आगरा एडीएम का बेटे सुपारी लेकर कर रहा था कंट्रेक्ट कीलिंग, गिरफ्तार

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के आगरा जनपद में तैनात एक एडीएम का बेटा सुपारी लेकर कंट्रेक्ट कीलिंग कर रहा था। उसने राजधानी लखनऊ में टाइल्स कारीगर राजेश रावत की हत्या रुपये लेकर साथियों के साथ की थी। राजेश की हत्या उसके बेटे गुलशन ने करायी थी। हत्या की सुपारी आगरा में तैनात एडीएम सिलिव सप्लाई के बेटे आर्यन ने ली थी। इस सनसनीखेज हत्याकाण्ड का खुलसा करते हुए पीजीआई पुलिस ने कारीगर के बेटे सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। इस वारदात में शामिल दो आरोपी है फरार हैं।


एसएसपी दीपक कुमार ने बतया कि बीते 8 अगस्त को पीजीआई अवध विहार कॉलोनी के मेनहोल में अधजला शव मिला था। शव की शिनाख्त चिनहट निवासी टाइल्स कारीगर राजेश रावत के रूप में हुई थी। पुलिस हत्या की एफआईआर दर्ज कर तफ्तीश कर रही थी। शुक्रवार को पीजीआई पुलिस ने अवध शिल्प ग्राम के पास से पांच युवकों को गिरफ्तार किया।

पुलिस ने उनके पास से 12 हजार रुपये व एक मोबाइल फोन बरामद किया। पूछताछ की गयी तो पकड़े गये युवकों ने अपना नाम चिनहट निवासी गुलशन, विभूतिखण्ड निवासी आर्यन, चिनहट निवासी सरवन करन और इन्दिरानगर निवासी अनवर अली बताया। पूछताछ की गयी तो पता चला कि गुलशन टाइल्स कारीगर राजेश रावत का बेटा है। इसके बाद पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो राजेश की हत्या की घटना का खुलासा हुआ।

आरोपी गुलशन ने अपने दोस्त सरवन से पिता की हत्या के संबंध में सम्पर्क किया था। वहीं सरवन ने आगरा में तैनात एडीएम नरेंन्द्र सिंह के बेटे यर्थाथ उर्फ आर्यन सिंह से गुलशन की मुलाकात कराई थी। इस पर गुलशन ने आर्यन को एक लाख रुपये में राजेश की हत्या करने का ठेका दिया था।

8 अगस्त को योजना के तहत आर्यन ने राजेश रावत को काम के बहाने से बुलाया था। इसके आर्यन ने अपने साथियों के साथ मिलकर टाइल्स कारीगर की राजेश की हत्या कर दी और फिर शव को जलाने के बाद उसको पीजीआई के अवध विहार स्थित मेनहोल में फेंक कर फरार हो गए थे। एसएसपी ने बताया कि चिनहट स्थित आनन्दी वाटर पार्क के पास से हत्या में प्रयुक्त कार जली हुई हालत में बरामद हुई है। बरामद की गयी कार गोमतीनगर इलाके से चोरी की गयी थी। इस हत्या में शामिल चिनहट निवासी संदीप व रवि फरार हैं। पकड़े गये आरोपियों ने पांच अगस्त को सरोजनीनगर इलाके में दो मजदूरों के साथ लूटपाट भी की थी।

गुलशन ने इसलिए करायी पिता की हत्या
टाइल्स कारीगर राजेश रावत के बेटे ने पूछताछ में बताया कि वह अपने पिता के चाल चलने से नाखुश था। गुलशन का कहना है कि उसके पिता ने उसकी मां को घर से भाग दिया था और उसकी सगी बहन को भी गायब कर दिया था। इसके बाद राजेश एक महिला को अपने घर ले आया था और उसको बतौर पत्नी रखने लगा था। इस के बावजूद भी राजेश के एक महिला से अवैध संबंध हो गये थे। राजेश ने बचपन में ही अपने बच्चों की पढ़ाई-लिखाई बंद करायी थी। पिता की इन हरकतों से परेशान गुलशन ने कई बार राजेश को उसकी हत्या की धमकी दी थी। कुछ समय पहले गुलशन ने एक तांत्रिक को भी इस काम के लिए 40 हजार रुपये दिये थे।

You May Also Like

English News