Big Breaking: लखनऊ में इण्टर के छात्र की गोली मारकर हत्या!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मलिहाबाद इलाके में गुरुवार की देर रात घर में सो रहे इण्टर के छात्र की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। वारदात को छात्र के पड़ोस में रहने वाले दो सगे भाइयों ने अंजाम दिया। फिलहाल पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि दूसरे की तलाश में लगी है। मृतक छात्र के पिता ने महिलाहाबाद कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करायी है।


मलिहाबाद के खण्डसरा गांव में मलिहाबाद कोतवाली में तैनात होमगार्ड रमाकांत अपने परिवार के साथ रहता है। रमाकांत का बेटा 19 वर्षीय पवन चंद्रशेखर इण्टर कालेज में 12वीं का छात्र था। गुरुवार की रात रमाकांत की ड्यूटी मलिहाबाद की रहीमाबाद चौकी में लगी थी। पवन के छोटे भाई 13 वर्षीय विशाल ने बताया कि पवन और उसने रात करीब एक बजे तक पढ़ाई की।

इसके बाद दोनों भाई घर के आहते में सो गये। रात करीब दो बजे रामकांत के पड़ोस में रहने वाला कैलाश और उसका भाई रामकुमार होमगार्ड के घर के पीछे का दरवाजा तोड़कर आहते में पहुंचे गये, जहां पवन और विशाल सो रहे थे। दोनों ने भाइयों ने पवन के सिर पर गोली मार दी। गोली की आवाज सुनते ही विशाल की आंख खुल गयी। उसने देखा कि कैलाश के हाथ में असलहा है।

विशाल ने शोर मचाने की कोशिश की तो आरोपियों ने उसपर असलहा तान दिया और जान से मारने की धमकी दी। इस बीच विशाल सदमे के चलते बेहोश होकर वहीं गिर पड़ा। गोली चलने की आवाज सुनकर परिवार के लोग दौड़े तो आरोपी वहां से भाग निकले। सूचना मिलते ही मौके पर मलिहाबाद पुलिस भी पहुंच गयी। पुलिस ने छानबीन कर पवन के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस मामले में होमगार्ड रमाकांत ने आरोपी कैलाश और उसके भाई रामकुमार के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करायी है। पुलिस ने आरोपी कैलाश को गिरफ्तार कर लिया है और उसके भाई रामकुमार की तलाश में लगी है।

थाने पहुंचकर आरोपी ने बतायी सारी घटना
छात्र पवन की हत्या करने के बाद आरोपी कैलाश खुद ही मलिहाबाद कोतवाली पहुंच गया। उसने कोतवाली में मौजूद पुलिस वालों को पवन की हत्या करने की बात बतायी। कैलाश की बात सुन कोतवाली में मौजूद पुलिस वाले सन्न रह गये। इसके बाद पुलिस ने आरोपी कैलाश को पकड़ लिया और छात्र पवन के घर पहुंच गयी।

हत्या के पीछे दो अलग-अलग वजह सामने आयी
छात्र पवन की हत्या के मामले मेें छानबीन कर रही मलिहाबाद पुलिस को हत्या से जुड़ी दो अलग-अलग वजह पता चली है। पुलिस का कहना है कि पवन और कैलाश एक साथ मौजूदा ग्राम प्रधान इरफान के यहां लिखा-पढ़ी का काम करते थे। इस बीच कैलाश की प्रधान से अनबन हो गयी और उसने काम छोड़ दिया। वहीं पवन प्रधान के घर काम कर रहा था। आरोपी कैलाश पवन को प्रधान के यहां काम करने से मना कर रहा था। इस बात को लेकर दोनों के बीच रंजिश चल रही थी। दूसरी तरफ यह बात भी निकल कर सामने आयी है कि पवन के एक महिला से संबंध थे। यह बात कैलाश को बुरी लगती थी। कैलाश ने पवन को इस बात के लिए मना भी किया था और धमकी भी दी थी। फिलहाल मलिहाबाद पुलिस दोनों ही बिंदुओं पर काम कर रही है।

सेना में भर्ती होना चाहता था पवन
छात्र पवन की हत्या के बाद से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। छोटा भाई विशाल को घटना को मंजर ही नहीं भूल पा रहा है और वह अभी सदमे में है। वहीं परिवार के लोगों ने बताया कि पवन सेना में भर्ती होना चाहता था। इसके लिए वह तैयारी भी कर रहा था। तीन दिन पहले पवन सेना की फीजिकल परीक्षा देने के लिए कानपुर भी गया था। परिवार के लोग पवन में सेना में भर्ती होने का सपना देख रहे थे।

You May Also Like

English News