China के खिलाफ India का बड़ा फैसला, अब 5 साल तक बूरी तरह रोयेगा चीन…विडियो

भारत-चीन विवाद के बीच चीन लगातार भारत को धमकाने की कोशिशें कर रहा है, लेकिन भारत की और से भी उसे राजनीतिक और आर्थिक मोर्चे पर ऐसा करारा जवाब दिया जा रहा है जिसकी कल्पना चीन ने सपने में भी नहीं की थी.हाल ही में भारतीय सेना ने लद्दाख में चीन को पीछे हटने पर मजबूर किया है,डोकलाम विवाद में चीन को करारा झटका लगा था और अब एक और बड़ा झटका भारत ने दिया है !

इसमें कोई शक नहीं कि चीनी कंपनियां भारत से खासी कमाई करती हैं भारत के जरिए चीन आर्थिक रूप से काफी मजबूत हुआ है लेकिन अब उसी आर्थिक मजबूती पर मोदी ने करारा प्रहार किया है. अब भारत की मोदी सरकार की नयी निति जो सामने आई है वो ये कि अब उसकी कमाई पर अटैक करने की स्ट्रैटजी पर काम करना चाहती है मोदी सरकार और भारत के यह आर्थिक फैसला सीधे चीनी कंपनियों की कमाई पर असर डालेगा.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें भारत सरकार ने हाहाकारी फैसला लेते हुए चीन से इंपोर्ट होने वाले केमिकल कंपाउंड पोलिटेट्राफ्लोरोइथिलीन (PTFE) पर एंटी डंपिंग ड्यूटी 5 साल के लिए बढ़ा दी है.इस खबर से चीन में हडकंप मच गया और चीनी मीडिया ने भारत के खिलाफ जहर उगला शुरू भी कर दिया चीन से आने वाले इस केमिकल पर प्रति टन के हिसाब से 2,637 डॉलर (करीब 16 लाख रुपए) की एंटी-‍डम्पिंग ड्यूटी लगती है. पोलिटेट्राफ्लोरोइथिलीन का इस्‍तेमाल ज्‍यादातर इलेक्ट्रिकल,इलेक्‍ट्रोनिक, मैकेनिकल और केमिकल इंडस्‍ट्री में किया जाता है,रेवेन्‍यू डिपार्टमेंट ने नोटिफिकेशन जारी कर यह जानकारी दी है.

हाल ही में भारत द्वारा लिए गए फैसलों से परेशान चीन बहुत परेशान है.आपको बता दें कि भारत सरकार ने चीन के 93 प्रोडक्ट्स पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगा दी है, जिससे चीन की बौखलाहट और ज्यादा बढ़ चुकी है और अब चीन आर्थिक रूप से अपने आप को कमजोर पा रहा है हाल ही में चीनी मीडिया ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में मोदी सरकार के इस कदम को काफी गलत बताया गया है। लेख में लिखा है कि चीन को अब भारत में निवेश करने के खतरों के बारे में भी सोचने की जरूरत है।

ऐसा नहीं है कि भारत ने सैन्य रूप से चीन को परेशान नहीं किया सैन्य रूप से भी चीन की नाक में दम करने का काम भारत सरकार ने किया है.डोकलाम में जो रुख भारत ने दिखाया था उसका लौहा पूरी दुनिया ने माना था और चीन की दुनिया के सामने इस मुद्दे पर नाक कटी थी !

 

You May Also Like

English News