CM योगी बोले- लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करना भंसाली की आदत

पद्मावती विवाद पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भंसाली के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने की आदत हो गई है. जितनी गलती प्रदर्शनकारियों की है, उतनी ही गलती संजय लीला भंसाली की है.

CM योगी बोले- लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करना भंसाली की आदतडायरेक्टर पर निशाना साधते हुए सीएम योगी ने कहा, फिल्म के खिलाफ हो रहे विरोध-प्रदर्शन और धमकियों के लिए भंसाली भी समान रूप से जिम्मेदार हैं. उन्हें लोगों की भावनाओं से खेलने की आदत हो चुकी है. उन्होंने कहा, इस विवाद में प्रदर्शनकारियों के साथ फिल्म निर्माताओं के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए.

सीएम योगी ने कहा, किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है. मेरा मानना है कि अगर धमकी देने वाले दोषी हैं तो भंसाली भी कम दोषी नहीं हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा, जान से मारने जैसी धमकियां देने से परहेज करना चाहिए और एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए.

बतौर फिल्ममेकर हमारे अधिकारों का हनन ना हो- सुधीर मिश्रा

गोवा में IFFI कार्यक्रम के दौरान सुधीर मिश्रा ने कहा, जिस तरह से प्रदर्शनकारियों को विरोध करने का अधिकार है, उसी तरह डायरेक्टर को भी अपनी सोच व्यक्त करने का अधिकार है. हम फिल्म बनाने के अपने अधिकार के लिए एकसाथ खड़े हैं. आप फिल्म का विरोध कर सकते हैं लेकिन बतौर फिल्ममेकर हमारे अधिकार का हनन नहीं कर सकते.

PM के इवेंट से दीपिका ने किया किनारा

वहीं पद्मावती पर चल रहे विरोध के बीच एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने खुद को Global Entrepreneurship Summit (GES) से अलग कर लिया है. 28 नवंबर से शुरू होने वाले इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूएस प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका शामिल होने वाली हैं. इस बारे में तेलंगाना सरकार के एक उच्च अधिकारी ने बताया कि दीपिका ने इवेंट में आने से मना कर दिया है. दीपिका 29 नवंबर को यहां एक सेशन Hollywood to Nollywood to Bollywood: The Path to Moviemakin में बोलने वाली थीं.

सलामत रहे दीपिका का सिर

पद्मावती को लेकर दीपिका को मिल रही धमकियों पर कमल हासन ने विरोधियों की चुटकी ली है. कमल ने कहा, ‘मैं चाहता हूं कि दीपिका का सिर सलामत रहे.’

अनारकली पर मुस्लिमों ने नहीं किया विरोध: आजम

एसपी नेता आजम खान ने कहा कि फिल्म ‘मुगल-ए-आजम’ में अनारकली को सलीम की महबूबा दिखाया गया था, लेकिन मुसलमानों ने इसका विरोध नहीं किया था. पद्मावती फिल्म का विरोध करने वालों पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि अंग्रेजी हुकूमत में उनके बस्ते उठाने वाले और सलामी बजाने वाले सम्मान की बात कर रहे हैं.

क्या पद्मावती राष्ट्रमाता ?

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक समारोह में ऐलान किया कि भंसाली की फिल्म पद्मावती मध्यप्रदेश की धरती पर रिलीज नहीं होगी. पद्मावती को राष्ट्रमाता करार देते हुए उन्होंने कहा, ‘महारानी पद्मावती से जुड़े ऐतिहासि‍क तथ्यों से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जाएगी. मैं स्पष्ट कहना चाहता हूं कि मध्यप्रदेश की धरती पर पद्मावती फिल्म रिलीज नहीं होगी.’ यही नहीं शिवराज ने भोपाल में देश की वीरों की याद में बनने वाले वीर भारत स्मारक स्थल में महारानी पद्मावती का स्मारक बनाने की भी घोषणा की.

68 दिन से पहले नहीं होगी रिलीज

इस बीच IFFI में प्रसून ने कहा है कि फिल्म की वर्तमान स्थिति को देखते हुए सर्टिफिकेट देने में 68 दिन लग सकते हैं. उनका यह बयान आजतक की उन रिपोर्ट्स को कंफर्म करता दिखा जिसमें कहा गया था कि सेंसर बोर्ड ने फिल्म के मेकर्स द्वारा सर्टिफिकेट देने की प्रक्रिया को जल्दी करने की अर्जी ठुकरा दी है. पहले इस फिल्म को 1 दिसंबर के दिन रिलीज किया जाना था. प्रसून ने फिल्म को सेंसर बोर्ड में सबमिट करने से पहले कुछ मीडियापर्सन्स को दिखाने पर अपनी निराशा भी जाहिर की. उन्होंने कहा, अगर लोग चाहते हैं कि सेंसर बोर्ड फिल्म पर कोई फैसला ले तो उन्हें बोर्ड को समय, स्वतंत्रता और मानसिक स्पेस देना होगा.

You May Also Like

English News