयी. चलिए जानते हैं ये पूरा मामला आखिर क्या है…

छह दिन पहले हुई थी घर से लापता

दरअसल, 11 नवम्बर के दिन चेहल्लुम के एक मोहल्ले में रहने वाले वारिस हुसैन की चार साल की मासूम बच्ची इश्मत जेहरा घर से गायब हो गयी थी. परिवार वालो ने उस बच्ची को आस पास हर जगह तलाशा लेकिन वह कहीं नहीं मिली. आखिरकार उन्होंने बच्ची की गुमशुदा रिपोर्ट पुलिस थाणे में दर्ज़ करवा दी. पुलिस ने मामले की जांच उसी दिन शुरू कर दी थी लेकिन फिर भी वह बच्ची उन्हें कहीं नही मिली. आपको ये जानकर हैरानी होगी की वारिस हुसैन की बच्ची को खोये हुए छह दिन बीत गये थे लेकिन, उसका कहीं भी कोई पता नहीं चल पा रहा था. आखिरकार, कल सुबह जब गाँव में शव जलने की दुर्गन्ध फ़ैली तो वारिस ने पड़ोसी बद्री सेठ के घर झाँका. वहां अपनी बच्ची के शव को जलता देख उसके होश उड़ गये.

मौके पर पहुंची पुलिस

बच्ची के शव को जलता देख पूरे इलाके के लोग गुस्से में पागल हो गये. उन्होंने इस बात की जानकारी तुरंत पुलिस को दी. जानकारी के अनुसार हत्या का सुनते ही पुलिस फ़ोर्स मौके पर पहुँच गयी और बद्री सेठ और उसके बेटे को गिरफ्तार कर लिया गया. फिलहाल पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और बाप बेटे से बच्ची के बारे में पूछताछ शुरू कर दी है. बच्ची के चाचा फरमान अली ने बताया कि उनकी बच्ची 11 नवम्बर को दोपहर तीन बजे किडनैप हुई थी. फ़िलहाल बच्ची के परिजनों ने पड़ोसी के खिलाफ FIR दर्ज़ करवा दी है.

जानकारी के अनुसार एसपी ललित ने बताया कि सच दिन पहले इशरत को घर से किसी ने किडनैप कर लिया था. उसके बाद वह बच्ची की तलाश में जुड़ गये थे. लेकिन आज उन्होंने बच्ची का शव वारिस के पडोस में ही संदिग्ध स्थिथि में बरामद कर लिया है. आइल साथ ही ललित ने बताया कि उन्होंने दोनों बाप बेटों को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की करवाई शुरू कर दी है. जल्द से जल्द दोनों को सज़ा मिल पायेगी.

You May Also Like

English News