Breaking: देखिए मदरसे में छात्राओं के साथ क्या हो रहा था, पुलिस ने मारा छापा, तब खुला सच!

लखनऊ: सआदतगंज इलाके में चले रहे मदरसे में पढऩे वाली छात्राओं के मानसिक और शारीरिक रूप से शोषण का गंभीर मामला सामने आया है। मदरसे में रहने वाली छात्राओं ने पड़ोसियों की छत पर पर्चे फेंक कर जान बचाने की मांग की। इसके बाद यह मामला पुलिस और प्रशासन तक पहुंचा। शुक्रवार की देर रात पुलिस ने मदरसे पर छापेमारी करते हुए मदरसे के संचालक को गिरफ्तार कर लिया। वहीं मदरसे में बंधक बनायी गयी 51 छात्राओं को भी पुलिस ने मुुक्त कराया।


इन्दिरानगर निवासी सैय्यद मोहम्मद जिलानी अशरफ ने सआदतगंज के चौपटिया इलाके मेें कुछ समय पहले खदीजतुल कुबार लिलवनात् के नाम से एक मदरसा खोला था। इस मदरसे की देखरेख और संचालन की जिम्मेदारी उन्होंने यासीनगंज निवासी कारी तैय्यब जिया को दी थी।

जिलानी अशरफ का कहना है कि कुछ समय के बाद तैय्यब जिया ने मदरसे का प्रयोग बतौर हास्टल शुरू कर दिया और सिर्फ लड़कियों को ही वहां रहने की इजाजत थी। इस मदरसे में मौजूद समय में 125 छात्राएं पढ़ रही थीं। शुक्रवार को इस मदरसे के पड़ोस में बने घरों की छत पर कुछ छात्राओं ने पर्चे फेंके। लोगों को जब यह पर्चे हाथ लगे तो लोग सन्न रह गये। पर्चे में छात्रों ने मदरसे में बंधक बनाये जाने और प्रताडि़त किये जाने की बात लिखी थी। मोहल्ले के लोगों ने फौरन इस बात की सूचना मदरसे के मालिक जिलानी अशरफ को दी।

खबर मिलते ही जब जिलानी अशरफ मदरसे पहुंचे तो छात्रों अंदर थीं और बाहर से ताला लगा था। जिलानी अशरफ ने फौरन इस बात की शिकायत सआदतगंज पुलिस से की। इसके बाद यह मामला पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के कान तक पहुंच गया। शुक्रवार की रात पुलिस, प्रशासन और चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के लोगों ने मिलकर इस मदरसे पर छापा मारा।

छापे के दौरान मदरसे में 51 छात्राएं पुलिस को मिली। पुलिस ने सभी को मदरसे से मुक्त कराया। इसके बाद पुलिस ने मदरसे के संचालक कारी तैय्यब जिया को गिरफ्तार कर लिया। एसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि फिलहाल इस मामले में मदरसे के संचालक और उसके साथियों के खिलाफ छेडख़ानी, पोस्को एक्ट सहित अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली गयी है। छात्राएं से चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के लोग बातचीत कर बयान दर्ज कर रहे हैं। अगर जरूरत पड़ी को धाराओं में बढ़ोतरी भी की जायेगी।

आरोपी संचालक ने पुलिस से की थी झूठी शिकायत
मदरसे के मालिक जिलानी अशरफ का कहना है कि शुक्रवार को जब उनको इस बात की शिकायत मिली तो आरोपी संचालक तैय्यब जिया ने उनसे सम्पर्क करते हुए इस मामले से दूर रहने की सलाह दी। सिर्फ इतना ही नहीं आरोपी ने खुद को बचाने के लिए सैड्ढय्यद जिलानी अशरफए अहमद मिया और फुरकान अली के खिलाफ झूठी शिकायत कर दी।

मदरसा मालिक की शिकायत को पुलिस ने गंभीरता से नहीं लिया
इस मदरसे में रहने वाली छात्राओं के साथ हो रही अमानवीय घटना का पता जब मदरसे के मालिक सैय्यद मोहम्मद अशरफ को चला तो वह शिकायत लेकर सआदतगंज पुलिस के पास पहुंचे। उनका आरोप है कि पुलिस ने उनकी शिकायत को गंभीरता से नहीं लिा। इसके बाद उन्होंने किसी तरह एसएसपी दीपक कुमार को फोन कर मामले की जानकारी दी। इस जानकारी के एसएसपी ने एसपी पश्चिम को टीम बनाकर मदरसे पर छापेमारी का आदेश दिया। इस मामले में एसएसपी दीपक कुमार का कहना है छात्राओं को उनके परिवार वालों के हवाले किया जा रहा है।

You May Also Like

English News