CM कार्यालय से हुए इस ट्वीट ने एलडीए और एलएमआरसी में मचाया हडकंप…

एलडीए में पिछले वर्ष हुए भ्रष्टाचार और मनमाने तरीके से बजट खर्च की कैग जांच कराई जा रही है। इसकी सूचना मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीटर पर दी है। ट्वीट में 500 करोड़ रुपये के घोटाले का दावा किया गया है। वहीं लखनऊ मेट्रो सहित जनेश्वर मिश्र पार्क व दूसरे शासकीय प्रोजेक्ट में पैसा मनमाने तरीके से खर्च करने की बात भी कही गई है।CM कार्यालय से हुए इस ट्वीट ने एलडीए और एलएमआरसी में मचाया हडकंप...
मुख्यमंत्री कार्यालय से हुए इस ट्वीट ने मंगलवार को एलडीए और एलएमआरसी में खलबली मचा दी। दोनों जगह के अधिकारी इसके बाद अपने यहां चल रही जांचों को लेकर पता करते हुए मिले। अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक कैग ने एलडीए से भूखंड समायोजन, जानकीपुरम व गोमतीनगर विस्तार में हुए भूखंड आवंटन, सड़क व नाला निर्माण के कामों की सूचनाएं मांगी हैं।

कैग को यह जांच मीडिया में आई अलग-अलग खबरों के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय के आदेश पर दी गई है। एलडीए के सचिव एमपी सिंह का कहना है कि कैग जांच से एलडीए की छवि सुधरेगी। हम हर जांच में प्रदेश सरकार को पूरी मदद कर रहे हैं। कैग जो भी दस्तावेज हमसे चाहेगा उसके अधिकारियों को उपलब्ध करा दिए जाएंगे।

लखनऊ मेट्रो में भी की गई मनमानी

ट्वीट के मुताबिक शासकीय प्रोजेक्ट में जनेश्वर मिश्र पार्क, जेपीएनआईसी की जांच कराए जाने और यहां मनमाने तरीके से बजट खर्च करने की बात कही गई है। इसमें एलडीए के कई नटवरलाल बाबू, पूर्व अधिकारी, पूर्व अभियंता भी जांच में बेनकाब हो सकते हैं। 

मुख्यमंत्री कार्यालय ने अपने ट्वीट में लखनऊ मेट्रो में भी वित्तीय अनियमितता की बात कही है। सूत्रों का कहना है कि कैग से मेट्रो के कामों के लिए टेंडर प्रक्रिया की जांच पर फोकस करने के लिए कहा गया है। इसके अलावा केंद्र और राज्य से मिले बजट को अलग-अलग मद में खर्च करने पर भी जांच हो सकती है।

लखनऊ मेट्रो के प्रवक्ता अमित कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि कैग हमारे वित्तीय लेनदेन का ऑडिट हर साल करता है। कैग रिपोर्ट में मेट्रो के वित्तीय खर्च पर सवाल उठाने की जगह तारीफ ही की गई है। इस साल भी कैग रिपोर्ट आ चुकी है। इसमें भी कोई अनियमितता कैग को नहीं मिली थी। अगर प्रदेश सरकार को लगता है कि कोई वित्तीय अनियमितता है तो इसकी जांच के लिए लखनऊ मेट्रो तैयार है।

 

You May Also Like

English News