बिहार के बाढ़ में खाट स्ट्रेचर तो नाव बनी एंबुलेंस, लोगों ने NDRF और SDRF  के जवानों को बताया ‘भगवान’

पटना/खगड़िया.बाढ़ में फंसे लोगों की मुश्किलें कम नहीं हो रहीं। कई लोगों की तबीयत बिगड़ने पर अब यहां के लोगों के लिए खाट स्ट्रेचर तो नाव एंबुलेंस बन गई है। कई जगह राहत के लिए उतरी एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवानों को पीड़ितों ने भगवान बताया है। प्रशासन के दावे से अलग है ग्राउंड जीरो की हालत…
बिहार के बाढ़ में खाट स्ट्रेचर तो नाव बनी एंबुलेंस, लोगों ने NDRF और SDRF  के जवानों को बताया 'भगवान'
– हालांकि उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों में फंसे लोगों को सेना के जवान राहत शिविरों में पहुंचाने में लगे हैं। 
– इधर, पानी घट ही रहा था कि नेपाल में फिर बारिश ने गंभीर हालात पैदा कर दिए। अब गंगा भी उफान पर है।
– बाढ़ की परेशानियों में लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 
– एक ओर जहां जिला प्रशासन बाढ़ग्रस्त हर क्षेत्र में अपनी तैयारी के दुरुस्त होने का दावा करती है वहीं बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र की हकीकत कुछ और ही है। 

ये भी पढ़े: स्कूल हास्टल में बच्चों से घिनौनी हरकत, लोगों ने की तोडफ़ोड़ और हंगाम !

– वैसे तो खगड़िया से साथ कई जिले में कई ऐसे गांव हैं, जहां पक्की सड़क नहीं होने की वजह से बरसात के मौसम में आपात स्थिति में मरीजों को खाट पर हॉस्पिटल लाया जाता रहा है। 
– लेकिन जब बाढ के कारण चारों तरफ पानी ही पानी हो तो गंभीर मरीजों के लिए टापूनुमा गांव से अस्पताल तक के सफर के बीच खटिया ही स्ट्रेचर और नाव एंबुलेंस बन जाती है, लेकिन हालात कैसे हैं इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि गंभीर मरीजों को मवेशियों के साथ सफर करना पड़ रहा है।

 
एक नाव के लिए पहुंच रहे कई लोग
– बीते बुधवार की दोपहर जैसे ही जिले के अलौली ब्लॉक के मोरकाही घाट पर एक नाव लगी उस नाव के लिए लोग उमड़ पड़े। 
– गंभीर मरीज को लेकर एक नाव आकर लगी और उसी नाव पर मरीज के ठीक बगल में मवेशी भी थी। 
– इस हालत को देखकर हर लोग वहां जिला प्रशासन को कोस रहे थे। लोगों के मुंह से यह दुआ निकल पड़ी कि भगवान इस हाल में कोई बीमार ना पड़े। 
– बाढ के कारण आवागमन की समस्याओं को देखते हुए कई लोग पहले स्थानीय स्तर पर उपलब्ध झोला छाप चिकित्सकों से इलाज करा रहे हैं। 
– बावजूद इसके जब मर्ज बढ़ जा रहा है तो उनकी फैमिली किसी तरह उन्हें शहर के डॉक्टर्स के पास इलाज के लिये ले जा रहे हैं।

You May Also Like

English News