Blackmail: चेचेरी बहन को ही युवक कर रहा था ब्लैकमेल, जानिए कैसे!

लखनऊ: एक युवती के मोबाइल फोन से उसके चचेरे भाई ने ही अश्लील फोटो हासिल कर ली और फिर आरोपी ने अपने साथी संग युवती को ब्लैकमेल करने लगा। आरोपियों ने युवती की अश्लील फोटो सोशल मीडिया पर वायरल की धमकी देते हुए पांच लाख रुपये की मांग की। युवती के एक मित्र ने इस संबंध में लखनऊ के सरोजनीनगर थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी। इस मामले में साइबर क्राइम सेल की टीम ने मंगलवार को युवती के चचेरे भाई और उसके एक साथी को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों के पास दो मोबाइल फोन भी बरामद किये हैं।


एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि सरोजनीनगर थाने में 16 जून को एक युवक ने इस बात की रिपोर्ट दर्ज करायी थी कि उसकी महिला मित्र के मोबाइल से किसी ने धोखे से उसकी अश्लील फोटो हासिल कर ली। इसके बाद आरोपियों ने युवती को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। आरोपियों ने युवती को पहले वाट्सअप पर मैसेज भेजा और उसकी अश्लील फोटो को वायरल करने की धमकी देते हुए पांच लाख रुपये की मांग की।

वाट्सअप मैसेज के बाद आरोपियों ने युवती को फोन कर रुपये की मांग रखी। आरोपी ने युवती को रुपये लेकर मिर्जापुर जनपद बुलाया। इस मामले में सरोजनीनगर पुलिस ने धमकी और रंगदारी मांगने की रिपोर्ट दर्ज की। मामला इंटरनेट और मोबाइल फोन से जुड़ा था तो सरोजनीनगर पुलिस ने साइबर क्राइम सेल से आरोपियों की धर-पकड़ के लिए मदद मांगी।

इस मामले में सर्विलांस की मदद से मंगलवार को साइबर क्राइम सेल ने सहारागंज के पास से दो आरोपियों को गिरफ्तार किया। आरोपियों के पास से पुलिस ने दो मोबाइल फोन बरामद किये। दोनों मोबाइल फोन में युवती की अश्लील फोटो मौजूद थी। पूछताछ की गयी तो पकड़े गये आरोपियों ने अपना नाम जौनपुर जनपद निवासी कामेश मिश्र और उत्कर्ष शुक्ला बताया। पकड़ा गया आरोपी कामेश मिश्र पीडि़त युवती का चचेरा भाई है। आईजी रेंज ने इस घटना के आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को 20 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है।

70 हजार रुपये में तय हुई थी डील, लेने आये थे रुपये
साइबर क्राइम सेल में तैनात इंस्पेक्टर विजय वीर सिंह ने बताया कि आरोपी कामेश अपने साथी उत्कर्ष संग मिलकर युवती को ब्लैकमेल कर रहा था। पांच लाख रुपये से शुरू हुई मांग 70 हजार रुपये तक आ गयी। आरोपी पीडि़त युवती से 70 हजार रुपये लेने के लिए राजी हो गये। युवती ने दोनों को सोमवार को सहारागंज रुपये लेने के लिए बुलाया था। वहीं साइबर क्राइम सेल ने पहले से ही आरोपियों को पकडऩे के लिए जाल बिछा रखा था।

बहाने से मांगा था युवती का फोन
साइबर क्राइम सेल के नोडल अधिकारी सीओ हजरतगंज अभय कुमार ने बताया कि पकड़े गये आरोपी कामेश डिप्लोमा कर रहा है, जबकि उत्कर्ष बीकॉम का छात्र है। कुछ समय पहले आरोपी कामेश युवती से मिलने के लिए आया था। मुलाकात के दौरान कामेश ने पीडि़त युवती का मोबाइल फोन बहाने से मांगा था और उसको ब्लूडूथ से कनेक्ट कर युवती के मोबाइल फोन से उसकी अश्लील फोटो अपने मोबाइल फोन में ट्रांसफर कर ली। इसके बाद आरोपी कामेश ने उत्कर्ष के साथ मिलकर अपनी ही चचेरी बहन को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया।

You May Also Like

English News