Bihar board 12th result 2018: आज आएगा इंटरमीडिएट का रिजल्ट, यहां देख सकते हैं नतीजे

12वीं की परीक्षा देने वाले छात्रों का इंतजार खत्म हो रहा है. आज शाम साढ़े चार बजे बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (बीएसईबी) इंटरमीडिएट (12वीं) के नतीजों की घोषणा करेगी. रिजल्ट की घोषणा शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा करेंगे. इस मौके पर शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन, और बीएसईबी के अध्यक्ष आनंद किशोर मौजूद रहेंगे. छात्र अपना रिजल्ट समिति की वेबसाइट www.bsebssresult.com/bseb/, biharboardonline.bihar.gov.in और biharboard.ac.in पर देख सकेंगे.12वीं की परीक्षा देने वाले छात्रों का इंतजार खत्म हो रहा है. आज शाम साढ़े चार बजे बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (बीएसईबी) इंटरमीडिएट (12वीं) के नतीजों की घोषणा करेगी. रिजल्ट की घोषणा शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा करेंगे. इस मौके पर शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन, और बीएसईबी के अध्यक्ष आनंद किशोर मौजूद रहेंगे. छात्र अपना रिजल्ट समिति की वेबसाइट www.bsebssresult.com/bseb/, biharboardonline.bihar.gov.in और biharboard.ac.in पर देख सकेंगे.   रिजल्ट घोषित करने से पहले शनिवार को बिहार बोर्ड ने विवादों से बचने के लिए 32 टॉप परफॉर्मर स्टूडेंट्स की फिजिकल वेरिफिकेशन की है और उनका आई क्यू टेस्ट लिया है. इतना ही नहीं बिहार बोर्ड ने टॉप परफॉर्मर की हैंडराइटिंग को भी आसंर शीट के साथ मैच करके देखा है. बिहार बोर्ड ने पहले ही टॉप स्कोरर की जांच करने के लिए एक टीम का गठन कर दिया था.   CBSE NEET result 2018: 99.99 percentile के साथ बिहार की बेटी कल्पना कुमारी ने किया टॉप   इंटरमीडिएट की परीक्षा में राज्यभर से 12,07,986 छात्र-छात्राएं शामिल हुए थे. जिसमें छात्रों की संख्या 7,19,848 थी. इस बार परीक्षा नए पैटर्न के आधार पर ली गई थी. इस बार 50 फीसदी प्रश्न ऑब्जेक्टिव पूछे गए थे. जिसका जवाब ओमआर शीट पर देना था. इसके अलावा 30 प्रतिशत प्रश्न दो-दो अंक वाले पूछे गये थे. वहीं 20 प्रतिशत दीर्घउत्तरीय प्रश्न थे. 6 फरवरी से 16 फरवरी तक चली परीक्षा में काफी सख्ती बरती गई थी. ध्यान रहे कि पिछले कुछ सालों से मैट्रिक और इंटर की परीक्षा के दौरान नकल और उत्तर पुस्तिका जांच के बाद टॉपर बनने को लेकर पूरे बिहार की बदनामी हुई है.

रिजल्ट घोषित करने से पहले शनिवार को बिहार बोर्ड ने विवादों से बचने के लिए 32 टॉप परफॉर्मर स्टूडेंट्स की फिजिकल वेरिफिकेशन की है और उनका आई क्यू टेस्ट लिया है. इतना ही नहीं बिहार बोर्ड ने टॉप परफॉर्मर की हैंडराइटिंग को भी आसंर शीट के साथ मैच करके देखा है. बिहार बोर्ड ने पहले ही टॉप स्कोरर की जांच करने के लिए एक टीम का गठन कर दिया था

इंटरमीडिएट की परीक्षा में राज्यभर से 12,07,986 छात्र-छात्राएं शामिल हुए थे. जिसमें छात्रों की संख्या 7,19,848 थी. इस बार परीक्षा नए पैटर्न के आधार पर ली गई थी. इस बार 50 फीसदी प्रश्न ऑब्जेक्टिव पूछे गए थे. जिसका जवाब ओमआर शीट पर देना था. इसके अलावा 30 प्रतिशत प्रश्न दो-दो अंक वाले पूछे गये थे. वहीं 20 प्रतिशत दीर्घउत्तरीय प्रश्न थे. 6 फरवरी से 16 फरवरी तक चली परीक्षा में काफी सख्ती बरती गई थी. ध्यान रहे कि पिछले कुछ सालों से मैट्रिक और इंटर की परीक्षा के दौरान नकल और उत्तर पुस्तिका जांच के बाद टॉपर बनने को लेकर पूरे बिहार की बदनामी हुई है.

You May Also Like

English News