BJP नेता भाटी की हत्या का हुआ बड़ा खुलासा, पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा ने कराई थी हत्या

गाजियाबाद पुलिस ने बीजेपी नेता गजेंद्र भाटी की हत्या का खुलासा कर दिया है. पुलिस के मुताबिक पूर्व बसपा विधायक अमरपाल शर्मा ने भाटी की हत्या कराई थी. इस हत्या के लिए दस लाख रुपये की सुपारी तय हुई थी. इस सनसनीखेज मर्डर को खुद पूर्व विधायक के पीएसओ नरेंद्र फौजी ने अंजाम दिया था. जो अब पुलिस की गिरफ्त में है.BJP नेता भाटी की हत्या का हुआ बड़ा खुलासा, पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा ने कराई थी हत्या…तो इसलिए राहुल तोड़ेंगे लालू से गठबंधन, बिहार कांग्रेस विधायकों ने की मांग

गाजियाबाद के खोड़ा इलाके में बीजेपी के नेता गजेंद्र भाटी और प्रदीप चौहान पर जानलेवा हमला किया गया था. जिसमें गजेंद्र भाटी की मौत हो गई थी. वारदात बीती 2 सितम्बर को अंजाम दी गई. इस मामले में पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा के खिलाफ साजिश रचने, हत्या और हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया गया था.

पुलिस ने इस मामले का खुलासा करते हुए साहिबाबाद के पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा के PSO नरेंद्र फौजी को गिरफ्तार कर लिया है. उसने इस पूरे हत्याकांड का खुलासा कर दिया है, जबकि आरोपी अमरपाल शर्मा फरार है. गिरफ्तार फौजी ने खुलासा करते हुए बताया कि गजेंद्र की हत्या अमरपाल ने राजनीतिक रंजिश के कारण कराई थी. इससे पहले भी वो अमरपाल के कहने पर एक और हत्या कर चुका है.

शूटर नरेंद्र फौजी के मुताबिक इस हत्या के लिए 10 लाख रुपये बतौर सुपारी तय हुए थे. उसने बीजेपी नेता गजेंद्र भाटी को चार गोलियां मारी थीं. भाटी के साथ मौजूद बलवीर चौहान को भी गोली लगी थी. पुलिस के मुताबिक इस मामले का खुलासा सीसीटीवी की मदद से हुआ है.

दरअसल, खोड़ा इलाके में लगे एक सीसीटीवी कैमरे में बीजेपी नेता गजेंद्र भाटी के हत्या करने आए शूटर उस वक्त कैद हो गए थे, जब वे क़त्ल के लिए जा रहे थे. उसी में अमरपाल शर्मा के पीएसओ की पहचान हुई. वह कुछ समय पहले फौज से रिटायर होकर अमरपाल शर्मा का सुरक्षा गार्ड बन गया था. नरेंद्र फौजी ने इस हत्या के लिए 10 लाख रुपये की सुपारी ली थी. 

नरेंद्र ने पूछताछ में खुलासा किया कि गजेंद्र और अमरपाल शर्मा दोनों ही खोड़ा नगर पालिका से चुनाव लड़ना चाहते थे. इतना ही नहीं नरेंद्र फौजी ने कबूल किया कि उसने दिसंबर 2014 में समाजवादी पार्टी के पूर्व पार्षद प्रदीप चौधरी उर्फ टीटी की भी हत्या कर दी थी. वो हत्या भी उसने अमरपाल शर्मा के कहने पर ही की थी.

इस हत्या में नरेंद्र फौजी के साथ राजू पहलवान भी शामिल था. नरेंद्र फौजी की गिरफ्तारी ने साफ कर दिया है कि अमरपाल शर्मा ही इस हत्याकांड का मास्टर माइंड है. पुलिस किसी भी समय अमरपाल शर्मा को गिरफ्तार कर सकती है. फिलहाल, वह फरार है.

You May Also Like

English News