Big News: फिर शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन ने की राम मंदिर निर्माण की वकालत, 10 हजार चंदा भी दिया!

अयोध्या: बाबरी मस्जिद और राम मंदिर को लेकर अक्सर कुछ ना कुछ सुनने को मिल ही जाता है। अब शिया वक्फवोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने एक बार फिर राम मंदिर निर्माण को लेकर पहल की है। सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी अयोध्या पहुंच कर श्री राम जन्मभूमि न्यास अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास को जन्मोत्सव की बधाई दी।


वसीम रिजवी श्री राम जन्मभूमि न्यास कार्यशाला भी गएए जहां पर मंदिर निर्माण के लिए रखे पत्थरों को देखाण् वसीम रिजवी ने सेकुलर मुस्लिम की बात करते हुए राम मंदिर निर्माण के लिए 10 हजार रुपए दान किया। इस दान को मोहब्बत का पैगाम बताते हुए वसीम रिजवी ने कहा कि मंदिर बनते समय और दान देंगे।

इस दौरान वसीम रिजवी मुस्लिमों पर बरसते हुए कहा कि कट्टर मुस्लिम राम मंदिर निर्माण में बाधा बने हुए हैंण् एक मुकदमा जीतने से बेहतर है कि करोड़ों राम भक्तों का दिल जीता जाए। वसीम ने कहा कि देश मोहब्बत और भाईचारे से चलेगा जो लोग नफरत को बढ़ावा देते हैंए उन्हें पाकिस्तान चला जाना चाहिए जैसे दाऊद पाकिस्तान चला गया।

वसीम रिजवी ने कहा कि मुस्लिमों को भी सेकुलर बनना चाहिए जिससे यह विवाद खत्म हो और हम सभी शांतिपूर्वक रह सकें। अयोध्या में राम मंदिर का ही निर्माण होना चाहिए। मुस्लिमों को अयोध्या में मस्जिद नहीं चाहिए कुछ लोग हैं जो अयोध्या में मस्जिद बनाने की बात कर अपनी रोजी रोटी चला रहे हैं। इसके लिए पाकिस्तान से फंडिंग की जाती हैण् वहां के लोग नहीं चाहते हैं कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो लेकिन अयोध्या में राम मंदिर का ही निर्माण होगा।

राम मंदिर मामले में योगी सरकार के खेल मंत्री चेतन चौहान ने कहा कि राम मंदिर बिल्कुल बनेगा। कोर्ट का फैसला हमारे पक्ष में आएगा। बहुत जल्द राम मंदिर का निर्माण होगा और इसकी तैयारी चल रही है। वसीम रिजवी के बयान को लेकर बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जिलानी ने कहा कि मुसलमान जो भी हैए उसे कट्टर होना ही चाहिए।

अगर वसीम रिजवी कोई दूसरी पहचान रखते हो तो नहीं कह सकतेए लेकिन मुसलमान दुनिया में वही पहचाना जाता है जो अपने मजहब पर हो। मजहब पर कायम रहना कट्टरपंथ नहीं कहलाता है।

ये संवैधानिक अधिकार है अगर वसीम रिजवी इस्लाम पर नहीं रहना चाहते हैं तो हमे कुछ नहीं कहना है। बाबरी मस्जिद और राम जन्मभूमि का मामले का वसीम रिजवी से कोई लेनादेना नहीं है। कोर्ट ने भी कह दिया था कि आपको इस मामले में क्या लेनादेना है। शिया कम्युनिटी भी उनकी नहीं सुनती है वो केवल मीडिया में बने रहने के लिए ऐसी बयानबाजी करते हैं।

You May Also Like

English News