84 कोसी परिक्रमा के सभी पड़ाव पर धर्मशालाओं का होगा निर्माण : सीएम

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 84 कोसी परिक्रमा के सभी पड़ाव पर धर्मशालाओं का निर्माण कराया जाएगा, सड़कों का भी निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि धार्मिक आयोजनों में राष्ट्रीय एकाग्रता का संदेश होता है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 84 कोसी परिक्रमा के सभी पड़ाव पर धर्मशालाओं का निर्माण कराया जाएगा, सड़कों का भी निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि धार्मिक आयोजनों में राष्ट्रीय एकाग्रता का संदेश होता है।  वह मंगलवार को बस्ती के हर्रैया स्थित तपसी धाम में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर अमर शहीदों की स्मृति में आयोजित तीन दिवसीय हवन यज्ञ के पहले दिन आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में अनेक तीर्थस्थल हैं। सभी जगहों से राष्ट्रीयता की प्रेरणा मिलती है। मठ-मंदिर में जाते हैं तो मन को सुकून और शाति मिलती है। वही राष्ट्रीय एकात्मकता का आधार भी है। राष्ट्र की अस्मिता और अखंडता पर जब भी संकट आया है तो धर्मस्थल खड़े हुए हैं। नदी और तालाब हमारी संस्कृति और जीवन रेखा है। अपने जीवन के इस आधार को हम खारिज कर रहे हैं। यह चिंताजनक है। जीवों पर गंभीर संकट है। नदी संस्कृति को सुरक्षि रखना सरकार, प्रशासन के अलावा नागिरकों की भी नैतिक जिम्मेदारी है। नदियों में गंदगी का प्रवाह करना, मरे हुए पशु डालना जीव व सृष्टि के लिए खतरनाक है। जीव सृष्टि को सुरक्षित करना है तो पहले हम पर्यावरण को संरक्षित करें। राम राज्य की परिकल्पना की पहली भूमि मखौड़ा धाम है। पर्यटन विभाग के माध्यम से इस स्थल का विकास प्रदेश सरकार कराएगी। इसके अलावा तपसी धाम के किनारे स्थित मनोरमा नदी को उद्भव स्थल से लेकर विलय स्थल तक स्वच्छ कराया जाएगा। तपसी धाम में 100 मीटर लंबा घाट बनेगा। धर्मशाला और बाउंड्रीवाल का निर्माण होगा।    पूरब से लेकर पश्चिम तक हर किसी का विकास होगा: मुख्यमंत्री यह भी पढ़ें सीएम ने कहा कि सरकारें बहुत आईं और चली गईं पर पहली बार नरेंद्र मोदी की सरकार ने समाज के दबे कुचले, पिछड़े, दलित, गरीब, नौजवान, महिलाओं के बार में सोचा। तुष्टीकरण किसी का नहीं किया जा रहा है। सभी के हितों को ध्यान में रखकर कार्य किया जा रहा है। अकेले यूपी में एक साल के भीतर 13 लाख गरीबों को आवास मिला। एक करोड़ तीन लाख घरों को शौचालय दिया गया। 46 लाख घरों का विद्युतीकरण किया गया। प्रदेश में 7000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग था जिसे 11000 किलोमीटर किया गया। गरीबों को राशन, पेंशन, शिक्षा, चिकित्सा की सुविधा दी जा रही है। यूपी में विकास के नए आयाम स्थापित किए जा रहे हैं। हमारी सरकार भारतीय परंपरा को आगे बढ़ा रही है। पिछले साल अयोध्या में दीपावली पर दीपोत्सव मनाया गया था। इस बार यह आयोजन और भव्य होगा। 84 कोसी परिक्रमा के सभी पड़ाव पर धर्मशाला बनेंगे, सड़कों का निर्माण होगा।  प्रदेश में प्लास्टिक की पन्नी पर पूरी तरह प्रतिबंध है। यह कदम पर्यावरण की सुरक्षा की दृष्टि से उठाया गया है। आम नागरिक भी प्लास्टिक का उपयोग कतई न करें। एक-एक नागरिक स्वतंत्रता दिवस पर पौधे लगाए। प्रदेश में नौ लाख पौधे लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इससे पूर्व सीएम का हेलीकाप्टर जैसे ही तपसी धाम पहुंचा विधायक और अधिकारियों ने अगवानी की। हर्रैया के विधायक अजय सिंह, कप्तानगंज विधायक सीए चंद्र प्रकाश शुक्ल, रुधौली के विधायक संजय जायसवाल, सदर विधायक दयाराम चौधरी, महादेवा के विधायक रवि सोनकर, डुमरियागंज के विधायक राघवेंद्र प्रताप सिंह, नौगढ़ के विधायक श्यामधनी राही, भाजपा के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष अजय सिंह गौतम, राजेंद्र नाथ तिवारी, चंद्रभूषण मिश्र, मंडलायुक्त अलका टंडन भटनागर, जिलाधिकारी डा. राजशेखर, डीआइजी डा. राकेश शकर, एसपी दिलीप कुमार सहित अन्य अधिकारियों व भाजना नेताओं ने स्वागत किया

वह मंगलवार को बस्ती के हर्रैया स्थित तपसी धाम में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर अमर शहीदों की स्मृति में आयोजित तीन दिवसीय हवन यज्ञ के पहले दिन आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में अनेक तीर्थस्थल हैं। सभी जगहों से राष्ट्रीयता की प्रेरणा मिलती है। मठ-मंदिर में जाते हैं तो मन को सुकून और शाति मिलती है। वही राष्ट्रीय एकात्मकता का आधार भी है। राष्ट्र की अस्मिता और अखंडता पर जब भी संकट आया है तो धर्मस्थल खड़े हुए हैं। नदी और तालाब हमारी संस्कृति और जीवन रेखा है। अपने जीवन के इस आधार को हम खारिज कर रहे हैं। यह चिंताजनक है। जीवों पर गंभीर संकट है। नदी संस्कृति को सुरक्षि रखना सरकार, प्रशासन के अलावा नागिरकों की भी नैतिक जिम्मेदारी है। नदियों में गंदगी का प्रवाह करना, मरे हुए पशु डालना जीव व सृष्टि के लिए खतरनाक है। जीव सृष्टि को सुरक्षित करना है तो पहले हम पर्यावरण को संरक्षित करें। राम राज्य की परिकल्पना की पहली भूमि मखौड़ा धाम है। पर्यटन विभाग के माध्यम से इस स्थल का विकास प्रदेश सरकार कराएगी। इसके अलावा तपसी धाम के किनारे स्थित मनोरमा नदी को उद्भव स्थल से लेकर विलय स्थल तक स्वच्छ कराया जाएगा। तपसी धाम में 100 मीटर लंबा घाट बनेगा। धर्मशाला और बाउंड्रीवाल का निर्माण होगा।

सीएम ने कहा कि सरकारें बहुत आईं और चली गईं पर पहली बार नरेंद्र मोदी की सरकार ने समाज के दबे कुचले, पिछड़े, दलित, गरीब, नौजवान, महिलाओं के बार में सोचा। तुष्टीकरण किसी का नहीं किया जा रहा है। सभी के हितों को ध्यान में रखकर कार्य किया जा रहा है। अकेले यूपी में एक साल के भीतर 13 लाख गरीबों को आवास मिला। एक करोड़ तीन लाख घरों को शौचालय दिया गया। 46 लाख घरों का विद्युतीकरण किया गया। प्रदेश में 7000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग था जिसे 11000 किलोमीटर किया गया। गरीबों को राशन, पेंशन, शिक्षा, चिकित्सा की सुविधा दी जा रही है। यूपी में विकास के नए आयाम स्थापित किए जा रहे हैं। हमारी सरकार भारतीय परंपरा को आगे बढ़ा रही है। पिछले साल अयोध्या में दीपावली पर दीपोत्सव मनाया गया था। इस बार यह आयोजन और भव्य होगा। 84 कोसी परिक्रमा के सभी पड़ाव पर धर्मशाला बनेंगे, सड़कों का निर्माण होगा।

प्रदेश में प्लास्टिक की पन्नी पर पूरी तरह प्रतिबंध है। यह कदम पर्यावरण की सुरक्षा की दृष्टि से उठाया गया है। आम नागरिक भी प्लास्टिक का उपयोग कतई न करें। एक-एक नागरिक स्वतंत्रता दिवस पर पौधे लगाए। प्रदेश में नौ लाख पौधे लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इससे पूर्व सीएम का हेलीकाप्टर जैसे ही तपसी धाम पहुंचा विधायक और अधिकारियों ने अगवानी की। हर्रैया के विधायक अजय सिंह, कप्तानगंज विधायक सीए चंद्र प्रकाश शुक्ल, रुधौली के विधायक संजय जायसवाल, सदर विधायक दयाराम चौधरी, महादेवा के विधायक रवि सोनकर, डुमरियागंज के विधायक राघवेंद्र प्रताप सिंह, नौगढ़ के विधायक श्यामधनी राही, भाजपा के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष अजय सिंह गौतम, राजेंद्र नाथ तिवारी, चंद्रभूषण मिश्र, मंडलायुक्त अलका टंडन भटनागर, जिलाधिकारी डा. राजशेखर, डीआइजी डा. राकेश शकर, एसपी दिलीप कुमार सहित अन्य अधिकारियों व भाजना नेताओं ने स्वागत किया

You May Also Like

English News