Breaking: एनटीपीसी हादसे में मरने वालों को अब 20-20 लाख के मुआवजे की घोषणा!

लखनऊ: रायबरेली के ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी की एक यूनिट में बॉयलर विस्फोट में मरने वालों को अब 20-20 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया गया है। इसके साथ घायलों को हर संभव इलाज दिये जाने की बात भी कही गयी है। एनटीपीसी की एक यूनिट के ब्वॉयलर में ब्लास्ट को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने मानवीय लापरवाही नहीं माना है।

आज ऊंचाहार पहुंचे आरके सिंह ने उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के साथ घटना स्थल का निरीक्षण किया। केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने कहा कि हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को केंद्र सरकार की तरफ से 20-20 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी। वहीं घायलों को 10-10 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा।

मामूली रूप से घायल लोगों को 2-2 लाख रुपए दिए जाएंगे। एनटीपीसी ने भी मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया। एनटीपीसी के आंचलिक प्रशासनिक अधिकारी आरएस राठी के अनुसार मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की आर्थिक मदद दी जाएगी।

वहीं घायलों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जएगी। इसके साथ ही मृतक के परिवार को हम प्रधानमंत्री सहायता कोष से दो-दो लाख तथा सीएम सहायता कोष से भी दो-दो लाख की धनराशि प्रदान की जाएगी। निरीक्षण के बाद आरके सिंह ने कहा कि मैंने यूनिट का निरक्षण किया है। मेरा तो यह आकलन है कि यह दुर्घटना ही हैए कोई मानवीय लापरवाही या भूल नहीं है।

उन्होंने कहा कि अब हमारी प्राथमिकता घायल तथा गंभीर रूप से घायलों को किसी भी कीमत पर बचाने की है। हमको इसके लिए देश के किसी भी बड़े अस्पताल की मदद लेनी होगीए हम लेंगे। हमने लखनऊ में दो.दो एयर एम्बुलेंस लगा रखी हैं। इसके साथ ही आधुनिक सुविधा वाली एम्बुलेंस भी लखनऊ के साथ ही रायबरेली के भी अस्पतालों में लगी हैं।

हम मानव की जान को बचाने में हर कीमत पर लगे हैं। आरके सिंह ने कहा कि एनटीपीसी की ऊंचाहार की यूनिट देश की सर्वश्रेष्ठ यूनिट है। यह अफवाह फैलाई जा रही है कि इस यूनिट पर लोड अधिक थाए उत्पादन बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा था। आरके सिंह ने कहा कि जहां तक यहां की बात है तो यह दुर्घटना ही है।

यहां पर यह बड़ा हादसा कोई मानवीय भूल नहीं है। यह भी कहा कि यूनिट बेहतर थीए हादसा कैसे हुआ जांच टीम यह निष्कर्ष निकालेगी। उन्होंने कहा कि इस हादसे की हमने जांच का आदेश दिया है। जांच रिपोर्ट हमको 30 दिन में मिल जाएगी। हम इस हादसे की जांच 30 दिन में करा लेंगे।

केंद्रीय गृह सचिव रहे ऊर्जा मंत्री ने एनटीपीसी परिसर में अमेठी से सांसद तथा कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से भी मुलाकात की। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि प्रदेश के साथ ही केंद्र सरकार इस हादसे के कारण प्रभावित हर परिवार की सहायता में लगी है। हादसे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। मेरा दावा है कि यहां पर कोई भी साजिश नहीं हुई है।

 

You May Also Like

English News