BJP संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने इंदिरा गांधी से की अपनी तुलना…

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भाजपा को मिली जीत के बाद पार्टी नेतृत्व के हौसले बढ़े हुए हैं। इन चुनावों में मिली जीत के बाद पहली बार भाजपा संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने अपनी तुलना पूर्व पीएम इंदिरा गांधी से कर दी। जीत का क्रम गिनाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि राजनीतिक पंडितों को यह याद रखना चाहिए कि केंद्र में सरकार बनाने के बाद किस पार्टी ने इतने चुनाव जीते हैं। उन्होंने कहा कि सत्ता आने के बाद एंटी इंकम्बेंसी की संभावना रहती है। बावजूद उसके भाजपा ने लगातार चुनाव जीते हैं।BJP संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने इंदिरा गांधी से की अपनी तुलना...मुख्यमंत्री आवास के पास सेल्फी पर बैन, अखिलेश ने ट्वीट कर ली चुटकी

पीएम मोदी ने कहा कि, ‘यदि कोई इसपर शोध करे तो शायद हम इंदिरा गांधी से भी आगे निकल गए हैं। केंद्र की सत्ता में आने के बाद भाजपा ने कई राज्यों के चुनाव जीते हैं। इससे पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दोनों ही राज्यों गुजरात और हिमाचल में पार्टी की जीत के लिए पीएम मोदी को श्रेय दिया। 

कार्यकर्ता की तरह कार्य करते हैं पीएम मोदी-शाह
संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि पीएम मोदी आज भी कार्यकर्ता के तौर पर कार्य करते हैं। उन्होंने गुजरात चुनाव में पीएम मोदी के योगदान की भूरी-भूरी प्रशंसा की। बताया जा रहा है कि शाह के कहने पर पीएम मोदी ने न सिर्फ अपनी चुनावी सभाएं बढ़ाईं बल्कि सुरक्षा अधिकारियों तक को निर्देश दिए थे कि वे कोई रोड़ा न अटकाएं। सूत्र बताते हैं कि पीएम मोदी चुनाव के दौरान देर रात तक फोन के जरिए वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से संपर्क में रहे। इसके अलावा खुद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शक्ति केंद्र प्रमुखों की बैठक के अलावा करीब 5000 कार्यकर्ताओं को फोन पर बातचीत कर चुनाव के लिए उनका उत्साह बढ़ाया। 

तीन बार भावुक हुए पीएम मोदी, मणियार नाम ले भावुक हुए पीएम 
संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी अपने संबोधन के दौरान तीन दफे भावुक हुए। सबसे पहले गुजरात में भाजपा के सफर की नींव रखने वाले अरविंद मणियार और मकरंद देसाई के नाम का उल्लेख करते हुए पीएम मोदी भावुक हुए। उसके बाद 1991 के लोकसभा चुनाव में राज्य में भाजपा की जीत का उल्लेख करते हुए उनके आंखों में आंसू छलके और पीएम ने भावुक मन से पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया। उन्होंने कहा कि अटल जी आज स्वस्थ्य होते तो बेहद प्रसन्न होते। वर्ष 1991 के दृश्य का हवाला देते हुए मोदी ने कहा कि उस समय में लोकसभा चुनाव में भाजपा को अकेले गुजरात से 20 सीटों पर जीत मिली थी। अटल जी को जब वे मिले तब अटल ने उन्हें बांहों में भरते हुए भावुक अंदाज में कहा कि जितनी सीटें देश में नहीं मिली अकेले गुजरात से मिली हैं। बतौर मोदी इसके लिए अटल ने उन्हें बाहों में भरते हुए काफी देर तक जकड़े रखा और पीठ थपथपाई। 

जानिए कौन हैं मणियार, जिनका नाम ले भावुक हुए मोदी
अरविंद मणियार का नाम लेकर पीएम मोदी के भावुक होने के बाद मणियार को लेकर लोगों में उत्सुकता बहुत बढ़ गई है। दरअसल अरविंद भाई मणियार की राजकोट मेयर पद पर जीत के साथ ही गुजरात में भाजपा का कमल खिला था। उनके बड़े भाई प्रवीण मणियार की गिनती संघ के वरिष्ठ प्रचारकों में होती थी। वे गुजरात में संघ के प्रांत प्रचारक रहे थे। भाजपा के टिकट पर राजकोट के मेयर पद पर अरविंद मणियार की जीत के बाद से राजकोट पार्टी की पहचान बना। उनके कुशल नेतृत्व ने यहां भाजपा को पहचान दी। इसके बाद से शहर के लोगों का लगाव भाजपा की ओर बढ़ा और आज भाजपा पूरे राजकोट में अभेद बनी हुई है। इस बार के चुनाव में भी तमाम विरोधों के बावजूद भाजपा को राजकोट से बेहतर परिणाम मिले हैं।

You May Also Like

English News